1. home Hindi News
  2. world
  3. coronavirus vaccine china scientist claim medicine finish covid 19 antibody

चीनी वैज्ञानिक का दावा, वैक्सीन नहीं इस दवा से ही खत्म हो जाएगा कोरोना

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
चीनी वैज्ञानिक का दावा, वैक्सीन नहीं इस दवा से ही खत्म हो जाएगा कोरोना
चीनी वैज्ञानिक का दावा, वैक्सीन नहीं इस दवा से ही खत्म हो जाएगा कोरोना
Twitter

बीजिंग : कोरोनावायरस से त्रस्त दुनिया भर के लिए राहत की खबर है. चीन के लैब में एक ऐसी दवा बनाई जा रही है, जिससे कोरोनावायरस को शरीर के अंदर ही खत्म कर दिया जायेगा. बताया जा रहा है कि यह दवा वैक्सीन के बदले बनाई जा रही है और जल्द ही इसका सफल प्रयोग कर लिया जायेगा.

समाचार एजेंसी एएफपी के अनुसार चीन के चीन के टॉप विवि में शुमार पेकिंग विश्वविद्यालय के लैब में यह दवा बनाई जा रही है. दवा बनाने वाले वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि यह दवा न केवल संक्रमित लोगों के ठीक होने समय को कम कर सकती है, बल्कि वायरस से अल्पकालिक इम्यूनिटी भी प्रदान कर सकती है.

लैब में काम करने वैज्ञानिकों का कहना है कि पशु पर इसका प्रयोग सफल रहा है. अब इसके अगले चरण की तैयारी की जा रही है. यूनिवर्सिटी के बीजिंग एडवांस्ड इनोवेशन सेंटर फॉर जीनोमिक्स के निदेशक सुनीनी झी ने एजेंसी को बताया कि जब हमने संक्रमित चूहों में न्यूट्रलाइजिंग एंटीबॉडीज इंजेक्ट किया, तो पांच दिनों के बाद वायरल लोड 2,500 के कारक से कम हो गया, जिसके बाद हमें आगे की उम्मीद जगी है और हमें आशा है कि यह दवा कोरोना को खत्म कर देगी.

इटली कर चुका है दावा- इससे पहले, कोरोना से सबसे प्रभावित देशों में से एक इटली भी वैक्सीन बनाने का दावा कर चुका है. इटली ने पिछले दिनों कहा कि हमने कोरोना की वैक्सीन बना ली है और जल्दी ही कोरोनावायरस को रोक दिया जायेगा.

साइंस टाइम्स को इटली सरकार ने बताया था कि हमारे वैज्ञानिकों द्वारा कोरोना के एंटी बॉडी ढूंढ़ लिया गया है. जल्द ही इसको हम उपयोग में लायेंगे. बता दें कि इटली में कोरोनावायरस से अब तक तकरीबन 35 हजार लोगों की मौत हो चुकी है.

फ्लॉप रेमेड्सवियर दवा की खोज- इससे पहले अमेरिका के शिकागो विवि ने कोरोना दवा खोजने की बात कही थी. शिकागो मेडिकल सेंटर गिलीड साइंसेज ने एक दवा का निर्माण किया है, जिसका नाम है रेमेड्सवियर. यह एक एंटीवायरल न्यूक्लियोटाइड एनालॉग ड्रग है. ऐसा बताया जा रहा है कि इससे COVID-19 के मरीजों का इलाज संभव हो पाएगा. हालांकि बाद में खबर आई कि यह दवा कोरोना खत्म करने में समर्थ नहीं है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें