1. home Hindi News
  2. tech and auto
  3. ford india to stop car manufacturing in india read full details here rjv

Ford India News: भारत को अलविदा कहेगी 125 साल पुरानी मोटर कंपनी, जानें क्या है वजह

फोर्ड के मालिक हेनरी फोर्ड (Henry Ford) ने सबसे पहले चार पहिये वाली एक खास तरह की साइकिल से इसकी शुरुआत की थी. इस चार पहिया साइकिल में इंजन भी था. खास बात यह है कि 125 साल पुरानी इस कंपनी की कमान एक परिवार के पास ही है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
ford india terminates manufacturing operations
ford india terminates manufacturing operations
ford India

Ford India News: अमेरिका की प्रमुख वाहन निर्माता कंपनी Ford जल्द ही भारत को अलविदा कहने वाली है. फोर्ड मोटर कंपनी (Ford Motor Company) भारत में कार बनाना बंद कर देगी. कंपनी देश में अपने दोनों संयंत्रों को बंद करेगी. रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, वाहन निर्माता कंपनी बाजार से बाहर निकलेगी.

रिपोर्ट के अनुसार, फोर्ड ने यह निर्णय इसलिए लिया क्योंकि इसे जारी रखना उनके लिए लाभदायक नहीं है. भारतीय बाजार में लंबे समय से संघर्षों के दौर से गुजर रही है. इस प्रक्रिया को पूरा करने में लगभग एक साल का समय लगेगा.

अमेरिका की प्रमुख वाहन कंपनी फोर्ड मोटर पुनर्गठन के प्रयासों के तहत भारत में अपने दो विनिर्माण संयंत्र बंद करेगी और देश में केवल इंपोर्टेड गाड़ियों की बिक्री करेगी. इस मामले से जुड़े सूत्रों ने यह जानकारी दी.

कंपनी, जिसने अपने चेन्नई (तमिलनाडु) और साणंद (गुजरात) संयंत्रों में लगभग 2.5 अरब डॉलर का निवेश किया है, इन संयंत्रों से उत्पादित इकोस्पोर्ट, फिगो और एस्पायर जैसे वाहनों की बिक्री बंद कर देगी.

आगे चलकर यह देश में केवल मस्टैंग जैसे आयातित वाहनों की ही बिक्री करेगी. मामले की जानकारी रखने वाले एक अन्य व्यक्ति ने कहा, यह पुनर्गठन का फैसला है. कंपनी सिर्फ आयातित वाहनों की ओर रुख करेगी.

जल्द ही कंपनी की ओर से इस बारे में औपचारिक घोषणा किये जाने की उम्मीद है. फोर्ड भारत के वाहन बाजार में अपनी पहचान बनाने के लिए वर्षों से संघर्ष कर रही है. फोर्ड इंडिया के पास सालाना 6,10,000 इंजन और 4,40,000 वाहनों की स्थापित विनिर्माण क्षमता है.

कंपनी ने फिगो, एस्पायर और इकोस्पोर्ट जैसे अपने मॉडलों को दुनिया भर के 70 से अधिक बाजारों में निर्यात किया है. इस साल जनवरी में फोर्ड मोटर कंपनी और महिंद्रा एंड महिंद्रा ने अपने पूर्व में घोषित वाहन संयुक्त उद्यम को समाप्त करने और भारत में स्वतंत्र परिचालन जारी रखने का फैसला किया था.

अक्टूबर 2019 में दोनों कंपनियों ने एक समझौते की घोषणा की थी, जिसके तहत महिंद्रा एंड महिंद्रा फोर्ड मोटर कंपनी (एफएमसी) की पूर्ण स्वामित्व वाली इकाई में बहुलांश हिस्सेदारी हासिल करेगी, जो भारत में अमेरिकी वाहन कंपनी के कारोबार को संभालेगी.

नयी इकाई को बाजार का विकास करना था और भारत में फोर्ड ब्रांड के वाहनों को वितरित करना था, साथ ही उच्च विकास वाले उभरते बाजारों में महिंद्रा और फोर्ड दोनों की कारों की बिक्री करनी थी.

समझौते के तहत एमएंडएम को अमेरिकी वाहन कंपनी की पूर्ण स्वामित्व वाली इकाई अर्दोर ऑटोमोटिव प्राइवेट लिमिटेड में लगभग 657 करोड़ रुपये में 51 प्रतिशत हिस्सेदारी का अधिग्रहण करना था, जो वर्तमान में फोर्ड मोटर कंपनी इंक, अमेरिका की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है.

अर्दोर में शेष 49 प्रतिशत इक्विटी शेयरधारिता एफएमसी या उसके किसी सहयोगी के पास होनी थी. जनरल मोटर्स के बाद भारत में कारखाना बंद करने वाली फोर्ड दूसरी अमेरिकी वाहन कंपनी है.

वर्ष 2017 में जनरल मोटर्स ने घोषणा की कि वह भारत में वाहनों की बिक्री बंद कर देगी क्योंकि दो दशकों से अधिक समय तक संघर्ष करने के बाद भी उसकी स्थिति में कोई बदलाव नहीं आया है.

कंपनी ने गुजरात में अपना हलोल संयंत्र एमजी मोटर्स को बेच दिया, जबकि उसने निर्यात के लिए महाराष्ट्र में अपने तालेगांव संयंत्र को चलाना जारी रखा था, लेकिन पिछले दिसंबर में वहां भी उत्पादन बंद कर दिया.

1896 की कंपनी, कमान एक परिवार के पास

फोर्ड के मालिक हेनरी फोर्ड ने सबसे पहले चार पहिये वाली एक खास तरह की साइकिल से इसकी शुरुआत की थी. इस चार पहिया साइकिल में इंजन भी था और इसमें चार हॉर्सपावर का इंजन लगा हुआ था. दुनिया की सबसे पुरानी ऑटोमोबाइल कंपनियों में से एक यह कंपनी दो विश्व युद्ध भी देख लिए और इस विपरीत परिस्थिति में भी कंपनी ने अपना काम जारी रखा. अब इसका कारोबार काफी जगह फैल चुका है. खास बात यह है कि 125 साल पुरानी इस कंपनी की कमान एक परिवार के पास ही है.(इनपुट:भाषा)

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें