1. home Home
  2. national
  3. lowest number of corona cases were registered for the first time in 230 days in india zero covid death in mumbai vwt

देश में 230 दिनों में कोरोना के सबसे कम मामले, मुंबई में 26 मार्च 2020 के बाद पहली बार जीरो डेथ

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार, भारत में पिछले 24 घंटों के दौरान 230 दिनों में पहली बार कोरोना के सबसे कम मामले सामने आए हैं. वहीं, मुंबई में 26 मार्च 2020 के बाद पहली बार कोरोना से किसी की मौत नहीं होने का मामला सामने आया है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
भारत में कोरोना के घटते मामले.
भारत में कोरोना के घटते मामले.
फोटो : ट्विटर.

नई दिल्ली : देश में कोरोना वायरस का संक्रमण अब धीरे-धीरे दम तोड़ता हुआ नजर आ रहा है. सोमवार की सुबह केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार, भारत में पिछले 24 घंटों के दौरान 230 दिनों में पहली बार कोरोना के सबसे कम मामले सामने आए हैं.

मंत्रालय ने कहा कि पिछले 24 घंटों के दौरान देश में कोरोना के 13,596 नए मामले दर्ज किए गए हैं, जो 230 दिनों में सबसे कम हैं. वहीं, भारत की औद्योगिक राजधानी मुंबई में 26 मार्च 2020 के बाद पहली बार कोरोना से किसी की मौत नहीं होने का मामला सामने आया है.

समाचार एजेंसी एएनआई के एक ट्वीट के अनुसार, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने सोमवार को बताया कि भारत में पिछले 24 घंटों के दौरान 230 दिनों में पहली बार कोरोना के सबसे कम मामले सामने आए हैं. मंत्रालय ने कहा कि पिछले 24 घंटों के दौरान देश में कोरोना के 13,596 नए मामले दर्ज किए गए हैं, जो 230 दिनों में सबसे कम हैं. हालांकि, फिलहाल देश में कोरोना के 1,89,694 केस अब भी सक्रिय हैं.

वहीं, अंग्रेजी के अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट्स के अनुसार, भारत की औद्योगिक राजधानी मुंबई में 18 महीने और तीन सप्ताह के दौरान पहली दफा कोरोना संक्रमण से किसी की मौत नहीं हुई है. रिपोर्ट में कहा गया है कि 26 मार्च 2020 के बाद यह पहली बार ऐसा हुआ है कि कोरोना संक्रमण से मुंबई में किसी की मौत नहीं हुई है, जो अपने आप में एक मील का पत्थर है.

म्युनिसिपल कमिश्नर इकबाल सिंह चहल के हवाले से दी गई रिपोर्ट्स के अनुसार, मुंबई पहली बार कोरोना से किसी की मौत नहीं देख रही है. इसके पीछे बड़े पैमाने पर यहां के लोगों को कोरोना रोधी टीकाकरण को अहम कारण बताया जा रहा है. चहल ने बताया कि मुंबई की तकरीबन 97 फीसदी लोगों कोरोना रोधी टीके की पहली खुराक लगा दी गई है, जबकि 55 फीसदी लोग दोनों खुराक लगा चुके हैं.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें