1. home Hindi News
  2. health
  3. bird flu h5n1 virus havoc after corona latest updates health know causes and prevention of this disease prt

Bird Flu, H5N1 Virus: कोरोना के बाद बर्ड फ्लू का कहर, जानिये क्या है इसके लक्षण और बचाव के उपाय

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
Bird Flu, H5N1 Virus
Bird Flu, H5N1 Virus
File Photo

Bird Flu, H5N1 Virus: देश में अभी कोरोना महामारी का खतरा कम भी नहीं हुआ है कि एक और बड़ा खतरा मुंह बाये खड़ा हो गया. बर्ड फ्लू के रूप में देश के पांच राज्यों में एक संकट मंडराने लगा है. राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात, हिमाचल प्रदेश और केरल में हजारों पक्षियों की मौत ने इसको लेकर चिंता और बढ़ा दी है.

इन इलाकों के कुछ जगहों पर मारे गए पक्षियों में बर्ड फ्लू की के लक्षण मिले है. ऐसे में पूरे देश के लिए खतरे की नई घंटी बज गई है. पूरा देश कोरोना से ठीक से निकल भी नहीं पाया है. वैक्सीनेशन पर चर्चा चल रही है, तो दूसरी तरफ बर्ड फ्लू ने प्रशासन से लेकर स्वास्थ्य विभाग के कान खड़े कर दिए हैं.

बर्ड फ्लू के नाम से पहचाने जाने वाली यह बीमारी एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस है. जो H5N1 वायरस के कारण होती है. इसकी चपेट में आकर पक्षी तो दम तोड़ ही देते हैं. यह इंसानों के लिए भी बेहद खतरनाक है. इससे जान जाने का भी खतरा है. दरअसल, बर्ड फ्लू एक संक्रामक बीमारी है और H5N1 वायरस के कारण श्वसन तंत्र पर इसका असर पड़ता है. आइए जानते है क्या है इसके लक्षण और इससे बचाव के उपाये के बारे में.

बर्ड फ्लू के लक्षण : बर्ड फ्लू भी सामान्य फ्लू की ही तरह होता है और यह बीमारी एवियन इन्फ्लूएंजा वायरस H5N1 की वजह से होती है. यह वायरस पक्षियों के अलावा इंसानों को भी शिकार बना सकता है.

  • सांस लेने में परेशानी

  • हमेशा कफ बने रहना

  • सिर में दर्द होना

  • नाक बहना

  • गले में सूजन होना

  • मांसपेशियों में दर्द

  • हमेशा उल्टी जैसा महसूस होना

  • पेट के निचले हिस्से में दर्द रहना

बर्ड फ्लू से बचाव के उपाये

  • संक्रमित पक्षियों से दूर रहें

  • मरे पक्षियों के पास बिल्कुल न जाएं

  • नॉनवेज न खाएं

  • और खाना है को नॉनवेज खरीदते समय साफ-सफाई का ध्यान रखें.

  • संक्रमण वाले इलाकों में न जाएं.

बर्ड फ्लू इंफेक्शन मुर्गी, टर्की, गीस, मोर और बत्तख जैसे पक्षियों में तेजी से फैलता है. यह इन्फ्लूएंजा वायरस इतना खतरनाक है कि इससे इंसान की मौत भी हो जाती है. कई बार तो यह यह इंसान से इंसान में फैल जाता है.

Posted by: Pritish Sahay

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें