1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. jamshedpur
  5. corona effect first quarter production of 151 million tonnes less than last year

Corona Effect : पहली तिमाही में पिछले साल की अपेक्षा 1.51 मिलियन टन कम उत्पादन

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
प्रतीकात्मक तस्वीर

जमशेदपुर : कोरोना वायरस व लॉकडाउन का असर टाटा स्टील के उत्पादन, मांग व बिक्री पर काफी ज्यादा पड़ा है. पिछले वित्तीय वर्ष 2019-20 के मुकाबले इस वित्तीय वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही में 1.51 मिलियन टन कम उत्पादन दर्ज किया गया है. 2019-20 के पहली तिमाही में जहां 4.50 मिलियन टन उत्पादन हुआ था वहीं 2020-21 के पहली तिमाही में यह घट कर 2.99 मिलियन टन पहुंच गया. टाटा स्टील ने अपने उत्पादन, मांग, बिक्री व बाजार की स्थिति को लेकर वित्तीय वर्ष 2020-2021 के पहली तिमाही का परिणाम घोषित किया है.

इस आंकड़ा में वित्तीय वर्ष 2020-21 में भारत, यूरोप और साउथ इस्ट एशिया के कारोबार की जानकारी देते हुए आंकड़े को प्रस्तुत किया गया है. टाटा स्टील यूरोप में भी उत्पादन गिरावट दर्ज की गयी है. टाटा स्टील के यूरोप में इस वित्तीय वर्ष के प्रथम तिमाही में 2.14 मिलियन टन का उत्पादन किया गया जो पिछले वित्तीय वर्ष के पहली तिमाही में 2.65 मिलियन टन का उत्पादन हुआ था. वहीं टाटा स्टील साउथ इस्ट एरिया में इस वित्तीय वर्ष के प्रथम तिमाही में 0.39 मिलियन टन का उत्पादन हुआ जो पिछले वर्ष 0.57 मिलियन टन स्टील का उत्पादन हुआ था.

बिक्री में 1.04 मिलियन टन की हुई गिरावटबिक्री को लेकर जारी किये गये आंकड़े के अनुसार स्टील की बिक्री में भी आंशिक गिरावट देखने को मिली है. टाटा स्टील के भारत में इस पहली तिमाही में 2.92 मिलियन टन स्टील की बिक्री हुई जबकि पिछले वित्तीय वर्ष के प्रथम तिमाही 3.96 मिलियन टन की बिक्री दर्ज की गयी थी. इस अनुसार 1.04 मिलियन टन बिक्री में गिरावट हुई है. वहीं टाटा स्टील यूरोप में 1.94 मिलियन टन की बिक्री पहली तिमाही में हुई है जबकि पिछले वित्तीय वर्ष में यह 2.26 मिलियन टन तक दर्ज की गयी थी.

अगर टाटा स्टील साउथ इस्ट एसिया के आंकड़े देखते हैं तो इस वित्तीय वर्ष के प्रथम तिमाही में 0.42 मिलियन टन स्टील की बिक्री हुई थी जो पिछले वित्तीय वर्ष के पहली तिमाही में 0.62 मिलियन टन थी.अप्रैल से जून में 30 प्रतिशत बढ़ा उत्पादनलॉकडाउन लगने के बाद टाटा स्टील भारत ने अपनी क्षमता का 50 प्रतिशत ही उत्पादन किया. लेकिन जून में यह उत्पादन 80 प्रतिशत तक पहुंच चुका है. बाजार को देखते हुए आने वाले समय में उत्पादन और भी बढ़ने की उम्मीद की जा रही है.

वहीं इस दौरान एक अच्छे संकेत भी देखने को मिले हैं. भारत से स्टील के निर्यात में बढ़ोत्तरी दर्ज की गयी है. इसमें चीन सबसे बड़ी खरीदार बनी.दो नये उत्पाद ने बाजार की मांग को पूरा कियाइस दौरान टाटा स्टील ने स्टील सीट के दो नये कोटेड ब्रांड गल्वा आरओएस और कलरनोवा नामक उत्पाद को भी बाजार में लाया है. ऐसे कोटेड सीट हैं जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार के वस्तुअों के बॉडी के तौर पर सीधे तौर पर किया जा सकता है.

Post by : Pritish Sahay

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें