1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. corona virus be careful exempted from lockdown not corona 155 infected including minister two killed

Coronavirus in Jharkhand : मंत्री सहित 155 संक्रमित, दो की मौत, संभल जायें लॉकडाउन से छूट मिली है, कोरोना से नहीं

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
संभल जायें, लॉकडाउन से छूट मिली है, कोरोना से नहीं
संभल जायें, लॉकडाउन से छूट मिली है, कोरोना से नहीं
Prabhat Khabar

रांची : झारखंड में पिछले तीन दिनों के अंदर कोरोना संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ी है. इस अवधि में राज्य में कुल 270 नये कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, पिछले चार दिनों में कोरोना के संक्रमण ने राज्य भर में सात लोगों की जान ली है. इस तरह राज्य में कोरोना से अब तक कुल 22 मौतें हो चुकी हैं. झारखंड में कोरोना का आंकड़ा 3000 के पार पहुंच गया है. मंगलवार को यहां 155 नये कोरोना संक्रमित मिले हैं.

जबकि, दो संक्रमितों की मौत हो गयी है. दोनों ही धनबाद के हैं. एक की मौत रिम्स में हुई है, जबकि दूसरे की मौत धनबाद के कोविड अस्पताल में हुई है. इस तरह अब तक झारखंड में कोरोना से कुल 22 लोगों की मौत हो चुकी है. दूसरी ओर मंत्री मिथिलेश ठाकुर और विधायक मथुरा महतो भी कोरोना संक्रमित हो गये हैं. श्री ठाकुर को रिम्स के कोविड अस्पताल में जबकि श्री महतो को धनबाद के कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

श्री ठाकुर की तबीयत सोमवार से ही खराब थी. मंगलवार को उन्होंने रिम्स में अपना सैंपल जांच के लिए दिया था. शाम को उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है. जानकारी के अनुसार, तीन जुलाई को उन्होंने गृह प्रवेश की पार्टी दी थी, जिसमें मुख्यमंत्री समेत कई मंत्री, विधायक व अफसर शामिल हुए थे. कहा जा रहा है कि इन सभी को कोरेंटिन में जाना होगा. रांची जिला प्रशासन आमंत्रित अतिथियों की सूची की जांच कर रहा है.

पूर्वी सिंहभूम से 58 और रांची से 20 संक्रमित मिले : जुलाई माह में यह अब तक का सबसे अधिक 155 केस मंगलवार को मिले हैं. दो जुलाई को 109 संक्रमित मिले थे. मंगलवार को सबसे अधिक 58 संक्रमित पूर्वी सिंहभूम से मिले हैं. वहीं, रांची में 20, धनबाद में 25, रामगढ़ में 28, हजारीबाग में छह, कोडरमा में सात, लोहरदगा में तीन, पलामू में दो, देवघर से तीन, गढ़वा, लातेहार व सिमडेगा में एक-एक संक्रमित मिले हैं. नये संक्रमितों को लेकर राज्य में अब तक कोरोना के 3032 मरीज मिल चुके हैं. इनमें से 22 की मौत हो चुकी है, जबकि कुल 2104 संक्रमित स्वस्थ हो चुके हैं. इस समय राज्य में कोरोना के कुल 906 एक्टिव केस हैं.

पाबंदियों का यही है सही वक्त : रिम्स कोविड-19 अस्पताल के टास्क फोर्स में शामिल डॉक्टरों का कहना है कि अनलॉक होने के बाद लापरवाही बढ़ गयी है. जबकि, पाबंदियों का यही सही वक्त है. सरकार ने जिंदगी को पटरी पर लाने के लिए थोड़ी ढील दी, तो लोग इसका गलत उपयोग फायदा उठाने लगे हैं. दोपहिया वाहनों पर दो-तीन लोग सवार हो रहे हैं. वहीं, चारपहिया वाहन में पांच से ज्यादा लोग बैठ रहे हैं. सड़कों और बाजारों में घूम रहे 25 प्रतिशत लोग बिना मास्क के नजर आ रहे हैं. भीड़-भाड़ वाली जगहों पर सोशल डिस्टैंसिंग का पालन भी नहीं किया जा रहा है. इसी लापरवाही का नतीजा है कि पहले 25 से 30 सैंपलों की जांच में एक या दो संक्रमित मिलते थे, लेकिन अब उतने ही सैंपलों की जांच में पांच से छह संक्रमित मिलने लगे हैं. अगर लोग सतर्क नहीं हुए, तो झारखंड में कारोना बेकाबू हो सकता है.

मास्क लगाने में भी लापरवाही बरत रहे लोग, तीन दिनों में मिले 270 कोरोना संक्रमित, सात की हुई मौत

कोरोना की गाइडलाइन का खुलेआम उल्लंघन हो रहा है. लापरवाही बरतने की वजह से ही संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है. यह खतरे का संकेत माना जाना चाहिए. यह मॉस ट्रासमिशन का संकेत है.

- डॉ जेके मित्रा, विभागाध्यक्ष, मेडिसिन, रिम्स

मास्क के नियम का पालन नहीं हो रहा है. लापरवाह लोगों को लगता है कि सरकार उन पर दबाव डाल रही है, लेकिन यही घातक हो जायेगा. मास्क के मामले में भी हेलमेट जैसी लापरवाही दिख रही है.

- डॉ प्रभात कुमार, टास्क फोर्स के चेयरमैन

चार दिन में सात मौतें

चार जुलाई 04

पांच जुलाई 01

सात जुलाई 02

हजारीबाग में दो और रांची में खलारी थाना सील : हजारीबाग में मिले संक्रमित की वजह से दो थाने को सील कर दिया गया है. रांची जिले के खलारी थाने को सील कर दिया गया है. यहां के अपराधी कोरोना संक्रमित मिले. रांची के नामकुम स्थिति मिलिट्री हॉस्पिटल में भी आठ संक्रमित मिले हैं.

रांची में हिंदपीढ़ी थाना के दो, महिला थाना की दो और आइआरबी-5 के एक पुलिमकर्मी संक्रमित मिले हैं. वर्तमान स्थित को लेकर स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव डॉ नितिन मदन कुलकर्णी का कहना है कि लॉकडाउन खत्म हुआ, कोरोना नहीं. लोग समय पर नहीं चेते, तो स्थिति और भी खतरनाक हो सकती है. डॉ कुलकर्णी ने कहा है कि जहां ज्यादा संक्रमित मिल रहे हैं, वहां भी जांच बढ़ानी होगी.

Post by : Pritish Sahay

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें