1. home Hindi News
  2. national
  3. union health ministry sop for school re opening for class 9th to 12th from sept 21 know about guidelines about reopening of educational institutes suy

School Reopening: 21 सितंबर से खुलेंगे स्कूल, देखें स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी की गाइडलाइन्स

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
9वीं से 12वीं कक्षा तक के छात्रों के लिए खुलेंगे स्कूल
9वीं से 12वीं कक्षा तक के छात्रों के लिए खुलेंगे स्कूल

5 महीने से अधिक समय से बंद स्‍कूल अब चरण तरीके से खुलने जा रहे हैं। इसके लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) जारी की है. अभी स्कूल पूरी तरह नहीं खुल सकते केवल पार्शियल रीओपनिंग होगी, जिसके लिए भी स्कूलों को हेल्थ मिनिस्ट्री द्वारा जारी एसओपीज का पालन करना होगा. अभी स्कूल केवल हायर क्लास के स्टूडेंट्स यानी 9वी से 12वीं के लिए खुल रहे हैं ताकि उनकी पढ़ाई का नुकसान और ज्यादा न हो.

हालांकि, यह स्वैच्छिक होगा यानी छात्रों के ऊपर होगा कि वह स्कूल जाना चाहते हैं या नहीं.इस दौरान छात्रों के बीच कम से कम 6 फीट की दूरी रखनी होगी. फेस कवर/मास्क भी जरूरी होंगे. कंटेनमेंट जोन में स्थित स्कूलों को खोलने की इजाजत नहीं होगी. स्कूल असेंबली, स्पोर्ट्स व अन्य इवेंट में भीड़भाड़ पर सख्ती से रोक होगी. स्कूल को किसी भी आपात स्थिति में संपर्क करने के लिए शिक्षकों / छात्रों / कर्मचारियों को राज्य के हेल्पलाइन नंबर और स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों के नंबर आदि भी बोर्ड पर डिस्प्ले करने होंगे.

क्लास 09 से 12 के लिए हेल्थ मिनिस्ट्री ने जारी की गाइडलाइंस

FinalSOPonpartialresumptionofactivitiesinschools8092020.pdf
download

जारी की गई गाइड लाइन की प्रमुख बातें –

  • स्कूलों को 9वीं से 12वीं तक के छात्रों को स्वेच्छा से आने की मंजूरी देनी होगी, यानि यह छात्रों के लिए अनिवार्य नहीं होगा.

  • सभी स्टूडेंट्स को जहां तक हो सकेगा सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखते हुए आपस में 6 फिट की दूरी बनाकर रखनी है.

  • स्कूल में फेस कवर या मास्क का प्रयोग मेनडेटरी है, यानी लगाना ही लगाना है.

  • हाथ गंदे न भी लगें तब भी बार-बार साबुन से धोने हैं और एक बार हाथ धोने में कम से कम 40 से 60 सेकेंड का समय लगाना है. इसी प्रकार एल्कोहल बेस्ड हैंड सैनिटाइजर का भी जहां तक संभव हो प्रयोग करना है और कम से कम 20 सेकेंड तक इससे हाथ साफ करने हैं.

  • रेस्पिरेट्री एटिकेट्स को कड़ाई से फॉलो करना है. यानी छींकते या खांसते वक्त मुंह पर कपड़ा या रुमाल या टिश्यू रखना है और टिश्यू को सही स्थान पर फेंकना है.

  • पल्स ऑक्सीमीटर की व्यवस्था अनिवार्य रूप से होनी चाहिए, ताकि एसिंटोमेटिक का ऑक्सीजन लेवल जांचा जा सके.

  • हेल्थ की सेल्फ मॉनीटरिंग करनी है और जरा भी तबियत खराब लगे तो जल्द से जल्द बताना है.

  • शिक्षकों, कर्मचारियों को फेस मास्क, हैंड सैनिटाइजर, उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी स्कूल मैनेजमेंट को होगी.

  • ढका हुआ डस्टबिन होना चाहिए और कूड़े के निस्तारण की उचित व्यवस्था होनी चाहिए.

  • कहीं भी थूकना सख्त मना है.

  • जहां तक संभव हो आरोग्य सेतू को इंस्टॉल करने और प्रयोग करने की सलाह दी जाती है.

  • छात्र अपने लॉकर का इस्तेमाल कर सकते हैं। फिजिकल डिस्टेंसिंग और डिसइन्फेक्शन का ध्यान रखना होगा.

  • जिम का इस्तेमाल गाइडलाइन के आधार पर हो सकता है, पर स्वीमिंग पूल बंद रहेंगे.

  • साफ-सफाई करने वाले कर्मचारी को थर्मल गन, डिस्पोजल पेपर टॉवेल, साबुन, 1% सोडियम हाइपोक्लोराइट सॉल्युशन देना होगा.

  • सफाईकर्मी को काम पर लगाने से पहले सही तरह से प्रशिक्षित करना होगा.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें