1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. bokaro
  5. rims ranchi news bullet was stuck between the heart and the lungs doctors of saved life srn

दिल और फेफड़े के बीच फंसी थी गोली फिर रिम्स रांची के डॉक्टरों ने युवक की 5 घंटे सर्जरी कर ऐसे बचायी जान

बोकारो के चंद्रपुरा इलाके के रहने वाले रंजीत सिंह नामक युवक को अपराधियों ने गोली मारी दी थी लेकिन रिम्स के डॉक्टरों ने सर्जरी कर उनकी जान बचा ली है. सर्जरी के लिए कॉर्डियोलॉजी विभाग के डॉ विनित महाजन के नेतृत्व में एक टीम बनायी गयी थी

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
JharKhand News: रिम्स डॉक्टरों ने पांच घंटे की सर्जरी कर मरीजों की बचायी जान
JharKhand News: रिम्स डॉक्टरों ने पांच घंटे की सर्जरी कर मरीजों की बचायी जान
Prabhat khabar

Jharkhand News. Ranchi News रांची : रांची बाेकारो चंद्रपुरा इलाके के फुलझरिया बस्ती निवासी रंजीत सिंह को 16 मई को घर के पास टहलते हुए अपराधियों ने गोली मार दी थी. तब से यह गोली उनके फेफड़े और दिल के बीच ही फंसी हुई थी. नाजुक हालत में पहले उन्हें बोकारो जेनरल अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां से डॉक्टरों ने उन्हें रिम्स रेफर कर दिया. रिम्स कार्डियोलॉजी विभाग के डॉक्टरों ने पांच घंटे की जटिल सर्जरी की और उनकी जान बचा ली.

विभाग के डॉ राकेश कुमार ने बताया कि शुरुआत में हमें पता नहीं चल पाया कि गोली कहां फंसी हुई है. जब जांच शुरू की गयी, तो पता चला कि श्री सिंह को दो गोलियां लगी थीं. एक उनके दाहिने हाथ को छेदते हुए बाहर निकल गयी थी. वहीं, दूसरी गोली उनके हाथ से होते हुए सीने के वाॅल से टकराकर वापस मुड़ गयी और फेफड़े और छाती के बीच फंस गयी थी.

मेडिकल शब्दावली में इसे ‘रिकोजेट बुलेट’ कहते हैं. गोली अगर एक इंच भी इधर-उधर लगती, तो मरीज की जान मौके पर ही हो जाती. सीवियर इंज्यूरी की वजह से मरीज को सांस लेने में भी काफी दिक्कत हो रही थी. इसके चलते उन्हें वेंटिलेटरी सपोर्ट पर रखा गया. ऐसे में डॉक्टरों ने तुरंत सर्जरी करने का फैसला लिया.

डॉक्टरों की स्पेशल टीम बनायी गयी :

सर्जरी के लिए कॉर्डियोलॉजी विभाग के डॉ विनित महाजन के नेतृत्व में एक टीम बनायी गयी, जिसमें सीटीवीएस से डॉ राकेश चौधरी, डॉ अंशुल, एनेस्थिसिया टीम से डॉ मुकेश, डॉ खुशबू, अमित ओटी असिस्टेंट शमीम और राजेंद्र शामिल थे. टीम ने सर्जरी के लिए नयी तकनीक ‘मिनी इस्टर्नटॉमी’ का प्रयोग किया. इसमें छाती के अंदर छोटा चीरा लगा कर फेफड़े के ऊपरी हिस्से और दिल की धमनियों के बीच फंसी गोली निकालना था. करीब पांच घंटे चली सर्जरी के बाद गोली निकाल दी गयी. मरीज अब खतरे से बाहर है.

Posted By: Sameer Oraon

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें