1. home Home
  2. religion
  3. december 2021 vrat and tyohar list fasts and festivals in the month of december shubh muhurat complete list sry

Vrat and Festivals of December 2021: दिसंबर महीने में हैं ये व्रत और त्योहार, देखें शुभ मुहूर्त और पूरी लिस्ट

दिसंबर में कई व्रत त्योहार आएंगे. दिसंबर महीने में अमावस्या, प्रदोष व्रत, मासिक शिवरात्रि ,गीता जयंती, मोक्षदा एकादशी और पूर्णिमा जैसे प्रमुख व्रत त्योहार रखें जाएंगे. आइए जानते हैं दिसंबर 2021 में कौन-कौन से व्रत, जयंती और शुभ मुहूर्त कब है

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Vrat and Festivals of December 2021
Vrat and Festivals of December 2021
Prabhat Khabar Graphics

कल से साल 2021 का अंतिम महीना यानी दिसंबर शुरु होने जा रहा है. नवंबर में दिवाली, भाई दूज, छठ पूजा और कार्तिक पूर्णिमा त्यौहार मनाए गए. दिसंबर महीने में अमावस्या, प्रदोष व्रत, मासिक शिवरात्रि ,गीता जयंती, मोक्षदा एकादशी और पूर्णिमा जैसे प्रमुख व्रत त्योहार रखें जाएंगे. यहां जानिए प्रमुख त्योहारों की लिस्ट.

2 दिसंबर, गुरुवार

दिसंबर, गुरुवार

मासिक शिवरात्रि

जहां महाशिवरात्रि साल में एक बार पड़ती है वही मासिक शिवरात्रि का यह पवन पर्व प्रत्येक माह में मनाया जाता है. यह बेहद शुभ हिंदू का त्यौहार होता है और इसे बेहद ही पवित्र माना जाता है. मासिक शिवरात्रि का यह शुभ दिन भगवान शिव और मां पार्वती को समर्पित होता है. यह कृष्ण पक्ष के दौरान प्रत्येक माह के 14 वें दिन पड़ता है. मान्यता है जो कोई भी इस दिन व्रत का पालन करता है ऐसे लोगों को आरोग्य जीवन, भरपूर सुख समृद्धि, और स्वास्थ्य का आशीर्वाद प्राप्त होता है.

प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष)

प्रदोष व्रत को भी फलदायी हिंदू व्रत माना जाता है और यह 1 महीने में दो बार मनाया जाता है. भगवान शिव को समर्पित प्रदोष व्रत चंद्र पखवाड़े के 13 वें दिन पड़ता है. यह व्रत साहस और जीत का प्रतीक माना गया है. ऐसी मान्यता है कि जो कोई भी भक्त इस दिन पूर्ण भक्ति और समर्पण के साथ प्रदोष व्रत का पालन करते हैं उन्हें जीवन में सुख समृद्धि और अच्छे स्वास्थ्य का आशीर्वाद प्राप्त होता है.

4 दिसंबर, शनिवार

मार्गशीर्ष अमावस्या

अन्य अमावस्या तिथि की अपेक्षा में मार्गशीर्ष अमावस्या का विशेष महत्व बताया गया है. यह एक पवित्र अवसर माना जाता है. इस दिन पितरों का कर्मकांड करना, पवित्र नदियों में स्नान करना, अपनी यथाशक्ति के अनुसार दान करना बेहद शुभ फलदाई होता है.

14 दिसंबर, मंगलवार

मोक्षदा एकादशी

मोक्षदा एकादशी को प्रलोभन का नाश करने वाली एकादशी माना जाता है. कहते हैं जो कोई भी व्यक्ति मोक्षदा एकादशी के व्रत का पालन करता है और इस दिन की विधि पूर्वक पूजा करता है ऐसे व्यक्तियों के पूर्वजों को उनके कर्मों से मुक्ति मिलती है. यह व्रत हिंदू समुदाय के लोगों के लिए बेहद शुभ माना गया है.

16 दिसंबर, गुरुवार

प्रदोष व्रत (शुक्ल पक्ष)

1 महीने में दो बार मनाया जाने वाला प्रदोष व्रत चंद्र पखवाड़े के 13 वें दिन पड़ता है. यह बेहद पवित्र हिंदू व्रत है और भगवान शिव को समर्पित होता है. कहते हैं इस व्रत को करने से व्यक्ति को मोक्ष प्राप्त होती है और जीवन में सफलता प्राप्त अवश्य होती है.

धनु संक्रांति

हिंदू सौर कैलेंडर के अनुसार धनु संक्रांति नौवें महीने की शुरुआत मानी जाती है और उस दिन का प्रतीक मानी गई है जब सूर्य धनु राशि में प्रवेश करता है. इस दिन देश के अलग-अलग हिस्सों में भगवान जगन्नाथ की पूजा की जाती है और इस दिन का विशेष पूजा का आयोजन किया जाता है. भक्त इस दिन योगेश्वर भगवान की पूजा करते हैं और उनका आशीर्वाद अपने जीवन पर बनाए रखने की कामना करते हैं.

19 दिसंबर, रविवार

मार्गशीर्ष पूर्णिमा व्रत

मार्गशीर्ष माह के दौरान शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली पूर्णिमा को मार्गशीर्ष पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है. इस दिन लोग व्रत करते हैं और माना जाता है इस व्रत के प्रभाव से व्यक्ति के जीवन में धन धान्य और सुख समृद्धि का आशीर्वाद प्राप्त होता है. इसके अलावा बहुत से लोग इस दिन पवित्र नदियों में स्नान करते हैं और अपनी यथाशक्ति के अनुसार दान पुण्य करते हैं.

22 दिसंबर, बुधवार

संकष्टी चतुर्थी

संकष्टी चतुर्थी प्रत्येक माह में मनाया जाने वाला एक पवित्र व्रत होता है. कहा जाता है कि इस दिन जो कोई भी भक्त परम भक्ति, समर्पण और विधान से विघ्नहर्ता भगवान गणेश की पूजा करते हैं उन्हें स्वास्थ्य, धन और जीवन में खुशियों का आशीर्वाद प्राप्त होता है.

25 दिसंबर, शनिवार

क्रिसमस

क्रिसमस ईसाइयों का प्रमुख त्यौहार होता है और दुनिया भर में इस दिन को बेहद ही खुशी और उत्साह के साथ मनाया जाता है. इस दिन को ईसा मसीह के जन्म की स्मृति के रूप में भव्य रुप से मनाये जाने का विधान होता है. इस दिन क्रिसमस ट्री को सजाया जाता है, लोग अपने प्रिय जनों को उपहार और मिठाइयों का आदान-प्रदान करते हैं और खुशियाँ बांटते हैं.

30 दिसंबर, गुरुवार

सफला एकादशी

पौष मास के कृष्ण पक्ष के दौरान आने वाली एकादशी को सफला एकादशी कहते हैं. मान्यता है कि सफला एकादशी का व्रत और उपवास करने से भक्तोंसफलता का आशीर्वाद प्राप्त होता है.

31 दिसंबर, शुक्रवार

प्रदोष व्रत (कृष्ण पक्ष)

1 महीने में दो बार किया जाने वाला प्रदोष व्रत बेहद शुभ फलदाई और पवित्र हिंदू व्रत माना जाता है. यह व्रत भगवान शिव को समर्पित होता है और बहादुरी, साहस, निर्भयता, और जीत का प्रतीक माना गया है.

संजीत कुमार मिश्रा

ज्योतिष एवं रत्न विशेषज्ञ

9545290847/9545290847

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें