40.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

सड़कों पर ऐसी-वैसी हरकत करने पर हो सकती है जेल, पल भर में सबक सिखा देगा कैमरा

Traffic Rules Violation: सीसीटीवी कैमरों को ऑपरेट करने के लिए स्पेशल डेटा इन्क्रिप्शन सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जाता है. चौक-चौराहे या पर ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करते ही यह रिकॉर्ड कर लेता है.

Traffic Rules Violation: जब आप सड़क पर गाड़ी चलाते हैं, तो जाने-अनजाने में ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन हो जाता है. अनजाने में ट्रैफिक नियमों के पालन में चूक होने पर वाहन चालक को उसका पता चलने पर अफसोस होता है और वह भविष्य के लिए सबक सीख लेता है. लेकिन, कुछ लोग फितरती जानबूझकर ट्रैफिक नियमों को ताख पर रखकर सड़क पर गाड़ी चलाते हैं. ट्रैफिक पुलिसकर्मी के टोकने पर अकड़ दिखाते हैं. यहां तक कि कई उद्दंड लोग तो मार-पिटाई करने पर भी उतारू हो जाते हैं. ऐसे उद्दंडों को सबक सिखाने के लिए सरकार ने बेहतरीन तरीका ईजाद कर लिया है. कोई भले ही सड़क या चौक-चौराहों पर जितनी मर्जी ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन कर ले, ट्रैफिक पुलिसकर्मी एक शब्द नहीं बोलेंगे. ऐसे लोगों का राज चौक-चौराहों और सड़कों के किनारे बिजली के खंभों पर लगे सीसीटीवी कैमरे खोल देते हैं. ऐसा करने वालों को पहले ई-चालान भेजा जाता है. चालान का भुगतान नहीं करने पर गाड़ी जब्त हो जाती है. ऐसा भी संभव है कि चालान भुगतान करने में देर करने पर जेल भी हो सकती है. आइए, जानते हैं कि सीसीटीवी कैमरा सड़क पर अकड़ दिखाने वालों को सबक कैसे सिखाता है.

किसी होटल से कम नहीं है यह सेल्फ ड्राइव कार, तीन पहियों पर रातभर सफर

Viral Video: बुलेट वाली डॉक्टर! स्ट्रेंथ, पावर, परफॉर्मेंस और एंड्योरेंस

मीलों दूर बैठे परिवार से बात कराएगा एथर बातूनी हेलमेट

कैसे काम करता है सीसीटीवी कैमरा

सही मायने में देखा जाए, इन सीसीटीवी कैमरों की मदद से वाहनों की स्पीड का पता चल जाता है. इसके अलावा, गाड़ियों के रजिस्ट्रेशन नंबर और ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन करने वाली जगहों का पता चल जाता है. 60 डिग्री की कवरेज वाले सीसीटीवी कैमरे हाई रिजॉल्यूशन के होते हैं, जिसे कंट्रोल रूम से ऑपरेट किया जाता है. चौक चौराहों पर लगे सीसीटीवी कैमरे ऑटोमैटिकली ऑपरेट होते रहते हैं. कंट्रोल रूम का ऑपरेटर ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन से संबंधित जानकारी ट्रैफिक पुलिस के संबंधित अधिकारियों और कर्मचारियों को देता है.

सीसीटीवी कैमरे की मदद से कैस कटता है चालान

सीसीटीवी कैमरों को ऑपरेट करने के लिए स्पेशल डेटा इन्क्रिप्शन सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जाता है. जैसे ही कोई वाहन चालक किसी भी चौक-चौराहे या किसी दूसरी जगह पर ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करता है, स्पेशल डेटा इन्क्रिप्शन सॉफ्टवेयर की मदद से सीसीटीवी कैमरा वाहन चालक की सारी हरकतों रिकॉर्ड कर लेता है. यह काम इतना जल्दी होता है कि ट्रैफिक नियम तोड़ने वाले वाहन चालक को इसका पता भी नहीं चलता है. सीसीटीवी कैमरे से रिकॉर्डिंग होने के बाद एसएमएस, ई-मेल या फिर कूरियर के जरिए संबंधित वाहन चालक के पास चालान भेज दिया जाता है.

चौबीसों घंटे काम करता है ट्रैफिक कंट्रोल रूम

गौर करने वाली बात यह है कि ट्रैफिक कंट्रोल रूम चौबीसों घंटे काम करता रहता है. इसलिए रात के समय भी इन कैमरों की मदद से चौक-चौराहों या सड़कों पर यातायात नियमों का उल्लंघन करने पर वाहन चालकों की सारी हरकतें रिकॉर्ड की जाती हैं.

चालान का भुगतान नहीं करने पर हो सकती है जेल

जब को व्यक्ति ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करता है, तो ट्रैफिक कंट्रोल रूम की ओर से एसएमएस के जरिए मोबाइल पर ई-चालान भेजा जाता है. यदि निर्धारित समय सीमा के अंदर चालान की रकम जमा नहीं की जाती है, तो वाहन जब्त किया जा सकता है. इतना ही नहीं, ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन के प्रकार के आधार पर जेल की भी सजा हो सकती है.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें