1. home Home
  2. sports
  3. cricket
  4. upset with shakib al hasan and mahmuddullah recently misbehaved bangladesh umpire moniruzzaman has quit umpiring rkt

शाकिब अल हसन के बुरे बर्ताव से दुखी अंपायर ने छोड़ा पद, बांग्लादेशी खिलाड़ी ने गुस्से में उखाड़ फेंका था स्टंप

इस घटना के बाद बांग्लादेशी अंपायर मोनिरुज्जमां (Moniruzzaman) ने पद छोड़ने का फैसला किया है. बांग्लादेश के स्टार ऑलराउंडर शाकिब अल हसन (Shakib al Hasan) पर हाल ही में एक अंपायर पर भड़कने के लिए जुर्माना और प्रतिबंध लगा दिया गया था.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
शाकिब अल हसन के बुरे बर्ताव से दुखी अंपायर ने छोड़ा पद
शाकिब अल हसन के बुरे बर्ताव से दुखी अंपायर ने छोड़ा पद
फोटो - ट्वीटर

बांग्लादेश के पूर्व कप्तान शाकिब अल हसन ने इस महीने की शुरुआत में अपने मैदान पर ऐसी हरकत की थी जिसे देख कर हर कोई हैरान था. इस स्टार ऑलराउंडर ने ढाका प्रीमियर लीग टी20 (Dhaka Premier League T20) के एक मैच के दौरान LBW की अपील को ठुकराने के बाद अंपायर पर चिल्लाया और फिर स्टंप्स को लात मारी दी. शाकिब यहीं नहीं रूके कुछ देर बाद इस बांग्लादेशी खिलाड़ी ने स्टंप्स को उखाड़ फेंका और उन्हें मैदान पर पटक दिया. इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ था और लोगों ने जमकर शाकिब की आलोचना की थी.

वहीं अब इस घटना के बाद बांग्लादेशी अंपायर मोनिरुज्जमां (Moniruzzaman) ने पद छोड़ने का फैसला किया है. मोनिरुज्जमां और मोर्शेद अली खान वर्तमान में बांग्लादेश के आईसीसी इमर्जिंग पैनल में शामिल हैं. बांग्लादेश के स्टार ऑलराउंडर शाकिब अल हसन (Shakib al Hasan) पर हाल ही में एक अंपायर पर भड़कने के लिए जुर्माना और प्रतिबंध लगा दिया गया था, जबकि महमुदुल्लाह को मैदान पर दुर्व्यवहार के लिए 20 हजार बांग्लादेशी रुपये का जुर्माना लगाया गया था. महमूदुल्लाह पर जिस मैच में जुर्माना लगाया, उस मुकाबले में मोनिरुज्जमां टीवी अंपायर थे.

क्रिकबज से बात करते हुए अंपायर ने कहा कि जब शाकिब ने दुर्व्यवहार किया तो वह अंपायरिंग नहीं कर रहे थे, लेकिन इस घटना को पचा पाना उनके लिए मुश्किल था."मेरे लिए बहुत हो गया और मैं अब अंपायरिंग नहीं करना चाहता. मेरे पास कुछ स्वाभिमान है और मैं इसके साथ रहना चाहता हूं. अंपायर गलतियां कर सकते हैं लेकिन अगर हमारे साथ इस तरह से व्यवहार किया जाता है, तो ऐसा करने का कोई मतलब नहीं है. क्योंकि मैं इसमें सिर्फ पैसे के लिए नहीं हूं,"

महमूदुल्लाह मैच में मैं टीवी अंपायर था और शाकिब एपिसोड को करीब से देख रहा था. इसने मुझे स्तब्ध कर दिया और उस समय, मैंने नहीं करने का फैसला किया अंपायरिंग जारी रखें. बता दें कि शाकिब की मैदानी हरकतों के लिए उनकी काफी आलोचना हुई थी. उन्हें 3 मैचों के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया था और उनके कार्यों के लिए 5800 अमरीकी डालर का जुर्माना लगाया गया था.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें