माकपा से निष्कासित हुए पूर्व सांसद लक्ष्मण सेठ

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

कोलकाता: पूर्व मेदिनीपुर के दिग्गज वामपंथी नेता व पूर्व सांसद लक्ष्मण सेठ को गुरुवार को माकपा से निष्कासित कर दिया गया. पार्टी द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में उन्हें पार्टी विरोधी गतिविधियों में दोषी पाया गया. इस मुद्दे पर माकपा जिला कमेटी की अहम बैठक हुई, जिसमें पार्टी की धारा 19 व 13 की उपधारा के तहत उन्हें निष्कासित करने का फैसला लिया गया.

पार्टी का कहना है कि जहां पूर्व मेदिनीपुर में माकपा को मजबूत करने पर जोर दिया जा रहा है, वहीं लक्ष्मण सेठ पार्टी विरोधी बयान दे रहे हैं. इससे पार्टी की प्रतिष्ठा धूमिल हुई है.

क्या दिया था बयान
लक्ष्मण सेठ ने पूर्व मुख्यमंत्री व माकपा पोलित ब्यूरो के सदस्य बुद्धदेव भट्टाचार्य के खिलाफ विरोधी बयान दिया था. उन्होंने बुद्धदेव भट्टाचार्य के खिलाफ अभियान छेड़ते हुए कहा था कि पूर्व मुख्यमंत्री को 2007 में पुलिस गोलीबारी के बाद इस्तीफा दे देना चाहिए था. इस घटना में 14 लोग मारे गये थे. श्री सेठ पहले ही मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की दार्जिलिंग व जंगल महल में शांति स्थापित करने के लिए सराहना भी कर चुके हैं.

मैंने पहले ही साफ कर दिया था कि माकपा की सदस्यता का नवीनीकरण नहीं कराऊंगा. मुङो साजिश कर निशाना बनाया गया है. बलि का बकरा बनाया गया है. बुद्धदेव को आठ बार पार्टी से निकालना चाहिए.

लक्ष्मण सेठ, पूर्व माकपा सांसद

    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें