1. home Hindi News
  2. tech and auto
  3. koo app makes its algorithms public becomes first social media platform to do so rjv

Twitter ने जिस चीज के लिए आनाकानी की, Koo ने बिना कहे पूरा कर दिया

'कू' एल्गोरिदम लेकर आया है. इसकी मदद से प्लैटफॉर्म के यूजर्स को यह समझने में मदद मिलेगी कि उन्हें जो कंटेंट दिख रहा है, वह उनके सामने क्यों पेश किया जा रहा है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
koo algo
koo algo
koo

Koo Algorithm: ट्विटर का प्रतिद्वंद्वी प्लैटफॉर्म 'कू' एल्गोरिदम लेकर आया है. कू ने ऐलान किया है कि वह अपने मूल एल्गोरिदम के पीछे के कामकाज के तरीके को प्रकाशित कर रहा है. कंपनी ने कहा कि ऐसा करने वाला वह पहला सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म है. कू ने आगे बताया कि इसकी मदद से प्लैटफॉर्म के यूजर्स को यह समझने में मदद मिलेगी कि उन्हें जो कंटेंट दिख रहा है, वह उनके सामने क्यों पेश किया जा रहा है. Koo के इस एल्गोरिदम को यूजर्स Koo की वेबसाइट पर जाकर देख सकते हैं.

ट्विटर की प्रतिस्पर्धी कू ने अपने मूल एल्गोरिदम को सार्वजनिक कर दिया है. कंपनी ने कहा कि किसी सोशल मीडिया मंच ने पहली बार ऐसा किया है. इससे यूजर्स को यह समझने में मदद मिलेगी कि उन्हें जो कंटेंट दिखाई दे रहा है, उसकी वजह क्या है. एक बयान के अनुसार, इन एल्गोरिदम को कू की वेबसाइट पर सार्वजनिक किया गया है.

एल्गोरिदम गणितीय नियमों का एक समूह है, जो उपयोगकर्ताओं के व्यवहार और वरीयताओं पर आधारित होता है और उनके अनुभवों को खास और बेहतर बनाने में मदद करता है. इन एल्गोरिदम का मूल सिद्धांत उपयोगकर्ता के लिए प्रासंगिकता बढ़ाना है.

कू ने यह कदम ऐसे समय में उठाया है, जब ट्विटर जैसे सोशल मीडिया मंच को लेकर पारदर्शिता और अभिव्यक्ति की आजादी को लेकर चिंताएं जतायी जा रही हैं. घरेलू माइक्रो ब्लॉगिंग मंच कू ने एक बयान में कहा कि वह अपने एल्गोरिदम को सार्वजनिक करने वाली पहली महत्वपूर्ण सोशल मीडिया कंपनी बन गई है.

कंपनी ने कहा कि उसका मकसद कू को एक पारदर्शी और सुरक्षित मंच के रूप में स्थापित करना है. बयान में कहा गया कि यह कदम उपयोगकर्ताओं के हितों को ध्यान में रखते हुए पारदर्शिता और तटस्थता के लिए कू की प्रतिबद्धता को दर्शाता है. (इनपुट : भाषा)

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें