1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. dumka
  5. democracy forbidden between corona and security dumka saw more turnout in rural areas than urban areas srn

कोरोना व सुरक्षा के बीच मना लोकतंत्र का महापर्व, दुमका में शहरी क्षेत्रों के मुकाबले ग्रामीण क्षेत्रों में हुआ ज्यादा मतदान

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
jharkhand by election 2020 update : शहरी क्षेत्रों के मुकाबले ग्रामीण क्षेत्रों में हुआ ज्यादा मतदान
jharkhand by election 2020 update : शहरी क्षेत्रों के मुकाबले ग्रामीण क्षेत्रों में हुआ ज्यादा मतदान
प्रतीकात्मक तस्वीर

दुमका : काेरोना गाइड लाइन तथा भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच दुमका उपचुनाव संपन्न हुआ. राज्य की दो सीटों पर हुए उपचुनाव में दुमका हॉट सीट बना हुआ है. इस सीट पर मुख्य मुकाबला मुख्यमंत्री के भाई झामुमो प्रत्याशी बसंत सोरेन व भाजपा प्रत्याशी सह पूर्व मंत्री डॉ लोइस मरांडी के बीच है. दुमका के लोगों में चुनाव को लेकर गजब का उत्साह देखा गया. काेरोना के भय को दरकिनार कर वोटर घरों से निकले.

हालांकि प्रशासन की आेर से भी व्यापक व्यवस्था की गयी थी. बूथ पर सैनिटाइजर व मास्क की व्यवस्था की गयी थी. सोशल डिस्टैंसिंग का पालन कराने के लिए सुरक्षा घेरा बनाया गया था. इस चुनाव में खास बात यह देखी गयी कि कहीं भी वोटरों की लंबी कतार नहीं लगी थी.

इसका कारण दुमका में सहायक बूथ बनाना रहा. सुबह में वोटिंग की धीमी रफ्तार के बाद धूप खिलते ही बढ़ गयी. वोटर सोशल डिस्टैंसिंग के साथ कतारबद्ध होकर वोट डाले. भाजपा प्रत्याशी डॉ लोइस मरांडी ने गांदो पंचायत के पैतृक आवास बड़तल्ली गांव में मतदान किया.

यहां ग्रामीण क्षेत्रों की तुलना में शहर के वोटर सुस्त दिखे. शहरी क्षेत्र में जहां 48 प्रतिशत मतदाता की मताधिकार का प्रयोग करने घरों से बाहर निकले, वहीं शहर से बाहर निकलते ही सदर प्रखंड के ग्रामीण ईलाको में वोट का प्रतिशत बढ़ता गया. सदर प्रखंड के ग्रामीण ईलाकों में 65.82 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया. पूरे सदर प्रखंड में 61.36 प्रतिशत वोटिंग होने की सूचना प्राप्त हुई है. वहीं मसलिया प्रखंड में सदर प्रखंड की तुलना में लगभग दस प्रतिशत अधिक 71.95 प्रतिशत मतदान हुआ है.

सखी बूथों में महिलाओं ने कराया चुनाव संपन्न

दुमका विधानसभा उपचुनाव में 146 बूथों में शांतिपूर्ण तरीके से मतदान संपन्न कराने में महिलाओं ने अहम भूमिका निभायी. जहां 11 सखी बूथों में पीठासीन पदाधिकारी के अलावा पी-1, पी-2 व पी-3 सभीमहिलायें ही थीं, वहीं 135 बूथों में पी-2 व पी-3 महिलायें रहीं. 76 बूथों में वेबकास्टिंग करायी गयी थी, जिसपर सीधा चुनाव आयोग नजर रख रहा था. सखी बूथों में सुरक्षा के अपेक्षाकृत इंतजाम रखे गये थे. महिला पुलिसकर्मियों की भी विभिन्न बूथों पर तैनाती थी. वहीं पोषण सखियां कई बूथों में दिव्यांग व 80 साल के बुजुर्ग को लाने में सहयोग कर रही थी. सैनिटाइजर देने से लेकर थर्मल स्कैनिंग करने में भी महिला कर्मियों ने अहम भूमिका निभाई.

शहरी इलाके में भी मतदान की रफ्तार रही धीमी

शहर के पॉश ईलाके में मतदान की रफ्तार बेहद धीमी रही. ऐसे ही बूथों ने सदर प्रखंड के मतदान के प्रतिशत को आगे बढ़ने से रोकने कर काम किया. दुमका क्लब स्थित मतदान केंद्र संख्या 44 में बंदरजोरी, एलआइसी कोलोनी एवं ग्रांट इस्टेट मुहल्ले के लोगों ने वोट डाला. बूथ नंबर 44 में 03 बजे तक 864 में से 297 वोटर ने वोट डाला, जबकि इसी भवन में एक अन्य बूथ में 529 में से इस अवधि तक 112 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया.

वहीं गर्ल्स स्कूल में बनाये गये ऑक्जिलरी बूथ में भी यही नजारा दिखा, पर इससे थोड़ा हटकर शहरी क्षेत्र से बाहर लखीकुंडी के राजकीयकृत मध्य विद्यालय के बूथ नंबर 150 में 811 में से 439 वोटर द्वारा व बूथ नंबर 151 में 793 में 431 वोटर द्वारा वोट डाले जा चुके थे. वहीं इसी समय तक बूथ नंबर 152 में 838 में से 535 वोटर ने वोट डाला था.

posted by : sameer oraon

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें