26.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

पैक्स से धान बीज नहीं मिलने से किसानों में रोष

तिसरी प्रखंड मुख्यालय स्थित पैक्स से धान के बीज का वितरण नहीं होने से किसानों में रोष है. किसान प्रतिदिन पैदल लंबी दूरी तय कर तिसरी मुख्यालय पहुंच रहे हैं और पैक्स में ताला लटका हुआ देखकर बैरंग लौट जा रहे हैं.

तिसरी. तिसरी प्रखंड मुख्यालय स्थित पैक्स से धान के बीज का वितरण नहीं होने से किसानों में रोष है. किसान प्रतिदिन पैदल लंबी दूरी तय कर तिसरी मुख्यालय पहुंच रहे हैं और पैक्स में ताला लटका हुआ देखकर बैरंग लौट जा रहे हैं. गुरुवार को भी प्रखंड के कोसिलवा, खटपोंक, खिरोध, बस्तिकुरा, पिपराटांड़, भुराई समेत अन्य गांवों से किसान धान का बीज लेने तिसरी पैक्स पहुंचे, लेकिन पैक्स में ताला लटका देखकर किसान नाराजगी जतायी. किसानों ने कहा कि पैक्स प्रबंधक ने गुरुवार को बीज के लिए बुलाया था. वह प्रतिदिन तिसरी पैक्स का चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन बीज नहीं मिल रहा है. कहा कि अभी खेती का समय है और बीज नहीं मिला तो खेती प्रभावित होगी. बीज लेने पहुंचे किसान बिनोद हांसदा, चमेली देवी, संझला मुर्मू, गिरधारी रविदास, राजू यादव, कौशल हंसदा, फुलमुनी हेंब्रम, मुनी मुर्मू, विक्रम, प्रदीप दास, ललिता मुर्मू, बुधु टुडू आदि ने कहा कि यदि समय रहते बीज का वितरण नहीं किया गया, तो वह आंदोलन के लिए बाध्य होंगे. किसानों ने जिला प्रशासन से अविलंब धान का बीज वितरण करवाने की मांग की. वहीं, तिसरी पैक्स के प्रबंधक सूर्यनारायण साहू ने कहा कि पैक्स में कुल 16 बोरा यानी लगभग पांच क्विटंल ही बीज दिया गया था. इसका वितरण कुछ किसानों के बीच कर दिया है. कहा कि जितना बीज मिलेगा, उतना ही बांटा जा सकता है. और बीज मिलने पर वितरण होगा. भाजपा विधायक प्रतिनिधि अशोक उपाध्याय ने कहा झारखंड सरकार किसान विरोधी है. हेमंत सोरेन सरकार बनाने में व्यस्त हैं और इधर खेती के समय में किसानों को धान का बीज नहीं मिल पा रहा है. कहा कि समय रहते यदि सरकार धान का उपलब्ध नहीं करवाती है तो आंदोलन किया जायेगा.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें