पहले की हत्या और उसके बाद सड़क जाम कर करने लगे यह काम, जब खुलासा हुआ तो...

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

भागलपुर : किशन हत्याकांड में पुलिस को सफलता मिली है. पुलिस के मुताबिक हत्यारों ने रास्ते के कांडे को हटाने के उद्देश्य से पहले हत्या की, फिर शहर में जगह-जगह जाम लगवा दिया और खुद जाम में लोगों को भड़काने के लिए हत्यारों को जल्द पकड़ो, प्रशासन मुर्दाबाद के नारे लगाते रहे. प्रखंड मुख्यालय अंतर्गत महावीर चौक पर 26 दिसंबर 2017 को हुई हत्या का खुलासा करते हुए गुरुवार को एएसपी राजेश कुमार ने बताया कि निकेश व सिंटू ने चोरी के दौरान पहचान लिये जाने के बाद अपने रास्ते का कांटा हटाने के खातिर किशन की हत्या कर दी. दोनों आरोपितों के घर से न केवल चोरी का सारा सामान बरामद हुआ बल्कि दो कट्टा समेत दस गोली भी पकड़ने में पुलिस सफल रही है.

कांड में संलिप्त दो युवक सिंहेश्वर थाना क्षेत्र के सतोखर निवासी विवेक यादव का पुत्र निकेश कुमार उर्फ रिंकु व सत्यनारायण यादव के पुत्र सिंटू कुमार को भी गिरफ्तार किया जा चुका है. हत्या के बाद चोरी हुए सभी सामान को अभियुक्त घरों से बरामद किया गया. उन्होंने कहा हत्या का मुख्य कारण चोरी है. चोरी करने के दौरान किशन के द्वारा अपराधियों कि पहचान कर ली गयी थी. इस वजह से अपराधियों ने अपना साक्ष्य छुपाने के लिए उनपर सिलिंडर से प्रहार किया और फिर पेचकस से कान के पास प्रहार किया गया, जिससे उसकी मौत हो गयी. पुलिस ने अनुसंधान के क्रम में सतोखर निवासी निकेश ने पूछताछ कांड में अपनी संलिप्ता स्वीकारी और तीन लोगों के बारे में बताया. सिंटू को भी हिरासत में ले लिया. दोनों के घरों की तलाशी लेने पर किशन के दुकान से चोरी हुए लगभग सभी सामान पुलिस के द्वारा सिंटू व निकेश के घर से बरामद कर लिया गया.

मालूम हो कि 26 दिसंबर की रात महावीर चौक के निकट दुकान में सो रहे किसन के हत्या की खबर जैसे ही क्षेत्र में फैली पूरा क्षेत्र आक्रोश की आग में जलने लगा. धीरे - धीरे पूरा सिंहेश्वर थम सा गया. बताया गया कि आक्रोशित युवक हर तरफ प्रशासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने लगे. पूरे सिंहेश्वर को जगह - जगह जाम कर दिया गया. इस बीच आक्रोशित लोगों को समझाने पहुंचे एएसपी राजेश कुमार व इंस्पेक्टर ज्योतिष कुमार सहित कई पदाधिकारियों को लोगों का आक्रोश भी झेलना पड़ा. पुलिस के समझाने पर ग्रामीण लोग कई बार तो मान भी गये लेकिन इसी बीच दोनों युवक पहुंच मामले को बिगाड़ देते थे, जबकि मृत किशन के शव को भी एक जगह से दूसरे जगह ले जाने में भी इनकी भूमिका थी.

यह भी पढ़ें-
NDA घटक दल के नेता की लालू से मुलाकात, बिहार में फिर गरमायी सियासत, पढ़ें


Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें