गांधी-नेहरु परिवार के खिलाफ आपत्तिजनक पोस्ट डालने पर बॉलीवुड अभिनेत्री गिरफ्तार

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

कोटा(राजस्थान) : गांधी-नेहरू परिवार के खिलाफ सोशल मीडिया पर कथित रूप से आपत्तिजनक सामग्री पोस्ट करने के मामले में पूछताछ करने के लिए राजस्थान पुलिस ने बॉलीवुड अभिनेत्री पायल रोहतगी को उनके अहमदाबाद स्थित आवास से रविवार सुबह हिरासत में ले लिया.

बूंदी (राजस्थान) पुलिस ने मोतीलाल नेहरु, जवाहरलाल नेहरु, इंदिरा गांधी और गांधी-नेहरू परिवार के अन्य सदस्यों के खिलाफ आपत्तिजनक सामग्री (पोस्ट करने) के लिए अभिनेत्री के खिलाफ 10 अक्टूबर को सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) कानून के तहत मामला दर्ज किया था.

उन्हें इस महीने की शुरुआत में एक नोटिस दिया गया था और इस संबंध में जवाब देने के लिए कहा गया था. पायल रोहतगी ने ट्वीट किया, मोतीलाल नेहरु पर एक वीडियो बनाने के चलते मुझे राजस्थान पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है जिसे (वीडियो को) मैंने गूगल से सूचना एकत्र कर बनाया था.

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता एक मजाक है @पीएमओइंडिया @एचएमओइंडिया।'' बूंदी पुलिस अधीक्षक ममता गुप्ता ने कहा, पुलिस ने रविवार सुबह पायल रोहतगी को आईटी कानून के तहत एक मामले में पूछताछ के लिए अहमदाबाद स्थित उनके आवास से हिरासत में लिया. उन्हें पूछताछ के लिए बूंदी लाया जा रहा है.

पुलिस अधीक्षक ने कहा कि चूंकि अभिनेत्री जांच में सहयोगी नहीं कर रही थीं, इसलिए पुलिस की एक टीम उन्हें बूंदी ला रही है. पुलिस अधीक्षक ने यह भी स्पष्ट किया कि अभिनेत्री को औपचारिक रूप से गिरफ्तार नहीं किया गया है. उनकी औपचारिक गिरफ्तारी पूछताछ के बाद किये जाने की संभावना है.

उन्होंने कहा, हमारी टीम मामले की जांच के लिए वहां (अहमदाबाद में) थी लेकिन वह सहयोग नहीं कर रही थी. अभिनेत्री ने बृहस्पतिवार को अपनी अग्रिम जमानत के लिए अर्जी दी थी और इस पर सुनवाई सोमवार को होने का कार्यक्रम है. प्रदेश युवा कांग्रेस महासचिव एवं बूंदी निवासी चर्मेश शर्मा ने आपत्तिजनक सामग्री की प्रतियों के साथ एक शिकायत दर्ज कराई थी, जिसके बाद अभिनेत्री के खिलाफ एक मामला दर्ज किया गया था.

रोहतगी ने छह सितम्बर और 21 सितम्बर को अपने सोशल मीडिया अकाउंट फेसबुक, इंस्टाग्राम और ट्विटर पर आपत्तिजनक सामग्री पोस्ट की थी. शर्मा ने अभिनेत्री के खिलाफ अपनी शिकायत में आरोप लगाया था कि आपत्तिजनक सामग्री से देश की छवि धूमिल हुई, अश्लीलता और धार्मिक घृणा फैली तथा इसके अलावा एक महिला की छवि को नुकसान भी पहुंचा। इस महीने की शुरुआत में अभिनेत्री ने ट्विटर पर आरोप लगाया था कि गांधी परिवार के दबाव में राजस्थान के मुख्यमंत्री उनके खिलाफ काम कर रहे हैं.

अभिनेत्री ने दावा किया कि दबाव बनाए जाने का उल्लेख करने वाले लोगों की उनकी पास एक ‘रिकार्डिंग' है. यह बयान आने से पहले, बूंदी सदर पुलिस ने मामले के संबंध में उन्हें एक नोटिस भेजा था और गांधी-नेहरू परिवार के खिलाफ आपत्तिजनक सामग्री अपलोड करने को लेकर उनसे जवाब मांगा था.

पायल रोहतगी ने ट्विटर पर आरोप लगाया था, ‘मुझे यह लगा कि सोनिया गांधी जी और प्रियंका गांधी के कार्यालय राजस्थान के मुख्यमंत्री पर इसे लेकर दबाव बना रहे हैं कि वह मोतीलाल नेहरु पर एक वीडियो बनाने के चलते मेरे खिलाफ प्राथमिकी पर आगे बढ़ें.

उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उनकी पुत्री एवं पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी से इस संबंध में माफी मांगनी चाही थी. अभिनेत्री ने कहा था कि उन्होंने वीडियो एक थर्ड पार्टी स्रोत के आधार पर लेखक एम ओ मथाई को उद्धृत कर बनाया था, जिन्हें उन्होंने कभी पढ़ा नहीं था.

अभिनेत्री ने ट्विटर पर लिखा कि चूंकि उन्होंने लेखक को नहीं पढ़ा था, इसलिए उनका मानना है कि उन्हें (अभनेत्री को) माफी मांगनी चाहिए क्योंकि किसी पर भी निजी हमला करना गलत है. रोहतगी ने कहा कि उन्होंने वीडियो तब बनाया जब तीन तलाक पर संसद में चर्चा चल रही थी और उन्होंने महसूस किया कि कांग्रेस विधेयक का समर्थन नहीं कर रही है.

उन्होंने इस महीने की शुरुआत में ट्वीट किया था, एक निष्पक्ष व्यक्ति के तौर पर मैं देश की राजनीति को समझने का प्रयास कर रही हूं. गत 11 दिसम्बर को एक ट्वीट में अभिनेत्री ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से कहा था कि वे चर्मेश शर्मा (उन्होंने नाम गलत तरीके से चंद्रेश उल्लेखित किया था) से कहें कि वह उनके खिलाफ मामला वापस ले लें.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें