1. home Home
  2. national
  3. punjab congress harish rawat says if there would be a dispute between cm captain amarinder singh and navjot singh sidhu plus point for congress smb

पंजाब कांग्रेस के नेता एकजुट भाव से विधानसभा चुनाव में जाएंगे, हरीश रावत का दावा

Punjab Congress में चल रही खींचतान के बीच पार्टी के वरिष्ठ नेता हरीश रावत चंडीगढ़ से लेकर दिल्ली के चक्कर लगा रहे हैं. वहीं, पंजाब कांग्रेस के चीफ नवजोत सिंह सिद्धू और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच चल रही तनातनी के संबंध पर पूछे जाने पर हरीश रावत ने मंगलवार को बड़ी बात कही है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Punjab Congress in Charge Harish Rawat
Punjab Congress in Charge Harish Rawat
File

Punjab Congress Crisis पंजाब कांग्रेस में चल रही खींचतान के बीच पार्टी के वरिष्ठ नेता हरीश रावत चंडीगढ़ से लेकर दिल्ली के चक्कर लगा रहे हैं. वहीं, पंजाब कांग्रेस के चीफ नवजोत सिंह सिद्धू और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच चल रही तनातनी के संबंध पर पूछे जाने पर हरीश रावत ने मंगलवार को बड़ी बात कही है. न्यूज एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक, पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत ने पार्टी के भीतर अंदरूनी कलह पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि लोग अपनी बात करते है और बलपूर्वक व शक्ति के साथ करते है. लोगों को लगता है कि अब तो कोई झगड़ा होगा. लेकिन, ऐसा नहीं है.

हरीश रावत ने आगे कहा कि लोग खुद उसका समाधान निकालते है. ऐसा नहीं है कि हम पंजाब कांग्रेस में कोई समाधान निकाल रहे है. पंजाब कांग्रेस के नेता स्वयं समाधान निकाल रहे है और मुझे भरोसा है कि सब एकजुट भाव से चुनाव में जाएंगे. पंजाब कांग्रेस के चीफ नवजोत सिंह सिद्धू और मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच जारी तनातनी के संबंध में पूछे जाने पर हरीश रावत ने कहा कि यदि ये होगा भी तो ये कांग्रेस के लिए प्लस होगा.

बता दें कि हरीश रावत के तमाम दौरों के बीच पंजाब कांग्रेस का तूफान शांत होने का नाम नहीं दिख रहा है. अगले साल विधानसभा चुनाव से पहले इस विवाद से पार्टी के लिए मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. नवजोत सिंह सिद्धू खेमे और कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच तनातनी में बीच का रास्ता निकालने के लिए हरीश रावत लगातार सक्रिय हैं. वह दो महीने के दौरान कई बार राज्य का दौरा कर चुके हैं. तमाम मीटिंग भी हुईं, लेकिन हालात सुधरने की बजाए बिगड़ते जा रहे हैं. पंजाब चुनाव से पहले हरीश रावत के सामने सबसे बड़ी चुनौती है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू कैंप को कैसे एक रखा जाए.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें