1. home Hindi News
  2. tech and auto
  3. dot to allow mobile phone users switch between prepaid and postpaid by using otp only know full details here rjv

JIO Airtel Vi कस्टमर्स सिर्फ एक OTP के जरिये पोस्टपेड-प्रीपेड में बदल सकेंगे मोबाइल कनेक्शन, SIM बदलने या KYC की जरूरत नहीं

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
now you can convert prepaid sim to postpaid with otp
now you can convert prepaid sim to postpaid with otp
fbz

दूरसंचार विभाग (DoT) ने मोबाइल फोन उपभोक्ताओं (mobile phone users) को एक बड़ी राहत देने जा रहा है. अगर आप प्रीपेड (prepaid) कनेक्शन के उपभोक्ता हैं और पोस्टपेड (postpaid) में कन्वर्ट करना चाहते हैं, तो यह महज एक वन टाइम पासवर्ड (OTP) के जरिये आसानी से किया जा सकता है. इसके लिए आपको न तो सिमकार्ड (SIM card) बदलने की जरूरत पड़ेगी, न ही केवाईसी (KYC) की.

मोबाइल फोन यूजर्स जल्द ही ओटीपी (OTP) बेस्ड वेरिफिकेशन के जरिये अपने फोन कनेक्शन को पोस्टपेड से प्रीपेड या प्रीपेड से पोस्टपेड में बदल सकेंगे. दूरसंचार विभाग के एक नोट के अनुसार इसके लिए ग्राहकों को अपना सिम कार्ड बदलने की जरूरत नहीं होगी.

उद्योग संगठन सेल्युलर ऑपरेटर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सीओएआई, COAI) ने दूरसंचार विभाग को इस व्यवस्था का प्रस्ताव किया है. विभाग ने दूरसंचार ऑपरेटरों से इसके लिए प्रूफ ऑफ कंसेप्ट, यानी अवधारणा के प्रमाण (PoC) पर काम करने को कहा है.

दूरसंचार विभाग के नोट में कहा गया है कि ओटीपी के जरिये कनेक्शन में बदलाव पर अंतिम फैसला PoC के नतीजे पर निर्भर करेगा. दूरसंचार विभाग के एडीजी सुरेश कुमार ने 21 मई को जारी नोट में कहा है कि दूरसंचार सेवा प्रदाता प्रीपेड कनेक्शन को पोस्टपेड या पोस्टपेड को प्रीपेड में बदलने के लिए प्रक्रिया के तहत पीओसी पर काम करेंगे. PoC के नतीजे के बाद इस बारे में कोई निर्णय लिया जाएगा.

सीओएआई के सदस्यों में रिलायंस जियो, भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया जैसी कंपनियां शामिल हैं. सीओएआई ने नौ अप्रैल को दूरसंचार विभाग से आग्रह किया था कि ग्राहकों को नये सिरे से अपने ग्राहक को जानो यानी केवाईसी प्रक्रिया के बिना पोस्टपेड से प्रीपेड और प्रीपेड से पोस्टपेड में स्थानांतरित होने की अनुमति दी जानी चाहिए. इसके लिए एकबारगी पासवर्ड यानी ओटीपी का इस्तेमाल होना चाहिए.

नोट में कहा गया है कि आज सभी क्षेत्रों में ओटीपी आधारित सत्यापन एक स्वीकार्य नियम है और नागरिक केंद्रित ज्यादातर सेवाओं की पेशकश इसी के जरिये की जाती है. नोट के अनुसार, मौजूदा दौर में ग्राहकों की सुविधा के लिए संपर्करहित सेवाओं को प्रोत्साहन दिया जाना चाहिए. (इनपुट : भाषा)

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें