25.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

अधर में हैं कोलकर्मियों से जुड़े कई मामले

अधर में हैं कोलकर्मियों से जुड़े कई मामले

राकेश वर्मा, बेरमो : मई 2023 में कोलकर्मियों का एनसीडब्ल्यूए-11 संपन्न हुआ था. इसके बाद अभी तक एक बार जेबीसीसीआइ स्टैंडराइजेशन कमेटी की बैठक हुई है. इसमें 9:3:0 धारा के तहत आश्रितों के नियोजन को लेकर पुन: परिभाषित की गयी है. करीब एक साल के बाद 27 जून को कोल इंडिया मुख्यालय कोलकाता में कोल इंडिया एपेक्स की बैठक होने जा रही है. इस बैठक में कोल इंडिया का उत्पादन-उत्पादकता के अलावा एमडीओ, रेवेन्यू शेयरिंग, कॉमर्शियल माइनिंग, आउटसोर्सिंग, खदानों के विस्तार आदि पर चर्चा होगी. इस बैठक में कोल इंडिया के चेयरमैन, डीटी, डीपी, डीएफ के अलावा सभी कंपनियों के सीएमडी मौजूद रहेंगे. मजदूर संगठन से जुड़े नेता इस बैठक में एमडीओ, रेवेन्यू शेयरिंग, कॉमर्शियल माइनिंग के खिलाफ अपनी बात रख सकते है. विभागीय उत्पादन पर जोर देने की मांग इनके द्वारा की जायेगी. इन सबसे इतर अभी कोलकर्मियों से जुडे़ कई अहम मुद्दे हैं जो कई साल से अधर में हैं. कोलकर्मी इन सभी मुद्दों के निराकरण के लिए भी मजदूर संगठनों के नेताओं से आस लगाये बैठे हैं. इन मुद्दों में मुख्य रूप से सेवानिवृत्त लगभग 25 हजार कर्मियों के बकाया एनसीडब्ल्यूए-11 का एरियर व एक्सग्रेसिया भुगतान, सेवानिवृत्त कर्मियों के 20 लाख ग्रेच्युटी भुगतान और पेंशन रिविजन का मामला है.

जानकारी के अनुसार 2.30 लाख कोलकर्मियों को एनसीडब्लूए-11 के 23 माह का बकाया एरियर का भुगतान एकमुश्त कर दिया गया. लेकिन अभी तक सेवानिवृत्त कर्मियों का इस बकाया एरियर का भुगतान नहीं किया गया है. साथ ही दुर्गा पूजा के अवसर पर मिलने वाले सालाना एक्सग्रेसिया का भुगतान भी अधिकतर सेवानिवृत्त कर्मियों को नहीं किया गया है. वेतन समझौता का करीब 17-18 आइ आइ (इम्पप्लीमेटेंशन एवं इंस्ट्रक्शन) को लागू किया जाना था. इसमें से अधिकतर आइ-आइ को कोल इंडिया प्रबंधन ने लागू किये जाने का आदेश काफी पहले जारी कर दिया था. इसमें मुख्य रूप से एनसीडब्ल्यूए-11 के समझौते के अनुसार सभी एलाउंस (पितृत्व अवकाश, सामाजिक सुरक्षा, भारत भ्रमण, स्टडी लीव, विकलांग कर्मचारी का वाहन भत्ता, आवास भत्ता, लीव, पेड होली डे , भूमिगत भत्ता भुगतान, पीस रेटेड) से संबंधित अन्य भत्तों के भुगतान का आदेश शामिल है. इसके अलावा मॉनेटरी कंपनसेंशन के तहत जो नौकरी के एवज में पहले पैसा मिलता था वह 26292 रुपये था. इसे बढाकर अब 39069 रुपये मिलेगा. इसका भी आइ-आइ-9 कोल इंडिया ने निर्गत कर दिया है. 14 नवंबर 2023 को जेबीसीसीआइ मानकीकरण कमेटी की बैठक में इन भत्तों के भुगतान के आदेश के अलावा सेवानिवृत्त कर्मियों के बकाया एरियर व सालाना बोनस का भुगतान जल्द करने की बात प्रबंधन की ओर से कही गयी थी. जानकारी के अनुसार फिलहाल कोल इंडिया के 20-25 हजार सेवानिवृत्त कर्मियों को एनसीडब्ल्यूए-11 का बकाया एरियर का भुगतान होना है. दो से ढाई हजार मृत कोलकर्मियों के आश्रितों का भी एनसीडब्ल्यूए-11 का एरियर व एक्सग्रेसिया भुगतान पेंडिंग है.

लगभग 14 हजार सेवानिवृत्त कर्मी 20 लाख रुपये ग्रेच्युटी मिलने का कर रहे इंतजार :

एक जनवरी 2017 से फरवरी 2018 के बीच सेवानिवृत्त हुए लगभग 14 हजार कोलकर्मियों को 20 लाख ग्रेच्युटी भुगतान किये जाने का मामला इस बैठक उठने का इंतजार है. इसमें सबसे ज्यादा संख्या सीसीएल, बीसीसीएल व इसीएल में लगभग आठ हजार है. इसके अलावा एमसीएल, एनसीएल, एसइसीएल व डब्ल्यूसीएल के कर्मी हैं. इस संबंध में कोल इंडिया प्रबंधन का कहना है कि चुकि: केंद्र सरकार द्वारा बढ़ायी गयी 20 लाख की ग्रेच्युटी की राशि से संबंधित ग्रेच्युटी एक्ट में संशोधन फरवरी 2018 से हुआ है. इसलिए मार्च 2018 से बढ़ी हुई ग्रेच्युटी दी जा रही है. दूसरी ओर मजदूर संगठनों के नेताओं का कहना है कि एक जनवरी 2017 को कोयला अधिकारियों के लिए थर्ड पे कमीशन आया. जिसके बाद कोल इंडिया के अधिकारियों को एक जनवरी 2017 से 20 लाख की ग्रेच्युटी राशि का भुगतान किया जा रहा है. इसलिए एक जनवरी 2017 से फरवरी 2018 के बीच सेवानिवृत्त हुए कोलकर्मियों को भी 20 लाख रुपये ग्रेच्युटी मिले.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें