1. home Home
  2. world
  3. us airstrike targets islamic state member in afghanistan kabul blast taliban amh

काबुल ब्लास्ट का बदला, अमेरिका ने अफगानिस्तान पर किया एयर स्ट्राइक, ISIS-K के साजिशकर्ता मारे गए

दावा किया जा रहा है कि अमेरिकी सेना ने काबुल ब्लास्ट के साजिशकर्ता को मार गिराया है. मानवरहित विमान से नांगरहार में ISIS-K के ठिकाने पर अमेरिकी सेना ने हवाई हमले किये और काबुल ब्लास्ट में मारे गये अपने सैनिकों का बदला लिया.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Afghanistan, Kabul blast, Taliban
Afghanistan, Kabul blast, Taliban
PTI

अफगानिस्तान में अमेरिकी सेना ने की ओर से बड़ी कार्रवाई की गई है. टीवी रिपोर्ट के अनुसार काबुल ब्लास्ट के जवाब में अमेरिकी सेना ने अफगानिस्तान में इस्लामिक स्टेट आतंकी के खिलाफ एयरस्ट्राइक की है. खबरों की मानें तो मानवरहित विमान से नांगरहार में अमेरिकी सेना ने हवाई हमले किये हैं.

दावा किया जा रहा है कि अमेरिकी सेना ने काबुल ब्लास्ट के साजिशकर्ता को कर दिया है. अमेरिका को आशंका व्यक्त की है कि काबुल एयरपोर्ट पर फिर से आतंकी हमला हो सकता है. इस बाबत एयरस्ट्राइक के बाद अमेरिका ने काबुल एयरपोर्ट से लोगों को हट जाने के लिए कहा है.

पेंटागन की ओर से यह दावा किया जा रहा है कि तय टारगेट को ध्वस्त कर दिया गया है. ISIS-K के ठिकाने पर ड्रोन के द्वारा अटैक किया गया था.

कैप्टन बिल अर्बन ने कहा

अमेरिका के सेंट्रल कमान के प्रवक्ता कैप्टन बिल अर्बन ने कहा कि अमेरिकी सेना ने इस्लामिक स्टेट-खुरासान (आईएसके) साजिशकर्ता के खिलाफ आज आतंकवाद विरोधी अभियान चलाया. यह मानवरहित हवाई हमला अफगानिस्तान के नांगहर प्रांत में हुआ. शुरुआती संकेत मिले हैं कि हमने अपने टारगेट को मार गिराया है. हमारे पास किसी भी असैन्य व्यक्ति के न मारे जाने की जानकारी है.

व्हाइट हाउस ने कहा

इससे पहले व्हाइट हाउस ने कहा कि राष्ट्रपति जो बाइडन काबुल हवाईअड्डे पर हमला करने वाले आतंकवादियों को जिंदा नहीं छोड़ना चाहते. व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव जेन साकी ने अपने नियमित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मुझे लगता है कि उन्होंने कल यह स्पष्ट कर दिया वह उन्हें धरती पर जिंदा नहीं छोड़ना चाहते. बहरहाल, अभी यह पता नहीं चला है कि क्या काबुल हवाईअड्डे पर हुए हमले में आईएसआईएस-के का साजिशकर्ता शामिल था.

हम बख्शेंगे नहीं. हम भूलेंगे नहीं

अफगानिस्तान में इस्लामिक स्टेट से संबद्ध ‘इस्लामिक स्टेट-खुरासान प्रांत' (आईएसकेपी) ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने हमले में मारे गए 13 अमेरिकी सैनिकों की मौत का बदला लेने की प्रतिबद्धता जतायी और इसके लिए जिम्मेदार आतंकवादियों से कहा कि हम तुम्हें मार गिरायेंगे और तुम इसकी कीमत चुकाओगे. बाइडन ने गुरुवार को व्हाइट हाउस में कहा कि जिन्होंने यह हमला किया और साथ ही जो अमेरिका को नुकसान पहुंचाना चाहता हैं, उन्हें बता दूं कि हम बख्शेंगे नहीं. हम भूलेंगे नहीं. हम तुम्हें मार गिराएंगे और तुम इसकी कीमत चुकाओगे. मैं अपने हितों और अपने लोगों की रक्षा करूंगा.

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया, वह कयामत का था नजारा, बयां करना मुश्किल

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद पहली बार गुरुवार को काबुल एयरपोर्ट पर हुए विस्फोट ने लोगों को झकझोर दिया है. कुछ लोगों ने इसे कयामत के दिन बताया, तो कईयों ने विस्फोट के बाद जो विभत्सता देखी, उसका बयान किया है. अमेरिका के स्पेशल इमीग्रेशन वीजाधारक एक इंटरनेशनल डेवलेपमेंट ग्रुप के पूर्व कर्मचारी ने बताया कि वह भी उन हजारों लोगों में शामिल था जो हवाई अड्डे में प्रवेश करने और किसी उड़ान में सवार होने का इंतजार कर रहे थे. वह हवाई अड्डे के अब्बे गेट पर करीब 10 घंटे से कतार में थे. गुरुवार शाम को करीब पांच बजे एक शक्तिशाली धमाका हुआ.

उन्होंने बताया कि ऐसा लगा जैसे किसी ने मेरे पैरों के नीचे से जमीन खींच ली. कुछ क्षणों के लिए मुझे लगा कि मेरे कान के पर्दे फट गये हैं और मेरी सुनने की शक्ति चली गयी है. मैंने देखा कि लोगों के शरीर और शरीर के अंग प्लास्टिक की थैलियों की तरह हवा में उड़ रहे थे. उन्होंने कहा, इस जीवन में कयामत का दिन देखना संभव नहीं है, लेकिन आज मैंने कयामत का दिन देखा. यह मैंने अपनी आंखों से देखा. हवाई अड्डे के बाहर इंतजार कर रहे अफगान नागरिक आदम खान ने बताया धमाका हवाई अड्डे में प्रवेश के लिए इंतजार कर रहे लोगों के बीच हुआ.

एके-47 से चलीं अंधाधुंध गोलियां, बाल-बाल बचे लोग

ले ब्रिटेन के एक पूर्व रॉयल मरीन पाल पेन फारथिंग ने बताया कि अचानक हमने गोलियां चलने की आवाज सुनी और हमारे वाहन को निशाना बनाया गया. अगर हमारे ड्राइवर ने वाहन को मोड़ा नहीं होता, तो एके-47 लिए एक व्यक्ति ने उसके सिर में गोली मार दी होती. हम एयरपोर्ट पर थे, लेकिन अब लौट आये हैं. यहां सब कुछ गड़बड़ है. बता दें कि अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद वहां से निकलने की कोशिश में काबुल हवाई अड्डे के बाहर जमा हुए लोगों के बीच गुरुवार को बम धमाके में 100 से अधिक लोगों की मौत हो गयी जबकि कई अन्य के घायल होने की खबर है.

Posted By : Amitabh Kumar

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें