1. home Hindi News
  2. national
  3. karnataka cabinet expansion cabinet expansion become a problem for yeddyurappa resentment in bjp avd

Karnataka Cabinet Expansion : कहीं येदियुरप्पा के लिए मुसीबत न बन जाये कैबिनेट विस्तार, भाजपा में भारी नाराजगी

By Agency
Updated Date
कहीं येदियुरप्पा के लिए मुसीबत न बन जाये कैबिनेट विस्तार
कहीं येदियुरप्पा के लिए मुसीबत न बन जाये कैबिनेट विस्तार
twitter

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी. एस. येदियुरप्पा द्वारा अपने 17 महीने पुराने मंत्रिमंडल में विस्तार के लिए बुधवार को सात नये नामों की घोषणा किए जाने के बाद राज्य भाजपा में नाराजगी की स्थिति पैदा हो गई है. सत्तारूढ़ दल के कुछ विधायकों ने विधान परिषद (एमएलसी) को मंत्री बनाए जाने, कुछ क्षेत्रों के प्रतिनिधित्व में कमी और उनकी ‘वरिष्ठता और काम' पर ध्यान नहीं दिए जाने को लेकर नाराजगी जतायी.

राज्य में ज्यादातर मंत्री बेंगलुरु और बेलगावी जिलों से हैं. येदियुरप्पा ने आज दिन में विधायकों उमेश कट्टी, अरविंद लिम्बावली, मुरुगेश निरानी, सी पी योगेश्वर, एस. अंगारा और एमएलसी एम टी बी नागराज और आर शंकर को मंत्री पद की शपथ दिलाने की घोषणा की है. इसके बाद मंत्री पद पाने के इच्छुक कुछ भाजपा विधायकों ने नाराजगी जाहिर की है.

येदियुरप्पा की आलोचना करने वाले विजयपुरा सिटी के विधायक बी. पाटिल यत्नाल ने मुख्यमंत्री पर आरोप लगाया कि वह वरिष्ठता और ईमानदारी को ध्यान में रखे बगैर ब्लैकमेल होकर नियुक्तियां कर रहे हैं. उन्होंने मुख्यमंत्री और उनके परिवार पर कर्नाटक भाजपा को हाईजैक करने का आरोप लगाते हुए प्रधानमंत्री से अनुरोध किया कि वह राज्य को येदियुरप्पा परिवार के वंशवाद की राजनीति से मुक्त कराएं.

पूर्व केन्द्रीय मंत्री ने कहा, मुख्यमंत्री ब्लैकमेल करने वालों को मंत्री बना रहे हैं. तीन लोग... एक राजनीतिक सचिव और दो मंत्री पिछले तीन महीने से येदियुरप्पा को सीडी के माध्यम से ब्लैकमेल कर रहे हैं. उन्होंने कहा, उनमें से एक आज मंत्री बनेगा, सीडी से ब्लैकमेल के अलावा विजयेन्द्र (मुख्यमंत्री के पुत्र) को धन देना भी शामिल है.

विजयपुरा में पत्रकारों से बातचीत में यत्नाल ने दावा किया कि येदियुरप्पा को ब्लैकमेल कर रहे तीन लोगों ने चार महीने पहले उनसे मुलाकात कर उन्हें पद से हटाने की योजना बनाई थी। गौरतलब है कि यत्नाल कह चुके हैं कि वह येदियुरप्पा मंत्रिमंडल में मंत्री पद नहीं चाहते हैं. उन्होंने कहा, मैं आपको (युदियुरप्पा) मकर संक्राति से पहले चुनौती देता हूं कि उत्तरायण से आपका (राजनीतिक) अंत शुरू हो जाएगा और प्रधानमंत्री (नरेंद्र) मोदी के नेतृत्व में कर्नाटक में नया अध्याय शुरू होगा.

भूमि को अवैध तरीके से गैरअधिसूचित करने के मामले में येदियुरप्पा के खिलाफ दर्ज प्राथमिकी रद्द करने का अनुरोध करने वाली याचिका उच्च न्यायालय द्वारा खारिज किए जाने के बाद उन्होंने मुख्यमंत्री के इस्तीफो की मांग की है. पार्टी और पार्टी नेताओं के खिलाफ सार्वजनिक रूप से टिप्पणी को लेकर भाजपा नेतृत्व से चेतावनी के बावजूद यत्नाल ने यह बयान दिया है. ब्लैकमेल का संदर्भ देते हुए मंत्री पद के इच्छुक एमएलसी ए एच विश्वनाथ ने येदियुरप्पा पर वादा नहीं निभाने का आरोप लगाया.

गौरतलब है कि विश्वनाथ कांग्रेस-जदएस से 2019 में इस्लाफा देकर भाजपा में शामिल होने वाले 17 विधायकों में से एक हैं. उन्होंने सवाल किया कि आबकारी मंत्री एच नागेश को क्यों हटाया गया है और आरआर नगर से विधायक मुनिरत्न को मंत्रिमंडल में क्यों शामिल किया गया है.

उन्होंने कहा, उनके बलिदान के कारण ही आप मुख्यमंत्री हैं... इसके बावजूद और योगेश्वर को मंत्री बना रहे हैं, जिनके खिलाफ धोखाधड़ी और ठगी का मामला दर्ज है. उन्होंने सवाल किया, आप उन्हें मंत्री क्यों बना रहे हैं, क्या वह आपको ब्लैकमेल कर रहे हैं? मंत्री पद के इच्छुक, होन्नाली से विधायक और मुख्यमंत्री के राजनीतिक सचिव एमपी रेणुकाचार्य ने भी नाखुशी जताते हुए कहा कि सरकार सिर्फ दो जिलों तक सीमित है और मुख्यमंत्री तथा पार्टी के नेताओं को इसपर ध्यान देना चाहिए.

Posted By - Arbind kumar mishra

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें