उत्तर भारतीयों की योग्यता पर सवाल उठाकर बुरे फंसे केंद्रीय मंत्री गंगवार, प्रियंका ने कहा - ये नहीं चलेगा...

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

बरेली: केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोष गंगवार का कहना है कि देश में नौकरियों की कमी नहीं है. हमारे उत्तर भारत के लोगों में योग्यता की कमी है. यहां नौकरी के लिये रिक्रूट करने आने वाले अधिकारी बताते हैं कि उन्हें जैसे लोग चाहिये उनमें वह योग्यता नहीं है. मोदी सरकार के 100 दिन पूरे होने के मौके पर उत्तर प्रदेश के बरेली में संतोष गंगवार सरकार की उपलब्धियां गिना रहे थे. गंगवार बरेली से ही सांसद हैं.

आर्थिक मंदी के इस दौर में संतोष गंगवार से जब देश में बेरोजगारी को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि देश में रोजगार की कोई समस्या नहीं है. जो भी कंपनियां रोजगार देने आती हैं, उनका कहना कि उन युवाओं में योग्यता नहीं है. उन्होंने कहा कि देश में आर्थिक मंदी की बात तो समझ में आ रही है, लेकिन रोजगार की कमी की नहीं.

मंत्री का कहना है कि हम इसी मंत्रालय को देखने का काम करते हैं. इसलिए मुझे जानकारी है कि देश में रोजगार की कोई कमी नहीं है. रोजगार बहुत है. रोजगार दफ्तर के आलावा हमारा मंत्रालय भी इसकी मॉनिटरिंग कर रहा है. संतोष गंगवार का बयान ऐसे समय आया है जब बेरोजगारी और आर्थिक हालात को लेकर विपक्ष लगातार हमलावर है. वहीं सरकार स्थिति से निपटने के लिए कई ऐलान कर चुकी है.

युवाओं की योग्यता पर सवाल उठाकर संतोष गंगवार अब विपक्ष के निशाने पर आ गए हैं. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट करके कहा, मंत्रीजी, 5 साल से ज्यादा आपकी सरकार है. नौकरियां पैदा नहीं हुईं. जो नौकरियां थीं वो सरकार द्वारा लाई आर्थिक मंदी के चलते छिन रही हैं. नौजवान रास्ता देख रहे हैं कि सरकार कुछ अच्छा करे. आप उत्तर भारतीयों का अपमान करके बच निकलना चाहते हैं. ये नहीं चलेगा.

वहीं, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गंगवार के बयान पर पलटवार किया. अकिलेश ने कहा- मोदी सरकार उलझन में है कि अर्थव्यवस्था बिगड़ी हुई है. नोटबंदी से आतंकवाद, भ्रष्टाचार भी खत्म नहीं हुआ. जीएसटी से व्यापार चौपट हो गया और सरकार चाहती है कि देश के युवा पकौड़े तले.

राष्‍ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के दिग्‍गज नेता रघुवंश प्रसाद ने कहा, अपने बयान के लिए संतोष गंगवार को माफी मांगनी चाहिए. अपने निकम्मेपन,नकारापन को छुपाने के लिए उन्होंने ये घटिया बयान दिया है. इस तरह का बयान युवाओं का मनोबल गिराता है. हमारे लोग विदेशों में भी बेहतर काम कर रहे हैं. देश में योग्यता की कमी नहीं है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें