1. home Home
  2. national
  3. third wave of covid 19 in india may be 60 lakh cases from maharashtra only rjh

Third Wave of Coronavirus : सितंबर-अक्टूबर में डरायेंगे कोरोना के मामले, सिर्फ महाराष्ट्र में 60 लाख संक्रमण

स्वास्थ्य विभाग का अनुमान है कि जब महाराष्ट्र में कोरोना का थर्ड वेव पीक पर होगा तो प्रतिदिन के केस 1.36 लाख तक पहुंच सकते हैं. ज्यादातर मामले मुंबई और पुणे से आ सकते हैं.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Covid-19 in india
Covid-19 in india
Twitter

सितंबर-अक्टूबर में कोरोना संक्रमण के मामले महाराष्ट्र में आतंक मचा सकते हैं. स्वास्थ्य विभाग के अनुमान के अनुसार इस दौरान महाराष्ट्र में 60 लाख नये केस सामने आ सकते हैं. देश में कोरोना की तीसरी लहर के खतरे को देखते हुए वैक्सीनेशन पर जोर दिया जा रहा है और अबतक 60 करोड़ दिये जा चुके हैं.

स्वास्थ्य विभाग का अनुमान है कि जब महाराष्ट्र में कोरोना का थर्ड वेव पीक पर होगा तो प्रतिदिन के केस 1.36 लाख तक पहुंच सकते हैं. ज्यादातर मामले मुंबई और पुणे से आ सकते हैं.

टाइम्स आॅफ इंडिया में छपी खबर के अनुसार स्वास्थ्य विभाग ने इसके लिए तैयारी शुरू कर दी है. ज्यादातर मामले पुणे और मुंबई से आने वाले हैं. अनुमान के अनुसार अगर प्रतिदिन के हिसाब से 1.36 लाख मामले सामने आये तो 88,823 लोग घरों में इलाजरत रहेंगे जबकि 47,928 लोगों को अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत होगी.

केरल में आज आये 31 हजार से अधिक मामले

वहीं केरल में आज जो आंकड़े सामने आये हैं वो कोरोना की तीसरी लहर से डरा रहे हैं. बुधवार को प्रदेश में 31 हजार से अधिक केस आये और संक्रमण की दर बढ़कर 19 प्रतिशत हो गयी है. ओणम त्योहार के अवसर पर मिली छूट की वजह से संक्रमण की दर में इतनी वृद्धि हुई है, जो खतरनाक है.

अक्टूबर में पीक पर होगा थर्ड वेव

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजास्टर मैनेजमेंट कमेटी ने कोरोना की तीसरी लहर को लेकर प्रधानमंत्री को एक रिपोर्ट सौंपा है, जिसके अनुसार कोरोना का थर्ड वेव अक्टूबर में पीक पर हो सकता है. बच्चों को इस दौरान खतरा हो सकता है इसलिए उनके लिए अस्पताल में विशेष प्रबंध करने की सिफारिश की गयी है. रिपोर्ट के अनुसार कोरोना थर्ड वेव के दौरान प्रतिदिन पांच लाख केस आ सकते हैं. केरल में सबसे ज्यादा खतरा होगा और बच्चों के साथ-साथ युवाओं को भी बचकर रहने की जरूरत बतायी गयी है. बच्चों पर कोरोना के थर्ड वेव के खतरे को देखते हुए बच्चों का टीकाकरण प्राथमिकता के आधार पर करने की बात कही जा रही है. यानी जिन बच्चों को कोई बीमारी है मसलन डायबिटीज, निमोनिया उन्हें टीका पहले दिया जायेगा.

Posted By : Rajneesh Anand

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें