28.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

झारखंड : जमशेदपुर कोर्ट में पेशकार पर हमला मामले में संतरी सस्पेंड, प्रभारी को एसएसपी ने किया शोकॉज

पूर्वी सिंहभूम जिला व्यवहार न्यायालय स्थित एडीजे-वन के पेशकार राकेश कुमार पर पिछले दिनों हुए हमला मामले में एसएसप ने संतरी को सस्पेंड कर दिया है. वहीं, प्रभारी को शोकॉज किया है. इधर, जोनल जज ने कोर्ट गेट पर सुरक्षा टाइट करने का निर्देश दिया. इधर, सरायकेला कोर्ट की सुरक्षा भी टाइट कर दी गई है.

Jharkhand News: जमशेदपुर कोर्ट में शुक्रवार एक सितंबर, 2023 को हुई घटना को लेकर एसएसपी प्रभात कुमार ने कोर्ट के मेन गेट पर तैनात संतरी आरक्षी सुरेश प्रसाद को सस्पेंड कर दिया. इसके अलावा कोर्ट प्रभारी एएसआई धर्मेन्द्र कुमार चौधरी को शोकॉज किया है. इधर, चापड़ के हमला से घायल एडीजे-वन के पेशकार राकेश कुमार के स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है. उन्हें शनिवार दो सितंबर, 2023 को टीएमएच से छुट्टी मिल गयी. घटना के बाद से कोर्ट कर्मी सहमे हैं.

जेल जाने के लिए साहिल ने चुना पेशकार पर हमले का रास्ता

कदमा शास्त्रीनगर ब्लाक नंबर-दो निवासी मो साहिल बच्चा से पूछताछ के बाद सीतारामडेरा पुलिस ने शनिवार को आरोपी को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया. पूछताछ में मो साहिल बच्चा ने पुलिस को बताया कि दो दिनों पूर्व अम्मी ने घर में बंद कर दिया था. जिसके बाद पड़ोसी के घर की छत के रास्ते निकलने का प्रयास किया. उनलोगों ने पकड़ लिया. इसके बाद पिटाई कर दी. जिसके बाद उसे कदमा थाना ले जाया गया. हालांकि, बाद में उसे छोड़ दिया गया. वापस लौटने पर बस्ती के कुछ लोगों ने छुप कर रहने की बात कही, वरना पड़ोसी द्वारा पिटाई करने की बात कहकर धमकाया. इसके बाद उसने छिपने के लिए सबसे उपयुक्त जगह जेल के बारे में सोचा. इसके लिए कोर्ट परिसर में ही किसी पर हमला करने की योजना बनाई, ताकि पुलिस उसे जेल भेज दे.

Also Read: जमशेदपुर सिविल कोर्ट में पेशकार पर हमला मामले में झारखंड हाईकोर्ट गंभीर, डीजीपी और सचिव को दिया ये निर्देश

ऐसे दिया घटना को अंजाम

मो साहिल ने पुलिस को बताया कि वह घटना के दिन पैदल साकची गया. वहां 240 रुपये में चापड़ खरीदने के बाद 100 रुपये का डेंड्राइट खरीदा. डेंड्राइट का सेवन करने के बाद पैदल कोर्ट चला गया. कोर्ट गेट पर तैनान पुलिसकर्मी ने उसे रोकने का प्रयास किया. वह चकमा देकर भाग गया. इसके बाद वह कोर्ट परिसर में घूमता रहा. सभी कोर्ट में दो से तीन लोग मौजूद थे. एडीजे-वन कोर्ट में पेशकार को अकेले बैठा देखा. मौके का फायदा उठाकर उसपर हमला कर दिया. पुलिस के अनुसार, गिरफ्तार युवक काफी मात्रा में नशे का सेवन करता है. उसने पेशकार पर हमला के लिए कोई सुनियोजित योजना नहीं बनाई थी. सिर्फ जेल जाने के लिए उसने पेशकार पर हमला किया. पूछताछ के बाद गिरफ्तार साहिल बच्चा को जेल भेजा.

कोर्ट गेट पर 24 घंटे सुरक्षा टाइट करें

पूर्वी सिंहभूम जिला व्यवहार न्यायालय के अपर जिला व सत्र न्यायाधीश (एडीजे-वन) के पेशकार राकेश कुमार पर शुक्रवार को हुए चापड़ से हमला के मामले का हाइकोर्ट ने संज्ञान लिया है. चीफ जस्टिस के निर्देश पर जोनल जज सुजीत नारायण प्रसाद ने शनिवार को कोर्ट की सुरक्षा की समीक्षा की. इस दौरान प्रधान जिला व सत्र न्यायाधीश अनिल कुमार मिश्रा, उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री, एसएसपी प्रभात कुमार मौजूद रहे. जोनल जज ने कोर्ट परिसर समेत बार भवन का जायजा लिया. कहा कि शाम साढ़े पांच बजे के बाद पुलिस रिमांड न करे. कोर्ट गेट पर 24 घंटे सुरक्षा की व्यवस्था होनी चाहिए. मौके पर तदर्थ कमेटी द्वारा वाहनों की पार्किंग का मुद्दा उठाया गया. इस पर जोनल जज ने कोर्ट परिसर के बीच में रेलिंग से घेरे गये स्थल में दो पहिया वाहन की पार्किंग बनाने का निर्देश दिया. इसके अलावा कार पार्किंग को बढ़ाने का निर्देश दिया. जोनल जज ने कोर्ट में सुरक्षा बढ़ाने का निर्देश दिया. कहा कि कोर्ट परिसर में सिर्फ अधिवक्ता और कोर्ट कर्मियों के वाहन ही प्रवेश करेंगे. गेट पर सघनता से जांच कराने का निर्देश दिया. मालूम हो कि शुक्रवार की शाम करीब छह बजे एडीजे-वन के इजलास में घुसकर कदमा शास्त्रीनगर ब्लाॅक नंबर-दो निवासी मो साहिल बच्चा ने पेशकार राकेश कुमार पर चापड़ से हमला किया था. भागने के क्रम में पुलिस ने साहिल बच्चा को गिरफ्तार कर लिया. उसके पास से चापड़ बरामद किया गया.

Also Read: तिहाड़ जेल से जमशेदपुर कोर्ट पहुंचा अलकायदा का संदिग्ध आतंकी कटकी, घाघीडीह सेंट्रल जेल में रखने का आदेश

कोर्ट के काम से दूर रहे अधिवक्ता

पेशकार पर हुए हमले के विरोध में शनिवार को कोर्ट के अधिवक्ता काम से दूर रहे. शनिवार को कोर्ट में काम नहीं हो सका. अधिवक्ताओं ने पेशकार राकेश कुमार पर हुए हमले की निंदा की. वहीं, कोर्ट परिसर में सुरक्षा बढ़ाने की मांग की.

पुलिस की लापरवाही से घटी घटना : तदर्थ कमेटी

इधर, शनिवार को जिला बार एसोसिएशन की तदर्थ कमेटी की बैठक हुई. बैठक के बाद कमेटी ने प्रधान जिला व सत्र न्यायाधीश को ज्ञापन सौंप कर बताया कि पुलिस की लापरवाही के कारण पेशकार पर हमला हुआ. कोर्ट परिसर में अक्सर अधिवक्ता भी छह से साढ़े छह बजे तक अपना काम निपटाते रहते हैं. जिस वक्त घटना घटी मेन गेट पर फोर्स की तैनाती नहीं थी. इस कारण बदमाश कोर्ट तक पहुंच गया. सुरक्षा के मामले में जिला पुलिस की ओर से कोर्ट में लापरवाही बरती जा रही है. मौके पर लाला अजीत अंबष्ट समेत अन्य सदस्य मौजूद थे.

Also Read: पूर्वी सिंहभूम में बढ़ रहा डेंगू का प्रकोप, घर-घर जांच के आदेश, 120 लोगों की जांच में 20 मिले संक्रमित

जमशेदपुर की घटना के बाद सरायकेला कोर्ट की सुरक्षा टाइट

दूसरी ओर, जमशेदपुर सिविल कोर्ट में सहायक पेशकार पर हुए जानलेवा हमले के बाद जिला व्यवहार न्यायालय सरायकेला की सुरक्षा टाइट कर दी गयी है. कोर्ट की सुरक्षा को लेकर प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश विजय कुमार के साथ एसपी डॉ विमल कुमार ने कोर्ट परिसर का निरीक्षण किया. निरीक्षण में एसडीपीओ हरविंदर सिंह सहित अन्य पुलिस पदाधिकारी, न्यायिक पदाधिकारी व बार के अधिवक्ता उपस्थित थे. निरीक्षण में पीडीजे व एसपी ने पूरे सिविल कोर्ट एरिया का निरीक्षण किया. इस दौरान सुरक्षा को लेकर आवश्यक दिशा-निर्देश दिये. कोर्ट के मुख्य गेट, वॉच टावर एवं कोर्ट हाजत में तैनात सुरक्षा बलों को और अधिक बारीकी से लोगों की जांच करने का निर्देश दिया. पीडीजे विजय कुमार ने निरीक्षण के दौरान कहा कि जांच में पुलिसकर्मी किसी तरह की कोताही नहीं बरतें. सभी लोगों की बारीकी से जांच करें. एसपी विमल किशोर ने कहा कि सुरक्षा व्यवस्था को लेकर पुलिस पदाधिकारी एवं कर्मियों को निर्देश दिया गया कि कोर्ट की सुरक्षा को लेकर जल्द ही बार एसोसिएशन के साथ बैठक होगी. बैठक में न्यायालय में सुरक्षा को लेकर अधिवक्ताओं से भी विचार-विमर्श किया जायेगा.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें