37.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

Ruskin Bond Birthday : 90 वर्ष के हुए प्रसिद्ध लेखक रस्किन बॉन्ड, जब तक सांस चले लिखते रहने की है ख्वाहिश

पद्मश्री पद्मभूषण लेखक रस्किन बॉन्ड 19 मई को 90 वर्ष के होने जा रहे हैं. इस उम्र में भी वे लगातार किताबें लिख रहे हैं. हाल में उनके द्वारा लिखी गयी किताब 'द हिल ऑफ इंचेंटमेंट ऑन क्लाउड 90 विद रस्किन बॉन्ड' का विमोचन किया गया है. हाल में उन्हें प्रतिष्ठित साहित्य अकादमी फेलोशिप से भी सम्मानित किया गया है.

Ruskin Bond’s 90th birthday : ‘रस्टी’ और ‘अंकल केन’ जैसे किरदारों के साथ बच्चों की कल्पनाओं को रंगीन पंख देनेवाले बाल साहित्यकार रस्किन बॉन्ड 19 मई को 90वां जन्मदिन मनाने जा रहे हैं. अपनी रचनाओं के लिए पद्मश्री और पद्मभूषण से नवाजे जा चुके रस्किन बॉन्ड आज भी मसूरी में बेहद साधारण तरीके से जीवन जीना पसंद करते हैं. हाल में उन्हें प्रतिष्ठित साहित्य अकादमी फेलोशिप से सम्मानित किया गया है. रस्किन चाहते हैं कि जब तक उनकी सांस चले वे बच्चों के लिए कहानियां लिखते रहें. सादगी के साथ जीवन जीने वाले रस्किन बॉन्ड को एक छोटा-सा केक काटकर अपना जन्मदिन मनाना अच्छा लगता है.    

90 की उम्र में लिखी एक नयी किताब 

रस्किन बॉन्ड की कमल 90 वर्ष की उम्र में भी लगातार चल रही है. हाल में उन्होंने अपनी एक और नयी किताब का विमोचन किया है. इस किताब का नाम ‘द हिल ऑफ इंचेंटमेंट ऑन क्लाउड 90 विद रस्किन बॉन्ड’ है. इस किताब को एलेफ बुक कंपनी पब्लिशर्स ऑफ फाइन राइटिंग के निदेशक डेविड डेविडर के साथ संयुक्त रूप से पब्लिश किया गया है. यह किताब लेखक के जीवन के बारे में आत्मकथात्मक है. रस्किन जिस स्थान पर रहते हैं, वहां के पहाड़ों का समावेश उन्होंने अपनी नयी किताब में किया है. 

दादी संग बीता बचपन

रस्किन बॉन्ड का जन्म 19 मई, 1934 को हिमाचल प्रदेश के कसौली में हुआ था. उनके पिता अब्रे बाॅन्ड, ब्रिटिश रॉयल एयरफोर्स में थे. जब रस्किन चार वर्ष के थे, तभी उनके माता-पिता एक-दूसरे से अलग हो गये थे और उनकी मां ने एक भारतीय से शादी कर ली थी. इसके बाद रस्किन अपनी दादी के साथ देहरादून में रहने लगे. शिमला के बिशप कॉटन स्कूल से पढ़ाई पूरी करने के बाद वे लंदन चले गये. उन्होंने अपने लेखन की शुरुआत लंदन में ही कर दी थी. 17 वर्ष की उम्र में उन्होंने अपना पहला उपन्यास ‘रूम ऑन द रूफ’ लिखा, जिसके लिए उन्हें प्रतिष्ठित जॉन लेवेनिन राइस अवाॅर्ड से नवाजा गया. लंदन में जब उनका मन नहीं लगा, तो वे वापस भारत लौट आये और यहीं बस गये.  

बच्चों को कहानी सुनानेवाले दादाजी

रस्किन बॉन्ड अब तक 500 से अधिक कहानियां, उपन्यास, संस्मरण और कविताएं लिख चुके हैं. उनकी ज्यादातर रचनाएं बच्चों पर आधारित हैं. बच्चों के लिए लिखी गयी उनकी कहानियों में पतंगवाला, एक नन्हा दोस्त, अंधेरे में एक चेहरा, चालीस भाइयों की पहाड़ी, बुद्धिमान काजी, अल्लाह की बुद्धिमानी, झुकी हुई कमरवाला भिखारी आदि लोकप्रिय हैं. अपनी इन्हीं कहानियों के चलते वे बच्चों के बीच कहानी सुनाने वाले दादा जी के नाम से भी जाने जाते हैं. 

बॉन्ड की कहानी पर बनी हैं कई फिल्में

रस्किन बॉन्ड की कई कहानियां हैं, जिन पर फिल्में बन चुकी हैं. उनकी लिखी कहानियों पर बनी हॉलीवुड फिल्मों में ‘फ्लाइट ऑफ पिजन्स’ और ‘एंग्री रिवर’ शामिल हैं. वहीं बॉलीवुड फिल्मों की बात करें, तो शशि कपूर ने रस्किन की कहानी ‘अ फ्लाइट ऑफ पिजन्स’ पर 1978 में फिल्म ‘जुनून’ बनायी थी. इसके बाद निर्देशक विशाल भारद्वाज ने 2011 में रस्किन की कहानी ‘ब्लू अंब्रेला’ पर फिल्म ‘सात खून माफ’ बनायी, जिसमें प्रियंका चोपड़ा ने मुख्य किरदार निभाया है. 

पद्मश्री और पद्मभूषण से सम्मानित

रस्किन बाॅन्ड को 1957 में इंग्लैंड में जॉन लेवन राइस मेमोरियल पुरस्कार से सम्मानित किया गया. वहीं 1992 में अंग्रेजी लेखन के लिए उनकी लघु कहानियों के संकलन ‘आर ट्रीज स्टिल ग्रो इन देहरा’ के लिए साहित्य अकादमी पुरस्कार भी मिल चुका है. 1999 में रस्किन बॉन्ड को बाल साहित्य में उनके योगदान के लिए पद्मश्री से और 2014 में पद्मविभूषण से अलंकृत किया जा चुका है. दिल्ली सरकार द्वारा 2012 में उन्हें लाइफ टाइम अचीवमेंट अवाॅर्ड एवं गढ़वाल विश्वविद्यालय द्वारा रस्किन बाॅन्ड को पीएचडी की मानद उपाधि से विभूषित किया गया है. हाल में उन्हें प्रतिष्ठित साहित्य अकादमी फेलोशिप से सम्मानित किया गया है. बॉन्ड को सितंबर, 2021 में अकादमी के सर्वोच्च सम्मान के लिए नामित किया गया था.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें