1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. kodarma
  5. 4 people scorched rims in tilaiya chemical factory accident fearing cylinder burst during welding sam

तिलैया के केमिकल फैक्ट्री हादसे में झुलसे 4 लोग रिम्स रेफर, वेल्डिंग के दौरान सिलेंडर फटने की आशंका

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand news : तिलैया के केमिकल फैक्ट्री में हादसे की जांच-पड़ताल करते पुलिस अधिकारी व अन्य.
Jharkhand news : तिलैया के केमिकल फैक्ट्री में हादसे की जांच-पड़ताल करते पुलिस अधिकारी व अन्य.
प्रभात खबर.

Jharkhand news, Koderma news : कोडरमा : कोडरमा जिला अंतर्गत तिलैया थाना क्षेत्र के गझंडी रोड इंडस्ट्रियल एरिया में संचालित कोडरमा केमिकल फैक्ट्री में वेल्डिंग के दौरान मंगलवार सुबह करीब 8 बजे दर्दनाक हादसा हुआ. घटना में यहां कार्यरत मैकेनिक सहित 4 लोग गंभीर रूप से झुलस गये. आशंका जतायी जा रही है कि सिलेंडर फटने से उक्त हादसा हुआ. घटना के बाद आनन-फानन में सभी घायलों को सदर अस्पताल कोडरमा ले जाया गया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद सभी को रांची रेफर कर दिया गया.

सदर अस्पताल के डॉक्टरों के अनुसार, 2 लोग करीब 80 फीसद तक तो दो अन्य 50 फीसदी तक जल चुके हैं. सभी की स्थिति गंभीर है. झुलसे हुए लोगों की पहचान 42 वर्षीय मैकेनिक अशोक श्रीवास्तव निवासी कानपुर उत्तरप्रदेश, 55 वर्षीय मजदूर अलखदेव यादव निवासी बच्छेडीह नवलसाही, 48 वर्षीय सकलदेव यादव एवं 25 वर्षीय जितेंद्र यादव दोनों पिसपिरो जयनगर के रूप में हुई है.

घटना की सूचना मिलने पर दोपहर में थाना प्रभारी अजय कुमार सिंह एवं पुलिस बल मौके पर पहुंची. पुलिस ने पूरे मामले की जानकारी ली. थाना प्रभारी ने बताया कि सिलेंडर फटने या किसी वजह से घटना हुई है यह पूरी तरह स्पष्ट नहीं है. चूंकि, घायल मजदूर रेफर कर दिये गये हैं और कोई प्रत्यक्षदर्शी नहीं मिला इस वजह से घटना के मूल कारण की जानकारी सामने नहीं आयी है. उन्होंने बताया कि लिखित बयान आने पर फैक्ट्री प्रबंधन के खिलाफ मामला दर्ज किया जायेगा. फैक्ट्री के डायरेक्टर पंचदेव कुमार साव एवं खीरू साव बताये जाते हैं.

वेल्डिंग के दौरान हुआ शॉर्ट सर्किट : मैनेजर

इधर, फैक्ट्री के मुख्य एकाउंटेंट सह मैनेजर अमरेंद्र झा के अनुसार फैक्ट्री परिसर के बाहर काफी पुराना एक टैंकर रखा हुआ था. इसकी वेल्डिंग के दौरान हुए शॉर्ट सर्किट से यह दुर्घटना हुई. घटना में घायल सभी मजदूर ठेकेदार के हैं. फैक्ट्री का कोई भी मजदूर घटना में हताहत नहीं हुआ है. वर्ष 2011 से संचालित फैक्ट्री में थिनर एवं बायोडीजल का निर्माण होता है.

800 किलो लीटर स्टोरिंग की है क्षमता

जिस केमिकल फैक्ट्री में हादसा हुआ उसकी स्टोरिंग क्षमता 800 केएल (किलो लीटर) है. फैक्ट्री का लाइसेंस जिला स्तर से निर्गत है. साथ ही एक्सपोर्ट- इंपोर्ट एवं एक्सप्लोसिव का भी लाइसेंस है. बताया जाता है कि यहां पर तैयार माल पूरे देश में सप्लाई होता है. यहां से ट्रांसपोर्ट से माल बाहर जाता है.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें