मेन रोड में बिजली के भूमिगत केबल बिछाने के लिए खोदे जा रहे हैं गड्ढे

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

रांची : मेन रोड में बिजली के अंडरग्राउंड केबल बिछाने का काम शुरू हो गया है. इस इलाके में अंडरग्राउंड केबल बिछाने का काम सबसे पहले इसलिए शुरू किया गया है, क्योंकि व्यावसायिक क्षेत्र होने के चलते इस रास्ते पर ओवरहेड तारों का जाल सर्वाधिक फैला हुआ है. इस काम के पूरा होने के बाद केबल को ट्रांसफॉर्मर के साथ ही नजदीकी फीडर से जोड़ा जायेगा. इससे तारों के क्षतिग्रस्त होने की समस्या खत्म हो जायेगी और लोगों को निर्बाध बिजली मिलेगी.

पहले चरण में बिरसा चौक, हिनू , मेकन, सुजाता चौक, मेन रोड, सिरमटोली, कांटाटोली से लेकर बूटी मोड़ तक के तारों को जमीन के अंदर डाला जायेगा. आपको बता दें कि राजधानी में भूमिगत केबल बिछाने की पूरी योजना पर 364.28 करोड़ रुपये खर्च होंगे.
सड़क किनारे खोदे जा रहे गड्ढे :केबल डालने के लिए आेवरब्रिज के आगे रांची क्लब से सटे शाॅपिंग कॉम्प्लेक्स के सामने सड़क किनारे जगह-जगह गड्ढे खोदे जा रहे हैं.
अंडरग्राउंड केबल बिछाने के लिए यहां पर सड़क के एक तरफ कुल 36 गड्ढे किये जाने हैं. इससे आस-पास काफी मिट्टी जमा हो गयी है. फिलहाल सुजाता चौक के पास एरियल बंच केबल बिछाने के लिए मोटे पाइप डाले जा रहे हैं. बाद में इसमें केबल के साथ ही स्विच डाला जायेगा.
अगले साल मार्च तक काम पूरा करना है लक्ष्य : राजधानी में अंडरग्राउंड केबलिंग का काम अगस्त 2019 से शुरू किया गया है. पूरे शहर में 260 किलोमीटर हाइटेंशन तारों (इनकमिंग 33 केवी और 11 केवी आउटगोइंग केबल) को अंडरग्राउंड करने की योजना है. मार्च 2020 तक इसे खत्म करने का लक्ष्य रखा गया है. इससे पूर्व आरएपीडीआरपी के तहत चुनिंदा इलाकों में हाइटेंशन तारों को अंडरग्राउंड किया गया था.
शहर में 260 किमी हाइटेंशन तार होंगे अंडरग्राउंड
क्या होंगे फायदे
  • आंधी-तूफान व बरसात में नहीं कटेगी शहर की बिजली
  • नंगा तार हटने से करंट लगने का खतरा खत्म होगा
  • दूर होगी लो वोल्टेज की समस्या
  • फीडर केबलिंग से बिजली की चोरी कम होगी
  • बिजली का लाइन लॉस भी खत्म होगा
Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें