51% वोट का लक्ष्य भाजपा ने सिस्टम बना कर किया हासिल

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
  • एक-एक बूथ का डाटा बेस तैयार कर पायी सफलता
  • संगठन महामंत्री धर्मपाल के नेतृत्व में पार्टी नेताओं ने बूथ स्तर पर बनायी मजबूत घेराबंदी
रांची : लोकसभा चुनाव में भाजपा की रणनीति अचूक थी. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की प्लानिंग और रणनीति को प्रदेश के नेताओं ने जमीन पर उतारा. एक-एक बूथ पर 51 प्रतिशत से ज्यादा वोटिंग कराने और अपने समर्थकों को पोलिंग बूथ तक पहुंचाने का टास्क बखूबी पूरा किया़केंद्रीय नेतृत्व का टास्क था कि हर हाल में पार्टी समर्थकों का 51 प्रतिशत से ज्यादा वोट पड़े़ संगठन महामंत्री धर्मपाल सिंह के नेतृत्व में प्रदेश के पदाधिकारियों ने रात-दिन मेहनत की़ बूथ की घेराबंदी के लिए मजबूत सिस्टम बनाया़
2019 के चुनाव के लिए केंद्रीय नेतृत्व ने 23 टास्क दिये थे. ये सभी काम बूथ स्तर के थे़ इसे पूरा करने के लिए कार्यकर्ताओं को सक्रिय किया गया. एक-एक बूथ का डाटा बेस तैयार हुआ़ पार्टी के पास एक-एक बूथ की पूरी जानकारी थी़
वर्ष भर बूथ पर कार्यकर्ताओं को सक्रिय रखने के लिए दर्जनों कार्यक्रम हुए. लोकसभा स्तर पर बनाये गये कॉल सेंटर से बूथ कमेटी से लेकर दूसरी जानकारी की मॉनिटरिंग हुई़ चुनाव के दिन तक कॉल सेंटर के पास एक-एक बूथ पर पड़ रहे वोट की जानकारी थी़ बूथ कमेटी बनाने से लेकर अहम जानकारियों में फर्जीवाड़ा ना हो, इसके लिए प्रदेश के नेता लगातार निगरानी रखे हुए थे़
संगठन महामंत्री राज्य भर में 517 यूनिट (जिसमें मंच, मोर्चा व प्रकोष्ठ तक के सदस्य शामिल थे) में उनकी सक्रियता को बनाने के लिए काम किया़ पंचायत स्तर पर संगठन की संरचना चुनावी रणनीति के तहत खड़ी की गयी़ मंडल स्तर तक की कमेटी में सभी मंच, मोर्चा व प्रकोष्ठ के लोगों को शामिल कर एक संतुलन बनाने का प्रयास किया़ महिलाओं व आदिवासियों की भागीदारी सांगठनिक काम में बढ़ायी गयी.
केंद्रीय नेतृत्व के टास्क को पूरा करने के लिए सक्रिय हुए कार्यकर्ता
25 हजार बूथ अध्यक्षों से पार्टी नेता रहे संपर्क में
राज्य में भाजपा के 25 हजार बूथ में कमेटी बनी हुई थी़ एक-एक बूथ के अध्यक्ष पार्टी नेताओं के संपर्क में रहे़ संगठन महामंत्री से लेकर प्रदेश के दूसरे पदाधिकारी कॉल सेंटर के माध्यम से इनसे संपर्क में रहे. एक लोकसभा क्षेत्र की बूथ कमेटी के अध्यक्षों के साथ एक साथ बात होती थी. सभी को पार्टी के भावी कार्यक्रम से लेकर रणनीति की जानकारी दी जाती थी. प्रधानमंत्री के मन की बात को बूथ स्तर तक पहुंचाया गया़
62 लाख लाभुकों तक पहुंचने में रहे सफल
चुनावी रणनीति के साथ पार्टी ने ऐसा डाटा बेस तैयार किया कि एक साथ राज्य के 62 लाख लाभुकों तक पहुंचा जा सके. केंद्र और राज्य सरकार की योजनाओं का लाभ लेनेवालों को आभार देने के साथ-साथ पार्टी से जोड़ा गया़ बूथ स्तर पर लाभुकों की सूची बनी़ पार्टी कार्यकर्ताओं के सहयोग से ग्रास रूट में मजबूत पकड़ बनी़
सोशल मीडिया का जमकर किया उपयोग
लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने सोशल मीडिया का पूरा उपयोग किया़ तकनीक का इस्तेमाल कर पार्टी कार्यकर्ताओं से जुड़ी़ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कार्यक्रम हो या फिर कोई सम्मेलन, इसे लोगों की गोलबंदी के लिए उपयोग किया गया़ अलग-अलग ह्वाट्सऐप ग्रुप से कार्यकर्ताओं को जोड़ा गया़
केंद्रीय नेतृत्व के निर्देश पर पार्टी के छोटे से बड़े कार्यकर्ताओं ने निष्ठा के साथ काम किया़ कार्यकर्ताओं की मेहनत से पार्टी ने ऐतिहासिक जीत दर्ज की है़ हमारे कार्यकर्ताओं ने मोदी को दुबारा प्रधानमंत्री बनाने के मिशन को बखूबी पूरा किया है़ राष्ट्रीय अध्यक्ष के निर्देश पर पार्टी कार्यकर्ता वर्षों से लगे थे़ संगठन महामंत्री व मुख्यमंत्री रघुवर दास का मार्गदर्शन हमेशा मिलता रहा़ उन्होंने हमेशा कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाया़ एक बेहतर रणनीति बनायी़
- दीपक प्रकाश, महामंत्री, भाजपा
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें