1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. jamshedpur
  5. chhath puja 2020 satyagraha campaign started in jamshedpur with the slogan lathi goli khaenge ghatahin chhath manayenge smj

Chhath Puja 2020 : 'लाठी- गोली खाएंगे, घाटहिं छठ मनाएंगे' नारे के साथ जमशेदपुर में शुरू हुआ सत्याग्रह अभियान

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Jharkhand news : छठ पूजा को लेकर स्वर्णरेखा नदी स्थित गांधी घाट पर सफाई अभियान में जुटे भोजपुरी नवचेतना मंच, पहचान फाउंडेशन समेत अन्य सामाजिक संगठन के सदस्य.
Jharkhand news : छठ पूजा को लेकर स्वर्णरेखा नदी स्थित गांधी घाट पर सफाई अभियान में जुटे भोजपुरी नवचेतना मंच, पहचान फाउंडेशन समेत अन्य सामाजिक संगठन के सदस्य.
प्रभात खबर.

Chhath Puja 2020, Jamshedpur news : जमशेदपुर (पूर्वी सिंहभूम) : छठ महापर्व पर झारखंड सरकार (Jharkhand government) द्वारा जारी गाइडलाइंस और घाटों पर व्रत करने की पाबंदियों से श्रद्धालुओं में काफी नाराजगी है. सरकारी गाइडलाइंस का चौतरफा विरोध हो रहा है. जमशेदपुर में सरकार के इस अविवेकपूर्ण और तुगलकी फरमान के विरोध में सत्याग्रह अभियान (Satyagraha campaign) की शुरुआत हुई. साथ ही, 'लाठी- गोली खाएंगे, घाटहिं छठ मनाएंगे' का नारा देकर सोशल मीडिया पर अभियान भी छेड़ा है. 'छठ घाट पर ही मनाएंगे चैलेंज' अभियान का सोशल मीडिया पर जबर्दस्त समर्थन मिल रहा है. इस अभियान का 5 हजार से अधिक लोगों ने समर्थन किया है.

भोजपुरी नवचेतना मंच (Bhojpuri Navchetna Manch) के आह्वान पर मंगलवार (17 नवंबर, 2020) की सुबह शहर के कई धार्मिक और सामाजिक संगठनों ने एकजुटता दिखाते हुए महापर्व छठ के लिए सत्याग्रह अभियान शुरू किया. इस दौरान सत्याग्रहियों ने मानगो के स्वर्णरेखा नदी (Swarnarekha River) स्थित गांधी घाट (Gandhi Ghat) पर सफाई अभियान चलाया गया, ताकि व्रतियों को असुविधा ना हो.

इसके अलावा भोजपुरी नवचेतना मंच समेत तमाम संगठनों ने घाट पर सत्याग्रह अभियान से झारखंड सरकार और जिला प्रशासन को साफतौर पर यह संदेश दे दिया है कि वे लोकआस्था के महापर्व पर किसी भी तरह की सरकारी पाबंदी बर्दाश्त नहीं करेंगे.

मंच के संस्थापक अप्पू तिवारी ने कहा कि झारखंड सरकार ने जाने- अनजाने में हिंदू आस्था को आहत करने का अपराध किया है. इससे व्रतियों और श्रद्धालुओं की काफी जनसंख्या में सरकार के विरुद्ध असंतोष और नाराजगी बढ़ी है. कहा कि यदि झारखंड सरकार छठ पूजा को लेकर जारी गाइडलाइंस में संशोधन कर घाटों पर पर्व मनाने की छूट देगी, तो उस निर्णय का स्वागत होगा. निर्णय नहीं बदलने की स्थिति में भी वे हर हाल में नदी घाट पर ही छठ महापर्व मनायेंगे. उन्होंने कहा कि संविधान ने धार्मिक स्वतंत्रता की आजादी दी है. सरकार उस आजादी को समाप्त करने का अपराध ना करे.

इधर, सरकारी गाइडलाइंस के विरोध में भोजपुरी नवचेतना मंच ने 'लाठी- गोली खाएंगे, घाटहिं छठ मनाएंगे' का नारा देकर स्पष्ट कर दिया है कि हर हाल में छठ घाट पर ही पूजा होगी. मंच ने सरकार से जरूरी व्यवस्था करने का निवेदन किया है.

वहीं, श्रद्धालुओं की भावना और लोकआस्था को देखते हुए मंच के संस्थापक अप्पु तिवारी ने सोमवार को सोशल मीडिया (Social media) पर अभियान की शुरुआत की थी. अभियान को 'छठ घाट पर ही मनायेंगे चैलेंज' का नाम देकर पिछले वर्षों के छठ पूजा की तस्वीरें शेयर की है. इस अभियान को सोशल मीडिया पर जबरदस्त समर्थन मिल रहा है. जमशेदपुर के लगभग 5 हजार से अधिक लोगों ने इस कैंपेन का समर्थन करते हुए सरकार से अपनी भावना स्पष्ट कर दी है.

पहचान फाउंडेशन (Pehchan Foundation) के राज गुप्ता ने भी छठ पूजा पर सरकारी पाबंदी का विरोध करते हुए इसे हिंदू आस्था पर चोट बताया. स्वर्णरेखा घाट पर चले सफाई अभियान में भोजपुरी नवचेतना मंच के अलावे पहचान फाउंडेशन समेत कई सामाजिक संस्थाओं से जुड़े लोग मौजूद थे. सत्याग्रह अभियान में अप्पू तिवारी, राज गुप्ता, ऋषव सिंह, रत्नेश सिंह, विशु सिंह, उज्ज्वल तिवारी, आयुष सिंह, अक्षय कुमार, मुन्ना कुमार, विक्की प्रसाद, निर्मल कुमार समेत अन्य का सक्रिय योगदान रहा.

Posted By : Samir Ranjan.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

अन्य खबरें