अमेरिका में रहने का सपना हुआ चूर-चूर, हाथ पैर बंधे हुए अपराधियों की तरह हुई भारत वापसी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

नयी दिल्ली : नयी दिल्ली का आईजीआई एयरपोर्ट...बुधवार की सुबह...145 भारतीय कुछ अजीब स्थिति में नजर आये. वे एयरपोर्ट पर उतरे...सभी के हाथ और पैर बंधे हुए थे..प्लेन से उतरने से ठीक पहले उनके हाथ-पैर खोल दिये गये. आइए हम आपको आगे बताते हैं कि आखिर ऐसा क्यों किया गया.

दरअसल, ये पढ़े-लिखे...हाई क्वालिफाइड...यंग ऐज के थे जिन्हें एयरपोर्ट पर देखा गया. इस सभी का सपना था कि वे अमेरिका जाएं. ये वहां गये भी और वहां पहुंचने के लिए इस सभी ने 25-25 लाख रुपये एजेंटों को दिये. अमेरिका पहुंचकर कुछ काम में भी लग लगे, लेकिन इसके बाद जो हुआ उसने सबको सदमे में ला दिया.

अवैध रूप में अमेरिका में घुसने के आरोप में ये सभी वहां इमिग्रेशन अधिकारियों की नजर में आ गये और पकड़े गये. उन्हें अवैध प्रवासियों के लिए बने डिटेंशन सेंटर में कैद कर लिया गया जिसके बाद इन सभी को अमेरिका से भारत वापस भेज दिया गया.

बुधवार सुबह सभी नयी दिल्ली के आईजीआई एयरपोर्ट पर उतरे और वह भी अपराधी की तरह... प्लेन से उतरने से ठीक पहले उनके हाथ-पैर खोल दिये गये. अपने सपने को पूरा करते-करते ये मुश्‍किल में फंस गये, लेकिन जब उनकी घरवापसी हुई तो सभी के चेहरे पर राहत के भी मिले-जुले भाव थे.

सभी को चैन था कि वे अपने वतन सही-सलामत लौट आए हैं. अमेरिका में अवैध तौर पर घुसने की वजह से सभी को भारत डिपोर्ट किया गया.

इनमें से कुछ भारतीय ऐसे भी हैं जिन्होंने करीब एक साल बाद मोबाइल हाथ में पकड़ा. एयरपोर्ट पर एक के बाद एक ये 145 भारतीय भीड़ के बीच फटे कपड़ों और बिना लैस के जूतों में बाहर आ रहे थे. इनमें 3 महिलाएं भी नजर आ रहीं थीं.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें