1. home Hindi News
  2. tech and auto
  3. electric scooter fire ev fire india ev fire accident union minister nitin gadkari says high temperature a problem for batteries rjv

EV में क्यों लग रही आग? क्या बढ़ती गर्मी है जिम्मेदार?

नितिन गडकरी ने कहा कि मार्च, अप्रैल और मई में पारा चढ़ने के साथ इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवी) की बैटरी में कुछ समस्या होती है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
ev fire
ev fire
fb

Nitin Gadkari EV Fire: इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों में आग लगने की घटनाओं के बीच, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कंपनियों से सभी खराब वाहनों को वापस मंगाने के लिए अग्रिम कार्रवाई करने का आग्रह किया. उन्होंने कहा कि मार्च, अप्रैल के महीनों में जब मौसम का तापमान बढ़ जाता है तो ईवी बैटरी में कुछ समस्या पैदा हो जाती है.

तुरंत कदम उठाने का आग्रह

इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों में हाल में आग लगने की घटनाओं के बीच केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कंपनियों से गड़बड़ी वाले वाहनों को वापस मंगाने को लेकर तुरंत कदम उठाने का आग्रह किया. उन्होंने कहा कि मार्च, अप्रैल और मई में पारा चढ़ने के साथ इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवी) की बैटरी में कुछ समस्या होती है.

सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री ने कहा कि देश का ईवी उद्योग अभी काम करना शुरू किया है और सरकार उनके समक्ष कोई बाधा पैदा नहीं करना चाहती. उन्होंने कहा, लेकिन सरकार के लिए सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण और मानव जीवन के साथ कोई समझौता नहीं किया जा सकता.

मायने रखता है गडकरी का बयान

हाल के दिनों में इलेक्ट्रिक वाहनों में आग लगने की कुछ घटनाओं के बाद उनका बयान मायने रखता है. इन घटनाओं में कुछ लोगों की मौत हो गयी जबकि कई जख्मी हुए. एक कार्यक्रम में गडकरी ने कहा कि कंपनियां खराब वाहनों को ठीक करने के लिए उन्हें वापस मंगाने को लेकर तुंरत कदम उठा सकती हैं.

ईवी में आग लगना पारा चढ़ने से जुड़ा है

उन्होंने कहा, मार्च, अप्रैल और मई में पारा चढ़ता है और ऐसे में ईवी बैटरी के कुछ समस्या होती है. मुझे लगता है कि इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों में आग लगना पारा चढ़ने से जुड़ा है. मंत्री ने कहा कि सरकार ईवी को लोकप्रिय बनाना चाहती है.

ईवी उद्योग के लिए कोई बाधा पैदा नहीं करना चाहते

गडकरी ने कहा, हम समझते हैं कि ईवी उद्योग ने अभी काम करना शुरू किया है. हम उसके लिए कोई बाधा पैदा नहीं करना चाहते. लेकिन सुरक्षा सरकार के लिए सर्वोच्च प्राथमिकता है और मानवीय जीवन के साथ कोई समझौता नहीं हो सकता. (इनपुट : भाषा)

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें