1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. jamshedpur
  5. in jamshedpur wife two daughter and tuition teacher killer deepak kumar arrested from dhanbad aml

जमशेदपुर में पत्नी समेत दो बेटी और ट्यूशन टीचर का हत्यारा दीपक धनबाद से गिरफ्तार

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी दीपक कुमार.
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी दीपक कुमार.
Prabhat Khabar

Jamshedpur Murder Case जमशेदपुर/धनबाद : कदमा तिस्ता रोड क्वार्टर नंबर 99 में पत्नी, दो बेटी समेत ट्यूशन टीचर का हत्यारा टाटा स्टील फायर सर्विसेज कर्मचारी दीपक कुमार को अंतत: पांच दिनों बाद पुलिस ने धनबाद पुलिस लाइन स्थित एचडीएफसी बैंक से शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया. वह एचडीएफसी बैंक में अपने भाई मृत्युंजय साहू के खाते में डेढ़ लाख रुपये जमा करने गया था.

रुपये जमा करने के बाद वह फिर से 95 हजार रुपये जमा करने जा रहा था. इसकी भनक पुलिस को लग गयी. जिसके बाद एसएसपी डॉ एम तमिल वाणन ने तत्काल इसकी जानकारी धनबाद एसएसपी को दी. जिसके बाद धनबाद थाना की पुलिस ने तत्परता दिखाते हुये दीपक कुमार को गिरफ्तार कर लिया. दीपक कुमार वारदात को अंजाम देने के बाद अपनी बुलेट सुनसान स्थल पर खड़ा कर कार से धनबाद पहुंचा था.

बस स्टैंड के पास स्थित वह सूर्या होटल में छुपकर रह रहा था. दीपक कुमार की गिरफ्तारी होने के बाद पुलिस उसे धनबाद थाना ले गयी. जिसके बाद जिला पुलिस की एक टीम उसे लाने के लिए धनबाद पहुंची. पुलिस ने धनबाद थाना में दीपक कुमार से पूछताछ की. दीपक की निशानदेही पर पुलिस उसकी बुलेट (जेएच05बीआर 4107) की तलाश में जुट गयी है. दीपक को गिरफ्तार करने के बाद देर रात जिला पुलिस कदमा थाना लाने के लिए रवाना हो गयी है.

पुलिस के अनुसार पूछताछ में दीपक ने फिलहाल कोई जानकारी नहीं दी है. रात में पूछताछ के बाद कारणों का पता चल सकेगा. शनिवार को मामले का खुलासा किया जायेगा. मालूम हो कि गत 11 अप्रैल को कदमा थाना क्षेत्र के तिस्ता रोड, क्वार्टर नंबर 97 के रहने वाले टाटा स्टील फायर ब्रिगेड का कर्मचारी दीपक कुमार ने अपनी पत्नी वीणा कुमारी, दोनों श्रावणी कुमारी उर्फ दिया व शानवी कुमारी की तकिया से मुंह दबाने के बाद सिर पर हथौड़ा से हमला कर हत्या कर दी थी.

जिसके बाद 12 अप्रैल को कदमा रामजनम नगर निवासी ट्यूशन टीचर रिंकी घोष उर्फ मोना की हत्या कर फरार हो गया था. दीपक कुमार ने पत्नी के सारे गहने कदमा बाजार स्थित आभूषण दुकान में 4.50 लाख रुपये में बेच दिया था. दुकानदार ने दीपक को तीन लाख रुपये नगद दिये थे. दीपक ने शेष डेढ़ लाख रुपये अपने भाई मृत्युंजय साहू के बैंक खाता में जमा करने को कहा था. वारदात को अंजाम देने के बाद दीपक कुमार अपनी फायर ब्रिगेट की वर्दी पहनकर बुलेट से फरार हो गया था.

Posted By: Amlesh Nandan.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें