1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. the slogan of sankalp is to be repeated corona has to be driven out of the country

जगमगा उठी रांची, सबने कहा - संकल्प के नारे को दोहराना है, कोरोना को देश से भगाना है

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
9 बजते ही जगमगा उठी रांची.
9 बजते ही जगमगा उठी रांची.

रांची : कोरोना वायरस के संक्रमण से पूरी दुनिया जूझ रही है. इसके खिलाफ जंग को लेकर एकता प्रदर्शित करने के लिए रविवार को पूरे देश के साथ रांची के लोगों ने भी एक साथ दीया, मोमबत्ती और फ्लैट लाइट जलायी. रविवार को रांची जगमगाती नजर आयी. लोगों ने कोरोना वायरस के भय को मन से मिटाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर अपने-अपने घरों में दीया, टॉर्च आदि जलाया.

लोगों ने इसके लिए पहले से ही तैयारी कर रखी थी. रात नौ बजते ही घर के विभिन्न कमरों में बैठे लोग घर के मुख्य द्वार पर पहुंच गये. किसी ने हाथ में टॉर्च पकड़ा था, तो कोई अपने घर के दरवाजे पर दीया जला रहा था. लोगों के बीच उत्साह देखते ही बन रहा था. इसके साथ कई घरों से घंटी, थाली और शंख भी बजते रहे. महिलाएं घर के मुख्य द्वार पर अगरबत्ती और कैंडल लेकर भी खड़ी दिखाई पड़ीं.

सभी का एक हीं नारा था-संकल्प के नारे को दोहराना है, कोरोना को देश से भगाना है.दिन में हुई कैंडल की बिक्री रात को प्रधानमंत्री के आह्वान को पूरा करने के लिए लोगों ने दिन से तैयारी की. लॉकडाउन का पालन करते हुए लोगों ने घर पर दीवाली में इस्तेमाल हुए पुराने दीये खोज कर निकाले. वहीं कई लोग अपने घर के आसपास की दुकान से कैंडल का पैकेट खरीद कर ले गये. दुकानों में कैंडल पांच रुपये प्रति पिस से लेकर 70 रुपये पैकेट तक बेचे गये.घर की लाइट की बंदभारतवासी होने के नाते लोगों ने एकजुटता का संदेश देते हुए रात नौ बजे अपने-अपने घर की लाइट बंद कर दी. घर के सभी कमरों की लाइट रात नौ बजे से लेकर 9.09 मिनट तक बंद रखे गये. एक ओर गली-मुहल्लों में सन्नाटा रहा,

वहीं दूसरी ओर लोगों ने ओर मोमबत्ती और दीये जलाकर कोरोना संक्रमण से मरने वाले लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित की.कई लोगों ने जलाया पटाकेकई घर के लोगों ने अपने-अपने घर से पटाके भी जलाये. सुरक्षा को ध्यान में रखकर लोगों ने इन्हें जलाया. दिये और पटाखे जलाकर लोगों ने सकरात्मकता का संदेश दिया. वहीं कई लोगों ने अपने अपने मोबाइल की फ्लैश लाइट और टॉर्च जलाकर भी समाज के लोगों के बीच सकारात्मकता का प्रकाश लाया.

रात्रि 9 बजे कोरोना के अंधकार पर विजय प्राप्त करने हेतु दीपक जलाया. उन्होंने कहा कि हम सभी भारतवासी को अपनी एकजुटता एवं दृढ़ इच्छाशक्ति से नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19) के अंधकार पर विजय प्राप्तनेआज कर इसके प्रसार को रोकना है. उन्होंने सभी से लॉकडाउन के सम्पूर्ण नियमों का पालन करने हेतु आह्वान किया और सोशल डिस्टेंस बनाये रखने हेतु आग्रह किया. बांध गाड़ी में लोगों ने जलाए दियेन्यू नगर,न्यू शांतिपुरम बांध गाड़ी, दीपा टोली में लोगों ने अपने घरों से निकलकर घर के बाहर एवं बालकोनी में दिये जलाये. साथ ही कई लोग ईश्वर से प्रार्थना भी की. हाथ जोड़कर खडे होते नजर आए. वही दिए के साथ लोगों ने टॉर्च फ्लैशलाइट भी जलाया. साथ ही पटाखे भी छोड़े गए.

9 बजे 9 मिनट के बाद लोगों ने अपने घरों में लाइट जलाना आरंभ कर दिया. सभी अपनी-अपनी छत से इसका नजारा देख रहे थे .और प्रधानमंत्री के आवाहन का बखूबी निभाने में अपना योगदान दे रहे थे.कोकर सुंदर विहारकोकर सुंदर विहार मोहल्ला में लोगों ने स्ट्रीट लाइट भी बंद कर दिये. नौ बजते ही घरों के लाइट बंद कर दिया जलाएं .

इस दौरान लोगों ने पटाखे भी फोड़. एचईसी में रात 9:00 बजे पूरा का पूरा अंधेरा लोगों ने दीया मोमबत्ती मोबाइल का फ्लैशलाइट टॉर्च जलाकर प्रधानमंत्री के आह्वान का समर्थन किया. कई लोगों ने पटाखे भी जलाए. साथ ही लगातार 9 मिनट तक शंख की ध्वनि से एचईसी परिसर गूंजता रहा. बच्चे बूढ़े महिला पुरुष सभी में खासा उत्साह नजर आया.

कोरोना गो का लगाया नारा : एचईसी क्षेत्र में लोगों ने प्रधानमंत्री के आह्वान पर अपने अपने घरों का लाइट बंद कर दिया और दिया जलाया. कई लोगों ने दिवाली की तरह बम फुलझड़ी भी छोड़ा वही महिलाओं ने अपने घर के दरवाजा चार दिवारी वह छतों पर दीप जलाया और गो कोरोना गो का नारा लगाया.

दिन में हुई कैंडल की बिक्री रात को प्रधानमंत्री के आह्वान को पूरा करने के लिए लोगों ने दिन से तैयारी की. लॉकडाउन का पालन करते हुए लोगों ने घर पर दीवाली में इस्तेमाल हुए पुराने दीये खोज कर निकाले. वहीं कई लोग अपने घर के आसपास की दुकान से कैंडल का पैकेट खरीद कर ले गये. दुकानों में कैंडल पांच रुपये प्रति पिस से लेकर 70 रुपये पैकेट तक बेचे गये.

घर की लाइट की बंदभारतवासी होने के नाते लोगों ने एकजुटता का संदेश देते हुए रात नौ बजे अपने-अपने घर की लाइट बंद कर दी. घर के सभी कमरों की लाइट रात नौ बजे से लेकर 9.09 मिनट तक बंद रखे गये. एक ओर गली-मुहल्लों में सन्नाटा रहा, वहीं दूसरी ओर लोगों ने ओर मोमबत्ती और दीये जलाकर कोरोना संक्रमण से मरने वाले लोगों को श्रद्धांजलि अर्पित की.कई लोगों ने जलाया पटाकेकई घर के लोगों ने अपने-अपने घर से पटाके भी जलाये. सुरक्षा को ध्यान में रखकर लोगों ने इन्हें जलाया.

दिये और पटाखे जलाकर लोगों ने सकरात्मकता का संदेश दिया. वहीं कई लोगों ने अपने अपने मोबाइल की फ्लैश लाइट और टॉर्च जलाकर भी समाज के लोगों के बीच सकारात्मकता का प्रकाश फैलाया. राजभवन में राज्यपाल ने जलाया दियामाननीया राज्यपाल श्रीमती द्रौपदी मुर्मू राज भवन में रात्रि 9 बजे कोरोना के अंधकार पर विजय प्राप्त करने हेतु दीपक जलाया.

तय समय रात 9:00 बजे लोगों ने अपने घर की खिड़की, बालकनी और मुख्य द्वार पर खड़े होकर मोमबत्ती और दीये जलाये. कई घरों ने पटाखे भी फोड़े. लोगो ने 10 मिनट तक अपने घर की सभी लाइटें भी बंद रखी. इस दौरान घर के बच्चों ने गो कोरोना गो का नारा भी लगाया.अद्भुत ! अलौकिक ! असाधारण !भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने कहा कि झारखंड की जनता ने कोरोना वायरस के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के के आह्वान पर रात 9 बजे दीप प्रज्वलन के दौरान जो एकता और प्रतिबद्धता दिखाई है वह प्रशंसनीय व अतुलनीय है. यही एकता व समर्पण हमारी पहचान है. इस अवसर पर पूरा झारखंड दीये से जगमगा उठा. इसके लिए झारखण्ड की जनता का हृदय से आभार !

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें