27.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

Gabriel Garcia Marquez: अपने लेखक को याद करता एक शहर

गैब्रियल गार्सिया मार्केज की विरासत को कैरेबियन क्षेत्र में बसा अराकाटाका नाम का छोटा सा पहाड़ी शहर हर ओर अपनी-अपनी तरह से याद कर रहा है.

Gabriel García Marquez: हमारे शहर अगर अपने लेखक को याद करते, तो उनकी सूरत कुछ यूं होती, जैसी कोलंबिया के अराकाटाका की है. अगर हम ये कहें कि इस शहर की हवा में इसके लेखक की खुशबू महसूस की जा सकती है, तो यह अतिशयोक्ति नहीं होगी. वैश्विक साहित्य के दिग्गज और कोलंबिया के सबसे प्रसिद्ध लेखक गैब्रियल गार्सिया मार्केज की विरासत को कैरेबियन क्षेत्र में बसा अराकाटाका नाम का छोटा सा पहाड़ी शहर हर ओर अपनी-अपनी तरह से याद कर रहा है. इस शहर में 1982 में साहित्य के नोबेल विजेता बने मार्केज का जन्म हुआ था और शुरुआती बचपन बीता था.

हर सड़क में मिलता है मार्केज का उल्लेख

न्यूयॉर्क टाइम्स में प्रकाशित एक हालिया रिपोर्ट में मार्केज के शहर की बदली हुई तस्वीर को बयां किया गया है. रिपोर्ट बताती है कि शहर में उनकी मूर्ति और दीवार पर बड़े-बड़े चित्र हैं. स्कूलों और पुस्तकालयों का नाम उनके नाम पर रखा गया है. होटल, नाइट क्लब, बाइक की मरम्मत करनेवाले गैराज और नाई की दुकान में उनके काम का संदर्भ मिलता है. तपते कोलंबियाई पर्वतीय शहर अराकाटाका किसी भी सड़क पर इसके सबसे प्रसिद्ध पूर्व निवासी गैब्रियल गार्सिया मार्केज का उल्लेख देखे बिना चलना असंभव है. पूरे शहर में पीली तितलियां देखी जा सकती हैं, जो उनकी प्रसिद्ध साहित्यिक छवियों में से एक का संकेत है. जिस घर में वह एक बच्चे के रूप में रहते थे, उसे उसके मूल फर्नीचर से भरे एक संग्रहालय में बदल दिया गया है, जिसमें वह पालना भी शामिल है, जिसमें वह सोते थे.

‘वन हंड्रेड इयर्स ऑफ सॉलिट्यूड’ के पात्र के नाम पर है लाइब्रेरी

उनके उपन्यास ‘वन हंड्रेड इयर्स ऑफ सॉलिट्यूड’ के पात्र रेमेडियोस द ब्यूटी के नाम पर शहर की एक लाइब्रेरी का नाम बिब्लियोटेका पब्लिका म्युनिसिपल रेमेडियोज ला बेला रखा गया है, जिसमें विभिन्न भाषाओं में अनुवादित उनकी पुस्तकों को भी रखा गया है. कभी बेरोजगारी और बुनियादी सेवाओं की कमी से त्रस्त 40,000 लोगों की आबादी वाला धूल भरा और जीर्ण-शीर्ण शहर अराकाटाका, कोलंबिया के सबसे प्रसिद्ध लेखक मार्केज की जन्मभूमि होने के कारण बदल गया है.

शहर एक प्रकार का गैबोलैंड बन गया है

दस साल पहले, शहर में पर्यटकों को देने के लिए बहुत कम था और लेखक के साथ अपने संबंध को बढ़ावा देने के लिए संग्रहालय और पूल हॉल से परे कुछ भी नहीं था. लेकिन, 2014 में मार्केज की मृत्यु के बाद, लोगों की उनमें और उनके गृहनगर में रुचि तेजी से बढ़ी है, जिसने इस शहर को भी अपने लेखक को याद करने के लिए प्रेरित किया है. कई लोग मार्केज को उनके उपनाम गैबो से संदर्भित करते हैं और यह शहर एक प्रकार का गैबोलैंड बन गया है. आप किसी भी ब्लॉक से गुजरें, वहां के दृश्य आपको लेखक की याद दिलाते हैं. शहर में उनसे संबंधित सड़क, उनके भित्ति चित्र, मूर्तियां और उनके चित्रों और किरदारों वाले बेसबॉल कैप से लेकर कॉफी मग तक कई वस्तुओं को बेचने वाले बहुत सारे स्टैंड हैं.

अंतिम किताब ‘अनटिल अगस्त’ के विमोचन के बाद बढ़ी उम्मीदें

मार्केज की मरणोपरांत आयी अंतिम किताब ‘अनटिल अगस्त’, जिसका हाल ही में उनके जन्मदिन पर 6 मार्च को विमोचन किया गया, आने के बाद अराकाटाका के लोगों को उम्मीद है कि उनका यह शहर अब और भी अधिक पर्यटकों को आकर्षित करेगा. स्थानीय लोग चाहते हैं कि उनके शहर को उनके लेखक के माध्यम से मजबूत किया जाये. बीते साल इस शहर में 22 हजार पर्यटक आये, जो कि 2019 में आये 17,500 पर्यटकों से अधिक थे. यह शहर हर साल 6 मार्च को गार्सिया मार्केज का जन्मदिन मनाता है, लेकिन इस साल का उत्सव बड़ा था, जिसमें अधिक प्रतिभागी और अधिक गतिविधियां थीं. उत्सव में एक लघु कहानी और कविता प्रतियोगिता शामिल थी, जिसमें पीली तितलियों के रूप में सजी लड़कियों द्वारा नृत्य प्रदर्शन किया गया था. बच्चों को ‘वन हंड्रेड इयर्स ऑफ सॉलिट्यूड’ के कुछ भाग पढ़ने के लिए एक लाइब्रेरियन ने मिस्टर गार्सिया मार्केज की वेशभूषा धारण की. शाम को, एक थिएटर समूह ने ‘लव इन द टाइम ऑफ कॉलरा’ का प्रदर्शन किया.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें