कांके डैम में उतर आयीं मां गंगा, हर-हर महादेव, गंगा मैया की जय से गूंजायमान हुई रांची

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

रांची : झारखंड की राजधानी रांची में स्थित कांके डैम में शरद पूर्णिमा की संध्या साक्षात मां गंगा उतर आयीं, जब कांके डैम पार्क गंगा मैया की जय, हर-हर महादेव से गूंजायमान हो गया. मौका था कांके डैम के तट पर ‘गंगा आरती’ का. झारखंड में पहली बार अपनी तरह के इस आयोजन में रांची के लोगों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया. रांची की मेयर आशा लकड़ा और डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय के अलावा रांची के सांसद संजय सेठ ने भी नगर के लोगों को आश्वस्त किया कि समाज की ओर से हुई जल संरक्षण की इस शुरुआत को अंजाम तक पहुंचाया जायेगा.

कांके डैम में उतर आयीं मां गंगा, हर-हर महादेव, गंगा मैया की जय से गूंजायमान हुई रांची

सांसद संजय सेठ ने इस अवसर पर कहा कि अब कांके डैम, कांके डैम नहीं रहा. इसमें साक्षात मां गंगा उतर आयी हैं. उन्होंने विश्वास जताया कि हर महीने इसका आयोजन होने से कांके डैम का स्वरूप ही बदल जायेगा. वहीं, मेयर आशा लकड़ा ने कहा कि इस आयोजन से ‘जल है तो कल है’, ‘स्वच्छता ही सेवा है’ का भाव उत्पन्न होगा. लोग तालाबों और जलाशयों के संरक्षण के प्रति जागरूक होंगे. पर्यावरण बचाने के लिए लोग खुद आगे आयेंगे. ‘गंगा आरती’ ने एक बेहतरीन संदेश दिया है.

कांके डैम में उतर आयीं मां गंगा, हर-हर महादेव, गंगा मैया की जय से गूंजायमान हुई रांची

गंगा आरती करने वाली देश की पहली बेटी मेघा पांडेय.

रांची नगर निगम के डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय ने कहा कि छठ के मौके पर नगर निगम विभिन्न तालाबों और जलाशयों की सफाई का अभियान चलाता है. ‘गंगा आरती’ की शुरुआत लोगों को अपने जलाशयों को स्वच्छ रखने और उन्हें संरक्षित करने के लिए प्रेरित करेगा. कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे स्वामी चैतन्यानंद ने कहा कि गंगा आरती से आत्मा शुद्ध होती है. वातावरण शुद्ध होता है. गंगा के संरक्षण के लिए आदि शंकराचार्य ने इसकी शुरुआत की थी. अब रांची में इसकी शुरुआत हुई है.

कांके डैम में उतर आयीं मां गंगा, हर-हर महादेव, गंगा मैया की जय से गूंजायमान हुई रांची

गंगा आरती की परिकल्पना करने वाले रांची के पंडित रामदेव पांडेय ने कहा कि जब वह हरिद्वार या वाराणसी जाते थे, तो गंगा आरती देखकर उनके भी मन में आता था कि झारखंड की राजधानी रांची में ऐसा आयोजन होना चाहिए. आज के आयोजन से वह बेहद उत्साहित हैं. आने वाले दिनों में वह कोशिश करेंगे कि एक साथ कई और पंडित आरती करें. इस बार तीन लोगों ने आरती की है. यह पहला मौका है, जब देश में किसी बेटी ने मां गंगा की आरती की हो.

कांके डैम में उतर आयीं मां गंगा, हर-हर महादेव, गंगा मैया की जय से गूंजायमान हुई रांची

उल्लेखनीय है कि राजधानी रांची के लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में शुमार कांके डैम के तट पर रविवार (13 अक्टूबर, 2019) की शाम को गंगा आरती की शुरुआत की गयी. शरद पूर्णिमा के अवसर पर एक विशेष आयोजन किया गया, जिसके तहत तीन बजे से भजन संध्या का आयो‍जन किया गया था. सूर्यास्त के वक्त गंगा आरती की गयी, जिसमें बड़ी संख्‍या में लोग उपस्थित थे. इस मौके पर रांची के सांसद संजय सेठ भी मौजूद थे.

वाराणसी से प्रशिक्षण लेकर आये पंडित ऋषभ देव पांडेय के साथ मेघा पांडेय और सुमन पांडेय ने गंगा आरती की. इसकी परिकल्पना करने वाले पंडित रामदेव पांडेय ने prabhatkhabar.com को बताया था कि जब डैम के तट पर गंगा आरती होगी, तो यह एक विहंगम दृश्य होगा.

कांके डैम में गंगा आरती की खबर से रांची के लोग भी उत्साहित हैं. कई लोगों ने सोशल मीडिया पर आयोजन के लिए बधाई दी है, तो कई लोगों ने आयोजन के समय के बारे में भी जानकारी मांगी है. फेसबुक और ट्विटर पर हजारों लोगों ने इस समाचार को लाइक किया है. शहर के व्हाट्सएप ग्रुप्स में भी यह समाचार वायरल हो रहा है. आलोक कुमार के सौजन्य से सीएमपीडीआइ गेट के सामने कांके डैम के तट पर यह आयोजन किया गया.

कांके डैम में उतर आयीं मां गंगा, हर-हर महादेव, गंगा मैया की जय से गूंजायमान हुई रांची

पंडित रामदेव पांडेय कहते हैं कि देश में पहली बार महिलाएं भी गंगा आरती करेंगी. उन्होंने कहा कि शरद पूर्णिमा के पावन अवसर पर इसकी शुरुआत हो रही है. उनकी कोशिश होगी कि हर महीने की पूर्णिमा को यह आयोजन हो. यदि लोगों का साथ मिला, तो कांके डैम के तट पर होने वाला यह आयोजन अपने आप में एक मिसाल बनेगा. उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के साथ-साथ यह आयोजन पानी बचाओ और पानी को प्रदूषित होने से बचाओ का भी संदेश देगा.

कांके डैम में उतर आयीं मां गंगा, हर-हर महादेव, गंगा मैया की जय से गूंजायमान हुई रांची

उल्लेखनीय है कि वाराणसी में प्रशिक्षित पंडित ऋषभ देव पांडेय 14 तरीके से आरती करेंगे. एक आरती में पांच स्टेप होते हैं. इस तरह आरती के 70 स्टेप पूरे किये जायेंगे. पंडित रामदेव पांडेय ने बताया कि रांची में अपनी तरह का यह पहला आयोजन है. उम्मीद है कि भारी संख्या में लोग इसमें शामिल होंगे और मीडिया भी इसका प्रचार-प्रसार करेगा.

उल्लेखनीय है कि हरिद्वार और वाराणसी के अलावा पटना में गंगा के तट पर गंगा आरती का आयोजन होता है. पटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इसकी शुरुआत की थी. बाद में दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल ने यमुना के तट पर बड़े तामझाम के साथ यमुना आरती की शुरुआत की थी.

इसे भी पढ़ लें

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें