जनादेश के बाद: कैबिनेट ने राष्ट्रपति को सौंपा इस्तीफा, 16वीं लोस भंग करने की सिफारिश, आज नरेंद्र मोदी को नेता चुनेगा एनडीए

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

नयी दिल्ली : नरेंद्र मोदी की अगुआई में एनडीए की लगातार दूसरी बार सत्ता में वापसी के बाद सब की निगाहें अब सरकार के गठन पर टिकी हैं. चर्चा है कि सरकार में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह समेत कई नये चेहरों को स्थान मिल सकता है. शुक्रवार को पीएम नरेंद्र मोदी सहित केंद्रीय कैबिनेट ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को सामूहिक इस्तीफा सौंप दिया. राष्ट्रपति ने इस्तीफा स्वीकारते हुए पीएम से नयी सरकार बनने तक पद पर बने रहने का आग्रह किया है. इससे पहले पीएम मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय कैबिनेट की बैठक हुई, जिसमें 16वीं लोकसभा को भंग करने की सिफारिश राष्ट्रपति से की गयी.

इस गहमागहमी के बीच एनडीए के नवनिर्वाचित सांसदों की शनिवार को बैठक होगी, जिसमें वे औपचारिक रूप से नरेंद्र मोदी को अपना नेता चुनेंगे. इसके साथ ही सरकार के गठन की दिशा में प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जा सकेगा. इससे पहले उनकी भाजपा सांसदों के साथ बैठक होगी. समझा जाता है कि मोदी सांसदों को संबोधित भी कर सकते हैं. इन बैठकों के बाद एनडीए के नेता राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिल कर नयी सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे. फिर शपथ ग्रहण कार्यक्रम तय होगा. 30 मई को नयी सरकार का शपथ ले सकती है.

नये चेहरों की संभावना : चर्चा है कि नयी सरकार में अमित शाह को गृह, वित्त, विदेश या रक्षा में से कोई एक मंत्रालय का प्रभार मिल सकता है. रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण व स्मृति ईरानी नयी सरकार में महत्वपूर्ण भूमिका में रह सकती हैं. जदयू व शिवसेना भी इसमें शामिल होंगे. पश्चिम बंगाल,ओड़िशा व तेलंगाना को बेहतर प्रतिनिधित्व मिल सकता है.

लोकतंत्र को हराने की साजिश नाकाम : संसदीय बोर्ड

भाजपा संसदीय बोर्ड ने प्रस्ताव पारित कर शानदार जनादेश के लिए जनता का शुक्रिया अदा किया है. प्रस्ताव में कहा गया कि इस चुनाव में 'लोकतंत्र को हराने' की साजिश हुई, लेकिन जनता ने उसे नाकाम किया. पार्टी के ट्विटर हैंडल से किये गये ट्वीट के मुताबिक नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में नये भारत के निर्माण के लिए एनडीए कृतसंकल्पित होकर कार्य करेगा.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें