झारखंड-पश्चिम बंगाल के 17 ठिकानों पर एनआइए की छापामारी, कोयला ट्रांसपोर्टरों के नक्सलियों से संबंध के मिले दस्तावेज

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
अति वामपंथी संगठनों को आर्थिक मदद देने का आरोप
रांची : अति वामपंथी संगठनों को आर्थिक मदद करने के आरोप में नेशनल इंवेस्टिगेशन एजेंसी (एनआइए) ने कोयला कारोबार से जुड़ी कंपनियों और कोयला ट्रांसपोर्टरों के 17 ठिकानों पर छापामारी की. झारखंड के 15 स्थानों और पश्चिम बंगाल के दो ठिकानों पर एक साथ छापामारी की गयी. आधुनिक कंपनी के अलावा दुर्गापुर निवासी उद्योगपति सोनू अग्रवाल के आवास तथा फैक्ट्री जयश्री इस्पात समेत छह कोयला ट्रांसपोर्टरों के ठिकाने पर हुई छापामारी में अहम दस्तावेज मिले हैं.
इनमें उग्रवादियों व नक्सलियों को राशि भुगतान से संबधी डायरी मिली है. वहीं सिंगापुर, अमेरिका के डॉलर समेत बैंक पासबुक, फिक्स डिपोजिट से संबंधित दस्तावेज मिले हैं. एनआइए के आइजी (पॉलिसी) आलोक कुमार मित्तल ने बताया कि अति वामपंथी संगठनों (माओवादी) को आर्थिक मदद दिये जाने के मामले में जांच चल रही है. जांच पूरी होने के बाद ही विवरण दिया जायेगा.
इनको मदद करने का है आरोप
जानकारी के अनुसार, उक्त कोयला कारोबारियों पर प्रतिबंधित संगठन तृतीय प्रस्तुति सम्मेलन कमेटी (टीएसपीसी), पीएलएफआइ, भाकपा माओवादियों समेत अन्य संगठनों को आर्थिक मदद करने का आरोप है.
जानकारी के मुताबिक, चतरा में सीसीएल की कोल परियोजनाओं आम्रपाली और मगध एरिया कमेटी से मोटी रकम उग्रवादियों व नक्सलियों को लेवी के तौर पर दी जाती थी. एनआइए ने केस संख्या डीएलआइ 06/18 के मामले में कार्रवाई करते हुए रांची के अलावा हजारीबाग, जमशेदुपर, दुर्गापुर व बराकर में कोयला कारोबार से जुड़ी कंपनी के अधिकारियों और ट्रांसपोर्टिंग से जुड़े लोगों के ठिकानों पर छापामारी की.
हजारीबाग में बीजीआर के जीएम रघुराम का आवास सील : बीजीआर कंपनी की ओर से उड़ीमारी और चरही कोल परियोजना में खनन का कार्य किया जाता है. दोनों ही परियोजना का काम बीजीआर कंपनी के जीएम रघुराम रेड्डी की देखरेख में होता है. हजारीबाग के पंडित जी रोड स्थित उनके मकान में भी छापामारी की गयी.
वह दीनानाथ यादव के मकान में बतौर किरायदार रहते हैं. छापामारी के दौरान रेड्डी नहीं मिले. एनआइए ने आवास को सील कर दिया है. साथ ही लग्जरी वोल्वो एक्सी और पोरोडो वीएक्स कार को जब्त कर लिया. वहीं मकान मालिक दीनानाथ यादव से सामान जब्ती सूची पर हस्ताक्षर कराया. बताया जा रहा है कि रघुराम रेड्डी अभी हैदराबाद में है. उसने दो-तीन दिनों में झारखंड आने की बात कही.
इनके यहां हुई छापामारी
आधुनिक इस्पात कंपनी, मेन रोड, चर्च कांप्लेक्स रांची व कांड्रा, जमशेदपुर स्थित दफ्तर
सुदेश केडिया, ट्रांसपोर्टर, रातू रोड में दफ्तर, रांची
विनीत अग्रवाल, ट्रांसपोर्टर, लाइन टैंक रोड, रांची
विपिन मिश्रा, ट्रांसपोर्टर, दफ्तर, स्टेट स्क्वायर अपार्टमेंट, चेशायर होम रोड, रांची
विष्णु अग्रवाल, ट्रांसपोर्टर (सोनू अग्रवाल का कर्ताधर्ता), संतोषी अपार्टमेंट बरियातू, रांची
रघुराम रेड्डी, बीजीआर कंपनी का जीएम, आवास पंडित जी रोड, हजारीबाग
सोनू अग्रवाल, ट्रांसपोर्टर, दुर्गापुर के विधाननगर रोबिन मुकुंद सरणी स्थित आवास के अलावा कांकसा थाना अंतर्गत बामूनारा स्थित उनका कारखाना जयश्री इस्पात
सोनू अग्रवाल के रांची के बांधगाड़ी स्थित बालाजी अपार्टमेंट स्थित दफ्तर
मिली सामग्री
टीएसपीसी व पीएलएफआइ को भुगतान से संबंधित डायरी जब्त
आम्रपाली और मगध एरिया कमेटी को भुगतान से संबंधित दस्तावेज
बैंक एकाउंट, फिक्स डिपोजिट के दस्तावेज
कंप्यूटर, हार्ड डिस्क व मोबाइल
10 हजार सिंगापुर डॉलर, 1300 यूएस डॉलर के अलावा एक हजार और 500 के पुराने नोट जब्त किये गये हैं. यह भारतीय करंसी के 68 लाख मूल्य के बराबर है
बिंदु गंझू ने किया था खुलासा
टीएसपीसी के लिए लेवी की वसूली करनेवाला मुख्य सरगना बिंदेश्वर गंझू उर्फ बिंदु गंझू को एनआइए ने पिछले दिनों रांची के बिरसा चौक से गिरफ्तार किया था. सूत्रों के मुताबिक, उसने ही लेवी देनेवाले ट्रांसपोर्टरों व कंपनियों के नाम का खुलासा किया था. एनआइए को उसने यह भी बताया था कि लेवी के पैसे का हिस्सा पुलिस के आला-अफसरों से लेकर नेताओं तक पहुंचाया जाता है. इसकी गिरफ्तारी के बाद हजारीबाग से इनामी उग्रवादी कोहराम और चतरा से मुनेश की गिरफ्तारी हुई थी.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें