26.1 C
Ranchi
Thursday, February 29, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

झारखंड: बिहार के सीएम नीतीश कुमार 21 जनवरी को आएंगे रामगढ़, ‘नीतीश जोहार’ जनसभा को करेंगे संबोधित

झारखंड जदयू के प्रदेश प्रभारी और बिहार सरकार के भवन निर्माण मंत्री डॉ अशोक चौधरी ने गुरुवार को रांची के मोरहाबादी स्थित राजकीय अतिथिशाला में पत्रकारों को संबोधित किया. उन्होंने बताया कि बिहार के सीएम नीतीश कुमार 21 जनवरी को झारखंड के रामगढ़ आएंगे.

रांची: जदयू के वरिष्ठ नेता और बिहार के सीएम नीतीश कुमार 21 जनवरी को झारखंड के रामगढ़ आएंगे. नीतीश जोहार कार्यक्रम को संबोधित करेंगे. प्रदेश जदयू झारखंड में नीतीश जोहार नामक विशाल जनसभा आयोजित करा रही है. झारखंड जदयू के प्रदेश प्रभारी और बिहार सरकार के भवन निर्माण मंत्री डॉ अशोक चौधरी ने गुरुवार को ये जानकारी दी. रांची के मोरहाबादी स्थित राजकीय अतिथिशाला में वे पत्रकारों को संबोधित कर रहे थे. प्रेस वार्ता के दौरान जदयू नेता डॉ आफ़ताब जमिल, श्रवण कुमार, भगवान सिंह, सागर कुमार, डॉ विनय भरत, अख़्तर हुस्सैन, अखिलेश राय, लालचन महतो, महेश्वर चौधरी, अनिल सिंह, जगदीश महतो, राजू महतो, प्रभुदयाल कुशवाहा एवं अन्य उपस्थित थे.

झारखंड में जदयू की मजबूती पर जोर

झारखंड जदयू के प्रदेश प्रभारी और बिहार सरकार के भवन निर्माण मंत्री डॉ अशोक चौधरी ने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पहली सभा झारखंड के रामगढ़ में है और प्रयास होगा कि पाँचों प्रमंडलों में उनकी सभा हो. उन्होंने कहा कि सभा को सफल बनाने के लिए जदयू नेता मधुकर सिंह को इसका को-ऑर्डिनेटर बनाया गया है. प्रदेश अध्यक्ष के मार्गदर्शन में एक टीम बना कर मधुकर सिंह काम करेंगे. पार्टी पूरी मजबूती से लोकसभा और विधानसभा चुनाव लड़ेगी. उन्होंने कहा कि जदयू का पुराना वैभव लौटे, इसके लिए सभी लोग संकल्पित हैं. इसका व्यापक प्रचार प्रसार किया जायेगा और दिल्ली से कलाकार आकर ग्रामीणों से नीतीश कुमार के साथ जुड़ने का अनुरोध करेंगे.

Also Read: झारखंड : मिशन 2024 को लेकर जदयू नेताओं ने बनायी रणनीति, टीएमसी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष ने थामा पार्टी का दामन

देश में होनी चाहिए जातिगत गणना

झारखंड जदयू प्रभारी डॉ अशोक चौधरी ने कहा कि पार्टी के पुराने नेता और कुछ दूसरे दलों के नेता सम्पर्क में हैं. भविष्य में जदयू के साथ नज़र आएंगे. उन्होंने कहा कि झारखंड सहित पूरे देश में जातिगत गणना होनी चाहिए. झारखंड में बड़ा तबका आदिवासियों और अति पिछड़ों का है, जो लंबे समय से असमानता की लड़ाई लड़ रहा है और अभी तक हाशिए पर है. उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे अपने-अपने क्षेत्र में सभा को सफल बनाने के लिए कार्य करें.

Also Read: झारखंड: 1000 करोड़ के अवैध खनन मामले में पंकज मिश्रा समेत तीन के साहिबगंज आवास पर सीबीआई की रेड

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें