1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. gold price invest in gold for bumper return

GOLD PRICE : सोने की कीमतों में नरमी का अभी उठा लें फायदा, फिर नहीं मिलेगा ऐसा मौका, जानें क्या कहते हैं विशेषज्ञ

By Mithilesh Jha
Updated Date

रांची : सोने (Gold) की की कीमतों में एक बार फिर से गिरावट आयी है. सोने की कीमतों में नरमी का समय ही इसमें निवेश का सबसे सही मौका होता है. इन्वेस्टमेंट एक्सपर्ट कह रहे हैं कि सोने की कीमतों में जितनी गिरावट आती है, उसमें तेजी भी उतनी ही तेजी से आती है. इसलिए नरमी के समय निवेश करने वाला सबसे ज्यादा मुनाफा में रहता है, क्योंकि गोल्ड बंपर रिटर्न देता है. इसलिए विशेषज्ञ कह रहे हैं कि पीली धातु को खरीदने का यही सबसे सही वक्त है. जब-जब वैश्विक मंदी आयी है, सोना ने सबसे ज्यादा रिटर्न दिया है.

वेदांत एसेट्स एडवाइजर्स के प्रमुख ललित कुमार द्विवेदी कहते हैं कि कोरोना वायरस की मार की वजह से दुनिया में मंदी का दौर चल रहा है. वैश्विक मंदी में दुनिया भर के बाजार धड़ाम हो गये हैं. सोने की कीमतें भी तेजी से गिर रही हैं, लेकिन इस कीमती धातु में निवेश का सबसे बढ़िया मौका यही है. इतिहास गवाह है कि जब-जब वैश्विक मंदी आयी है, सोना ने सबसे ज्यादा रिटर्न दिया है. इसलिए निवेशकों को यदि बंपर रिटर्न चाहिए, तो उनके लिए सोना में निवेश करने का यही सबसे बढ़िया मौका है.

श्री द्विवेदी का कहना है कि जब वैश्विक मंदी आती है, तो सारे स्टॉक्स धड़ाम हो जाते हैं. ऐसे में सोना में निवेश सबसे फायदेमंद साबित होता है, क्योंकि यह कम समय में बेहतरीन रिटर्न देता है. वर्ष 2008 में जब वैश्विक मंदी आयी थी, तो हम सबने देखा था कि कुछ कारणों से सोने की कीमत में लगातार गिरावट दर्ज की गयी. लेकिन, गिरावट ज्यादा दिनों की नहीं रही.

ये भी पढ़ें : Gold Price: इन दो वजहों से बढ़ी सोने की चमक, जानें नये रेट्स

उन्होंने कहा कि जल्द ही सोने की चमक लौटी और उस दौरान गोल्ड ने जितना रिटर्न दिया, उतना रिटर्न किसी स्टॉक से निवेशकों को नहीं मिला. श्री द्विवेदी के मुताबिक, इतिहास खुद को दोहरा रहा है और वर्ष 2008 का दौर वापस आता दिख रहा है. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस की वजह से आज वैश्विक अनिश्चितता का दौर है. बाजार में तेजी से गिर रहा है.

श्री द्विवेदी ने कहा कि सोने की कीमत में भी गिरावट दर्ज की गयी है. लेकिन, यह गिरावट ज्यादा दिनों की नहीं है. उन्होंने कहा कि जब कोरोना वायरस की वजह से दुनिया भर में हाहाकार मचा हुआ है, तेल की कीमतें गिर रही हैं, शेयर मार्केट में तेज गिरावट दर्ज हुई है. कमोडिटीज एक्सचेंज भी कोरोना वायरस की मार से अछूता नहीं रहा. इटीएफ पर भी इसका असर पड़ा है.

ये भी पढ़ें : Gold Price : रुपये में गिरावट से चमक गया सर्राफा बाजार, जानें कितना चढ़ा सोने का भाव

ललित कुमार द्विवेदी ने साथ ही कहा कि वह दिन दूर नहीं, जब सोने में तेजी लौटेगी और यह निवेशकों को बंपर मुनाफा देगा. उन्होंने कहा कि जब भी वैश्विक अनिश्चतता का दौर आता है, सोना सबसे विश्वसनीय निवेश बन जाता है. इस बार भी ऐसा ही होगा, ऐसी उन्हें उम्मीद है.

श्री द्विवेदी ने कहा कि वर्ष 2008 में हमने देखा था कि जब वैश्विक मंदी आयी थी, तो मुनाफा घटा था और कीमतें शुरू में गिर गयीं थीं. कुछ दिनों बाद जब रिजर्व बैंक ने ब्याज दरें घटायीं और बाजार में पैसे की तरलता से सोने की कीमतें तेजी से बढ़ीं. उन्होंने कहा कि विशेषज्ञ कह रहे हैं कि शेयर बाजार को संभालने के लिए रिजर्व बैंक को ब्याज दरें घटाने की जरूरत है.

ललित कुमार द्विवेदी ने कहा कि यदि रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में कटौती की, तो सोने की चमक वैसे ही लौट आयेगी, जैसे वर्ष 2008 की मंदी के दौरान हुआ था. शेयर मार्केट के एक्सपर्ट श्री द्विवेदी ने कहा कि बाजार में गिरावट से निवेशकों को घबराने की जरूरत नहीं है. जो लोग धैर्य बनाये रखेंगे, आने वाले दिनों में उन्हें मोटा मुनाफा कमाने का मौका मिलेगा.

उल्लेखनीय है कि कोरोना के डर से कमोडिटी मार्केट में गिरावट थमने का नाम नहीं ले रही. हालात ये हैं कि अमेरिकी क्रूड 17 साल के निचले स्तर पर पहुंच गया है. वहीं, ब्रेंट भी 28 डॉलर के नीचे फिसल गया है. सोना-चांदी में भी दबाव कायम है.

सोने-चांदी पर दबाव कायम

सोने-चांदी में मंगलवार (17 मार्च, 2020) की देर शाम की रिकवरी खत्म हुई. बुधवार (18 मार्च, 2020) को ग्लोबल मार्केट से सोने-चांदी को सपोर्ट नहीं मिला. इंट्रा-डे में कॉमेक्स पर सोना 1500 डॉलर के नीचे फिसल गया. वहीं, कॉमेक्स पर चांदी में 13 डॉलर के नीचे कारोबार कर रही है.

कमजोर इंडस्ट्रियल मांग से चांदी पर भारी दबाव बना हुआ है. निवेशक फिलहाल कैश में रहना पसंद कर रहे हैं. सोने की सेफ हेवन डिमांड नहीं दिख रही है. कोरोना वायरस के कारण बाजार में डर का माहौल बना हुआ है.

क्रूड में कमजोरी कायम

अमेरिकी क्रूड ने 17 साल का निचला स्तर तोड़ दिया है. ब्रेंट क्रूड 28 डॉलर के नीचे फिसल गया है. वहीं, कच्चा तेल 4 साल के निचले स्तर पर पहुंच गया है. अब कच्चा तेल का डिमांड आउटलुक खराब चल रहा है. गोल्डमैन सैक्स ने ब्रेंट अनुमान घटाकर 20 डॉलर कर दिया है.

इसके अलावा दूसरी तिमाही के लिए ब्रेंट अनुमान घटाकर 20 डॉलर किया है. कोरोना संकट के कारण क्रूड डिमांड में भारी कमी आयी है. इस बीच, खबर है कि रूस और सऊदी अरब अप्रैल से उत्पादन बढ़ायेंगे. उधर, इराक ने ओपेक (OPEC) की इमरजेंसी बैठक बुलाने की मांग की है.

6 दिन में 7431 रुपये गिरा सोना

यहां बताना प्रासंगिक होगा कि फ्यूचर मार्केट में सोना ने 39,740 रुपये का उच्चस्तर देखा, तो 38,650 रुपये के न्यूनतम स्तर पर भी आ गया. अप्रैल सीरीज की बात करें, तो पीली धातु जो 44,961 रुपये तक चढ़ गया था, 37,530 रुपये तक लुढ़क गया. इस तरह एक सप्ताह में सोने की कीमतों में 7,431 रुपये की गिरावट दर्ज की गयी है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें