1. home Hindi News
  2. national
  3. kumbh mela or ramadan corona protocol cannot be ignored anywhere said amit shah amh

‘कुंभ मेला हो या रमजान, कहीं भी कोरोना प्रोटोकॉल की अनदेखी नहीं की जा सकती’, अमित शाह ने कही ये बात

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Amit shah
Amit shah
File
  • कुंभ मेले और रमजान के उत्सवों में कोरोना नियमों की जमकर अनदेखी

  • चाहे कुंभ मेला हो या रमजान हो, कहीं भी कोविड एप्रोप्रिएट बिहेवियर नहीं नजर आ रहा : अमित शाह

  • रेमडेसिविर को लेकर अमित शाह ने कहा कि इसका प्रोडक्शन अभी भी हमारे यहां पर्याप्त मात्रा में हो रहा है

देश में कोरोना का संक्रमण (Coronavirus in India) लगातार बढ़ता जा रहा है. देश भर से रोजाना चौंकाने वाले मामले सामने आ रहे हैं जिसने लोगों की चिंता बढ़ा दी है. एक ओर जहां कोरोना की दूसरी लहर खतरनाक रूप धारण कर चुकी है, वहीं कुंभ मेले और रमजान के उत्सवों में कोरोना नियमों की जमकर अनदेखी लोग करते नजर आ रहे हैं.

कुंभ मेले और रमजान में लगातार लोगों द्वारा बरती जा रही लापरवाही को लेकर गृहमंत्री अमित शाह ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. शाह ने कहा है कि कुंभ और रमजान उत्सवों में हिस्सा लेने वाले लोग कोरोनो से बचाव के लिए निर्धारित प्रोटोकॉल का पालन करने में विफल साबित हुए हैं. उन्होंने कहा कि चाहे कुंभ मेला हो या रमजान हो, कहीं भी कोविड एप्रोप्रिएट बिहेवियर नहीं नजर आ रहा है.

आगे शाह ने कहा कि कोई भी कोरोना नियमों की अनदेखी नहीं कर सकता है. यही वजह है कि हमें अपील करनी पड़ी और कुंभ अब प्रतीकात्मक हो गया है. कुंभ के लिए पीएम मोदी जी ने खुद संतो से अपील करने का काम किया और संतों ने उनकी अपील को स्वीकार भी किया. 13 में से 12 अखाड़ों ने कुंभ का विसर्जन किया और संतों ने जनता से भी कुंभ में नहीं जाने का अग्रह किया है.

गृह मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी जी की पहल से कुंभ अब प्रतीकात्मक कुंभ में तब्दील हो चुका है, ये एक बड़ी बात है. उन्होंने कहा कि पिछले कुछ महीनों से हमने कोरोना संबंधित सभी प्रतिबंध लगाने के अधिकार राज्यों प्रदान किये हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि आज हर राज्य की स्थिति एक जैसी नहीं है. कोरोना से लड़ने के लिए हर राज्य को अपने यहां की स्थिति के हिसाब से खुद फैसले लेने की जरूरत है, इसमें केंद्र सरकार उनको पूरा सहयोग करेगी.

रेमडेसिविर को लेकर अमित शाह ने कहा कि इसका प्रोडक्शन अभी भी हमारे यहां पर्याप्त मात्रा में हो रहा है. हमने एहतियातन इस इंजेक्शन के निर्यात को बैन करने का काम किया है. इसकी कमी को लेकर उन्होंने कहा कि लोग जब आपा धापी करते हैं और जल्दबाजी में इसे खरीदा जाने लगता है, तो इसकी कमी आती है. शाह ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि मैं सभी से आग्रह करता हूं कि यदि डॉक्टर ने आपको कहा है तभी इस इंजेक्शन को खरीदें.

Posted By : Amitabh Kumar

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें