गुमला : पीसीसी सड़क को लेकर हाई-वोल्टेज ड्रामा, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष की साली से बदसलूकी, विवाद के बाद धक्का-मुक्की

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

दुर्जय पासवान, गुमला

गुमला शहर के डीएसपी रोड हनुमान नगर स्थित सरस्वती विद्या मंदिर स्कूल के पीछे बनी पीसीसी सड़क को लेकर शनिवार को दो घंटे तक हाई-वोल्टेज ड्रामा चला. विवाद के बाद धक्का-मुक्की हुई. तूतू-मैंमैं व अपशब्दों का भी प्रयोग किया गया. कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डॉ रामेश्वर उरांव की साली सह वार्ड पार्षद नूतन रानी ने एक शिक्षक पर बदसलूकी करने का आरोप लगाया. बदसलूकी के बाद पार्षद सड़क पर सो गयीं. यहां तक कि कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष डॉ रामेश्वर उरांव की पत्नी लक्ष्मी भगत भी अपनी बहन नूतन के साथ हुए बदसलूकी को लेकर हंगामा शुरू कर दिया.

यहां बता दें कि सड़क से आवागमन सुचारू हो. इस मांग को लेकर पूरे मुहल्ले के लोग पार्षद के साथ हैं. इधर, मामला बढ़ने पर गुमला थाने की पुलिस व सीओ कुशलमय मुंडू मौके पर पहुंचे. पुलिस ने मामले को शांत कराया. हालांकि अभी भी सड़क का विवाद गरमाया हुआ है. यहां बता दें कि स्कूल के पीछे करीब 200 फीट पीसीसी सड़क बनी है. उस सड़क को स्कूल प्रबंधन अपना बताकर घेराबंदी करने में लगा हुआ है. जबकि मुहल्ले के लोगों का कहना है कि यह सड़क मुहल्ले के लिए बनी है. इस सड़क से मुहल्ले के लोग आवागमन करेंगे.

मुहल्ले की मांग का समर्थन करते हुए नूतन रानी बीते एक सप्ताह से धरना दे रही हैं. दूसरी तरफ गुमला प्रशासन सड़क को लेकर बढ़ते विवाद को शांत कराने की बजाए मूकदर्शक बनी हुई है. जबकि स्कूल प्रबंधन ने उक्त सड़क को अपना बताकर सड़क पर मलबा गिराकर मार्ग को अवरूद्ध कर दिया है.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की पत्नी हुई आक्रोशित

मलबा गिराकर पीसीसी पथ अवरूद्ध करने के कारण शनिवार को वार्ड नंबर 19 की पार्षद नूतन रानी के नेतृत्व में महिलाओं ने स्वच्छता अभियान चलाया. स्वच्छता अभियान चलता देख स्कूल के शिक्षक-शिक्षिका विरोध करने लगे. स्कूल प्रबंधन स्वच्छता अभियान में निकले मुहल्लेवासियों के साथ धक्का मुक्की करने लगे. इसी दौरान किसी शिक्षक ने पार्षद से बदसलूकी की. जिसके बाद हाई वोल्टेज ड्रामा लगभग दो घंटे तक चला.

उक्त घटना से पार्षद नूतन रानी काफी आक्रोशित हो गयीं. वह उक्त स्थल पर जमीन पर लेट गयीं. उन्होंने कहा कि शिक्षक होकर महिला को गलत नियत से पकड़ता है. मैं बैठी हूं. आकर मेरे साथ गलत करो. मैं भी देखती हूं कि तुमलोग क्या कर सकते हो. इधर, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव की पत्नी लक्ष्मी भगत भी आक्रोशित हो गयीं. उन्होंने कहा कि आप स्कूल के शिक्षक हैं. ऐसी हरकत कर रहे हैं. आपके घर में मां, बहन, बेटी नहीं है. उस मास्टर को बाहर निकालो. मैं उसका क्या हाल करती हूं. वह ही समझेगा.

गुमला पुलिस को सूचना मिलने पर गुमला थाना के एएसआइ दूधनाथ सिंह व विपिन कुमार सिंह उक्त स्थल पहुंचे. उन्होंने स्कूल के शिक्षकों को अपने स्कूल का कार्य करने की बातें कही. मौके पर महिलाओं द्वारा पुलिस प्रशासन की उपस्थिति में सफाई अभियान चलाया गया. सभी मुहल्ले की महिलाएं कड़ाही, कोड़ी व कुदाल से उक्त पीसीसी पथ की सफाई की. लगभग दो घंटे बाद सीओ केके मुंडू विवाद स्थल पहुंचे.

पूर्व सांसद की पत्नी लक्ष्मी भगत ने कहा कि स्कूल के शिक्षक कहते हैं कि आपलोग कांग्रेसी हैं. अभी वर्तमान में भाजपा सरकार है. मेरे सीएम, मेरे पीएम, मेरे सांसद, विधायक व स्पीकर हैं. थाना भी मेरा व स्थानीय प्रशासन भी मेरा है. वे लोग हमारा कुछ नहीं करेंगे. आप लोगों को जहां जाना है जाइये. वहीं पुलिस प्रशासन व सीओ की उपस्थिति में पार्षद के नेतृत्व में महिलाओं ने उक्त पीसीसी पथ की सफाई की. जिसके बाद मामला शांत हुआ.

प्रशासन से निष्पक्ष जांच की मांग

प्राचार्य सुनील कुमार पाठक ने एसपी अंजनी कुमार झा से मोबाइल के माध्यम से संपर्क करने का प्रयास किया. लेकिन एसपी द्वारा फोन नहीं उठाने के कारण बात नहीं हो सकी. उन्होंने जिला प्रशासन व पुलिस प्रशासन से मामले की निष्पक्ष जांच कराते हुए हमारे विद्यालय की जमीन को विद्यालय के सुपूर्त करने की मांग की है. सीओ ने मामले से अवगत होने के बाद कहा कि मामला एसडीओ कोर्ट में लंबित है. वहां से फैसला आने के बाद ही कुछ किया जायेगा.

मौके पर प्रभारी एचएम राजवल्लभ शर्मा, योगेंद्र मल्लिक, रीता लाल, बसंती देवी, आरती देवी, सावित्री देवी, मुन्नी देवी, बसंती, वीणा, आरती देवी, मानी देवी, उर्मिला देवी, रीता साहू, माया देवी, देवंती देवी, अन्नपूर्णा देवी, सुनीता प्रियदर्शिनी, अरूणा देवी, मनीरजनी देवी सहित सैकड़ों की संख्या में मुहल्ले की महिलाएं मौजूद थीं.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें