शराब तस्करों को पकड़ने के लिए ग्राहक बनकर शहर में घूम रहे अधिकारी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

भागलपुर: होली में भी शराब बंदी अभियान पूरी सख्ती से लागू रहे, इसके लिए अधिकारी नाटकीय अंदाज में शहर में घूम रहे है. होली में भी बिहार में शराब पूरी तरह से लोगों तक न पहुंचे इसके लिए उत्पाद विभाग और पुलिस प्रशासन काम कर रहा है.मुख्यालय से लेकर दूसरे जिले के उत्पाद अधिकारी शहर में शराब के ग्राहक बन करघूम रह हैं. डिलीवरी करने वाले लड़कों की पहचान कर रहे है.

लड़कों से पताकिया जा रहा है कि शराब की तस्करी कौन कर रहा है. बात गोपनीयता की करें, तोअधिकारियों के बारे में जानकारी सिर्फ पुलिस के वरीय अधिकारियों को है.इतना ही नहीं शराब को लेकर मुख्यालय थाना स्तर पर भी नजर रखे हुए हैं.सूचना एकत्र की जा रही है कि किस थाना क्षेत्र में शराब बेची जा रही है, इसका आंकड़ाएकत्र किया जा रहा है. पुख्ता प्रमाण के बाद सीधे थाना प्रभारी के नपने की बातकही जा रही है. वहीं, एसएसपी आशीष भारती के निर्देश पर शहर में शराबबंदी केखिलाफ एक माह तक लगातार चलने वाला अभियान भी शुरू हो चुका है.

मुख्यालय और दूसरे जिले के अधिकारियों की लगायी गयी है ड्यूटी
होली से पहले शराब के खिलाफ सरकार का अभियान शुरू हो गया है. शराब तस्कर उत्पाद विभाग के अधिकारियों का चेहरा जानते हैं. ऐसे में शहर में दूसरे जिले से उत्पादविभाग के अधिकारी यहां पहुंच चुके हैं. ये सभी सीधे मुख्यालय को रिपोर्टदेंगे. अधिकारी लगातार डिलिवरी करने वाले लड़के की तलाश कर रहे हैं.इनसे शराब मंगायी जा रही है. लड़के से शराब और शराब तस्कर के बारे मेंपूछा जा रहा है. इससे मिली जानकारी पर ये अधिकारी तस्कर के बारे में पूरीजानकारी जुटा रहे हैं. ऐसे तस्कर के घर पर मुख्यालय से सीधे टीम आकरछापेमारी करगी.
पुराने शराब विक्रेता व नये पर भी नजर
शराब के पुराने तस्कर और नये दोनों पर दूसरे जिले के अधिकारी नजर रखे हुए हैं. ऐसे लोगों की लिस्ट अधिकारियों के पास है और इनकी रेकी जारी है. संभावना है कि ऐसे लोगों पर सीधे कारवाई की जायगी.
गोपनीयता का विशेष ख्याल रख रहा मुख्यालय
इन अधिकारियों के बारे में मुख्यालय खास कर गोपनीयता का ख्याल रख रहा है. शहर में किस जिले से अधिकारी आये हैं, इसकी जानकारी उत्पाद विभाग को भी नहीं है. बताया जा रहा है जिले के वरीय अधिकारियों को इसके बारे में सिर्फ जानकारी है. एक्शन जब ये अधिकारी लेंगे, उससे एक घंटे पहले ही इसकी जानकारी वरीय अधिकारियों को होगी. यानी किसके घर में छापेमारी होगी यह जानकारी थाना को भी नहीं होगी.
पुलिस को दिया गया टास्क
शराब तस्करों के खिलाफ पुलिस को भी टास्क दिया गया है. अधिकारियों से कहा गया है, वे इसके लिए खास तौर पर रणनीति बनायें. इसे बनाने के बाद मुख्यालय से जो वीसी होता है उसमें रखे, जिससे इस योजना को जमीन पर और मजबूती से उतारा जा सके.
नदी और दियारा इलाके पर भी नजर
शराब तस्कर नदी और दियारा इलाके में शराब की खेप उतारने का प्रयास कर सकते हैं. ऐसे में मुख्यालय का सख्त निर्देश है कि इन जगहों पर भी नजर रखी जाय. नदी थाना को विशेष पेट्रोलिंग का निर्देश दिया गया है. वहीं, मुखबिर को सक्रिय रहने का निर्देश है. दियारा इलाके में शराब का खेप अगर उतरता है, तो इसे डिलिवरी से पहले पकड़ा जाय. इस पर विभाग का जोर है.
सीमा पर स्थित शराब दुकान पर जारी है रेकी
बिहार की सीमा से सटे शराब दुकानदारों की रेकी जारी है. यह पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है कि किस जिले में शराब की खेप ज्यादा जा रही है. इसे ले जाने वाला कौन है. इसे किस माध्यम से ले जाया जाता है. प्रत्येक दिन कितनी शराब चोरी से बिहारमें प्रवेश कराया जाता है. यानी तस्करों के खिलाफ यहां भी सभी जानकारी लीजा रही है. वहीं हिमाचल, हरियाणा, पंजाब और झारखंड से जो गाड़ी बिहार में प्रवेश करती है उस पर सख्ती से नजर रखी जा रही है.
Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें