1. home Home
  2. national
  3. union cabinet approves doubling of neemuch ratlam and rajkot kanalus rail line know when these projects will be completed acy

नीमच-रतलाम और राजकोट-कनालूस रेल लाइन के दोहरीकरण को मिली मंजूरी, जानें कब पूरे होंगे ये प्रोजेक्ट्स

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने नीमच-रतलाम और राजकोट-कनालूस रेल लाइन के दोहरीकरण को मंजूरी दे दी है. इससे भीड़भाड़ कम होगी और रेल यातायात में वृद्धि होगी.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
union minister anurag thakur
union minister anurag thakur
twitter

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय़ समिति ने नीमच-रतलाम रेलवे लाइन के दोहरीकरण की मंजूरी दी है. इस परियोजना की कुल अनुमानित लागत 1,095.88 करोड़ रुपये और बढ़ी हुई/कार्य समापन लागत 1,184.67 करोड़ रुपये होगी. इस लाइन के दोहरीकरण की कुल लंबाई 132.92 किमी है. यह परियोजना चार साल में 2024-25 तक पूरी होगी. यह परियोजना निर्माण के दौरान लगभग 31.90 लाख मानव दिवसों के लिए प्रत्यक्ष रोजगार पैदा करेगी.

नीमच-रतलाम खंड की लाइन क्षमता उपयोग रख-रखाव ब्लॉकों के साथ 145.6 प्रतिशत तक है. इस परियोजना मार्ग खंड पर बिना रख-रखाव ब्लॉक के भी अधिकतम क्षमता से भी कहीं अधिक माल ढुलाई यातायात हो गया है. सीमेंट कंपनियों के कैप्टिव पॉवर प्‍लांट के लिए मुख्‍य आवक माल यातायात के रूप में कोयले की ढुलाई की जाती है. नीमच-चित्तौड़गढ़ क्षेत्र में सीमेंट ग्रेड, चूना पत्थर के विशाल भंडारों की उपलब्धता होने से नए सीमेंट उद्योगों की स्थापना के कारण इस खंड पर यातायात में और बढ़ोतरी होगी.

नीमच-रतलाम खंड के दोहरीकरण से इस खंड की क्षमता में बढ़ोतरी होगी. इस प्रकार सिस्टम में अधिक माल और यात्री ट्रेन शामिल की जा सकेंगी. सीमेंट उद्योगों की निकटता के कारण पहले वर्ष से 5.67 मिलियन टन प्रति वर्ष की अतिरिक्त माल ढुलाई की उम्मीद है, जो 11वें वर्ष में बढ़कर 9.45 मिलियन टन प्रति वर्ष हो जाएगी. इससे आसान कनेक्टिवटी उपलब्ध होने के साथ-साथ इस क्षेत्र के सामाजिक-आर्थिक विकास को भी बढ़ावा मिलेगा. इस परियोजना से इस क्षेत्र में पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा, क्योंकि ऊंचागढ़ के किले सहित कई ऐतिहासिक स्थल इस परियोजना क्षेत्र में स्थित हैं.

नीमच -रतलाम खंड रतलाम-चित्तौड़गढ़ बीजी खंड का एक हिस्सा है, जो उत्तर, दक्षिण और मध्य भारत के साथ नीमच-चित्तौड़गढ़ क्षेत्र के सीमेंट बेल्ट को जोड़ने वाला एक महत्वपूर्ण ब्रॉड गेज व्यस्त खंड है. नीमच-चित्तौड़गढ़ खंड के दोहरीकरण और विद्युतीकरण का कार्य पहले से ही प्रगति पर है. इसलिए, नीमच-रतलाम खंड दो डबल बीजी खंडों के बीच एक पृथक सिंगल लाइन खंड है यानी चित्तौड़गढ़ -नीमच एक छोर पर और मुंबई - वडोदरा - रतलाम - नागदा मुख्य लाइन दूसरे छोर पर.

सीमेंट कंपनियों के कैप्टिव बिजली संयंत्रों के लिए मुख्य आवक माल ढुलाई कोयला है. नीमच-चित्तौड़गढ़ क्षेत्र में सीमेंट ग्रेड के चूना पत्थर के विशाल भंडार की उपलब्धता के कारण नए सीमेंट उद्योगों के आने से खंड पर यातायात में और वृद्धि होगी.

इसके अलावा, आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने राजकोट-कनालूस रेलवे लाइन के दोहरीकरण को भी मंजूरी दे दी है. इस परियोजना की कुल अनुमानित लागत 1,080.58 करोड़ रुपये होगी और इसकी बढ़ी हुई / पूर्णता लागत 1,168.13 करोड़ रुपये है. दोहरीकरण लाइन की कुल लंबाई 111.20 किमी है. इस परियोजना निर्माण के दौरान लगभग 26.68 लाख मानव दिवसों के लिए प्रत्यक्ष रोजगार भी पैदा होगा. यह 2025-26 तक पूरा हो जाएगा.

राजकोट-कनालूस रेलवे लाइन के दोहरीकरण से सेक्शन की मौजूदा लाइन क्षमता में वृद्धि होगी, जिससे ट्रेन के संचालन में आसानी होगी और समय की पाबंदी के साथ-साथ वैगन टर्न राउंड टाइम में सुधार होगा. वहीं, इससे भीड़भाड़ कम होगी और रेल यातायात में वृद्धि होगी. मुंबई-अहमदाबाद-वीरमगाम-ओखा एक महत्वपूर्ण ब्रॉड गेज व्यस्त खंड है. यह पोरबंदर, कनालूस, विंड मिल, सिक्का आदि जैसे विभिन्न गंतव्यों से शुरू होने और समाप्त होने वाले यातायात को ले जाता है.

वीरमगाम से सुरेंद्रनगर खंड के बीच दोहरीकरण का काम पहले ही पूरा हो चुका है. सुरेन्द्रनगर से राजकोट खंड के दोहरीकरण परियोजना का कार्य प्रगति पर है. ऐसे में अगर राजकोट से कनालूस तक दोहरीकरण परियोजना को मंजूरी दी जाती है, तो मुंबई से कनालूस तक का पूरा खंड डबल लाइन खंड होगा.

खंड पर संचालित मौजूदा माल यातायात में मुख्य रूप से पीओएल (POL), कोयला (Coal), सीमेंट (Cement), उर्वरक और खाद्यान्न शामिल हैं. परियोजना मार्ग संरेखण से उड़ान भरने वाले निजी साइडिंग से जुड़े उद्योगों से भाड़ा उत्पन्न होता है. रिलायंस पेट्रोलियम, एस्सार ऑयल और टाटा केमिकल जैसे बड़े उद्योगों द्वारा भविष्य में पर्याप्त माल यातायात का अनुमान लगाया गया है. राजकोट -कनालूस के बीच सिंगल लाइन बीजी खंड अतिसंतृप्त हो गया है और परिचालन कार्य को आसान बनाने के लिए अतिरिक्त समानांतर बीजी लाइन की आवश्यकता है.

इस सेक्शन पर 30 जोड़ी पैसेंजर/मेल एक्सप्रेस ट्रेनें चल रही हैं और रखरखाव ब्लॉक के साथ मौजूदा लाइन क्षमता का उपयोग 157.5% तक है. दोगुने होने के बाद माल और यात्री यातायात दोनों पर रोक काफी कम हो जाएगी. खंड के दोहरीकरण से क्षमता में वृद्धि होगी और सिस्टम पर अधिक यातायात शुरू किया जा सकता है. राजकोट से कनालुस तक प्रस्तावित दोहरीकरण से सौराष्ट्र क्षेत्र का सर्वांगीण विकास होगा.

Posted By: Achyut Kumar

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें