1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. chatra
  5. clothing production center in chatra is closed for eight years administration does not care srn

चतरा : आठ साल से बंद है वस्त्र उत्पादन केंद्र, प्रशासन को नहीं है परवाह

प्रखंड कार्यालय के पास अवस्थित पावरलूम वस्त्र उत्पादन केंद्र सरकारी उपेक्षा के कारण बदहाल होता जा रहा है. विभागीय उदासीनता के कारण यहां लगी कीमती मशीनें जंग खा रही है.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
चतरा में आठ साल से बंद है वस्त्र उत्पादन केंद्र
चतरा में आठ साल से बंद है वस्त्र उत्पादन केंद्र
Prabhat Khabar

चतरा : प्रखंड कार्यालय के पास अवस्थित पावरलूम वस्त्र उत्पादन केंद्र सरकारी उपेक्षा के कारण बदहाल होता जा रहा है. विभागीय उदासीनता के कारण यहां लगी कीमती मशीनें जंग खा रही है. यहां कपड़ा निर्माण (पावरलूम) की आधा दर्जन से अधिक मशीन व सामग्री हैं, जो बेकार पड़ी है. केंद्र व राज्य सरकार एक ओर कौशल विकास के तहत कई तरह की योजना संचालित कर रही है, तो वहीं पूर्व से निर्मित पावरलूम वस्त्र उत्पादन केंद्र बदहाल है.

लगभग आठ साल से यह बंद है. पूर्व में खड़ौनी गांव के एक संस्था द्वारा संचालित किया गया था, लेकिन इसके संचालक मोकिम अंसारी की हत्या होने के बाद से बंद है. इसके बंद होने से दर्जनों बुनकर बेरोजगार हो गये. वर्तमान समय में सभी बुन कर मुंबई व सूरत की कंपनियों में मजदूरी कर रहे हैं. पावरलूम वस्त्र उत्पादन केंद्र का संचालन होने पर क्षेत्र के बुनकरों को अपने ही घर में रोजगार मिल सकता है. लोग आत्मनिर्भर होंगे. इसके अलावा नये लोग भी काम सिख सकेंगे.

10 साल की लीज पर लिया था : जुनैद :

पूर्व में इसका संचालन खड़ौनी प्राथमिक बुनकर सहयोग समिति द्वारा संचालित किया जा रहा था, जिसके अध्यक्ष स्व मोकिम अंसारी थे. उनकी हत्या के बाद यह बंद हो गया. वर्तमान अध्यक्ष सह उनके भाई जुनैद अंसारी ने कहा कि इसका संचालन डीआरडीए की देखरेख में होता था. मेरे भाई ने 10 साल के लीज पर लिया था. वर्तमान समय में मुझे संचालन की अनुमति मिलेगी, तो जरूर संचालित करेंगे. उक्त भवन में आठ पावरलूम मशीन है, जिसकी कीमत लगभग 12 लाख रुपये है. सरकार द्वारा आर्थिक सहायता दी जाये, तो कई लोगों को रोजगार मिल सकता है.

बीडीओ ने कहा :

प्रभारी बीडीओ साकेत सिन्हा ने कहा कि मेरे संज्ञान में आया है, तो इसे संचालित करने का प्रयास करूंगा. पूरी जानकारी अपने कर्मियों से लेंगे. वहीं जेएसएलपीएस के प्रखंड समन्वयक मनोज कुमार यादव ने कहा कि हमने इसे अधिग्रहण के लिए जिला उद्योग विभाग को पत्र लिखा, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला. विभाग द्वारा जेएसएलपीएस को सुपुर्द किया जाये, तो बेहतर तरीके से संचालित कर सकते हैं.

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें