1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. bokaro
  5. i lost a parent it was my personal loss chief minister hemant soren paid tribute to congress leader rajendra prasad singh bokaro news ranchi news jharkhand

मैंने एक अभिभावक खो दिया, यह मेरी व्यक्तिगत क्षति, राजेंद्र सिंह को मुख्यमंत्री हेमंत ने दी श्रद्धांजलि

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
राजेंद्र सिंह को श्रद्धांजलि देते मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन.
राजेंद्र सिंह को श्रद्धांजलि देते मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन.

बेरमो (बोकारो) : मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन में बेरमो विधायक, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री राजेंद्र सिंह के पार्थिव शरीर पर पुष्प अर्पित कर उन्हें नमन किया. मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि राजेंद्र सिंह जी मेरे अभिभावक थे. उनकी छाया में मैं बड़ा हुआ. सदैव उनका मार्गदर्शन मुझे प्राप्त होता रहा. उनका यूं चले जाना गहरा दुख दे गया. स्वास्थ्य मंत्री के रूप में इनका कार्यकाल मिल का पत्थर साबित हुआ है. उन्होंने एक लंबी लकीर खींची है. मुख्यमंत्री ने कहा राजेंद्र सिंह का सभी राजनीतिक दल के लोगों के साथ हमेशा अच्छा व्यवहार रहा. हमें उनके जीवनकाल से प्रेरणा लेने की जरूरत है.

गौरतलब है कि बेरमो विधायक, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री राजेंद्र प्रसाद सिंह का निधन रविवार 24 मई को दिल्ली में इलाज के दौरान हो गया. फेफड़े में फंगल इन्फेक्शन की शिकायत के बाद उन्हें रांची के बरियातु स्थित रामप्यारी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में भर्त्ती कराया गया था. इसके बाद उन्हें बेहतर ईलाज के लिए एयर एंबुलेंस के जरिए दिल्ली ले जाया गया था. जहां कई दिनों के इलाज के बाद उनका निधन हो गया.

सोमवार देर रात राजेंद्र सिंह का पार्थिव शरीर उनके गांव लाया गया. वहीं, आज मंगलवार को उनका अंतिम संस्कार किया गया. अंतिम संस्कार से पूर्व उन्हें श्रद्धांजलि देने वालों की भीड़ उमड़ पड़ी. राजेंद्र बाबू को श्रद्धांजलि देने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, उनके पिता शिबू सोरेन, मंत्री बादल, गोमिया विधायक लंबोदर महतो सहित कई बड़े नेता उनके घर पहुंचे थे.

मुख्यमंत्री ने उन्हें श्रद्धांजलि दी और उनके परिवार के लोगों से मुलाकात कर उन्हें ढाढस बंधाया. राजेंद्र बाबू के पार्थिव शरीर तक पहुंचने से पहले कांग्रेस के कार्यकर्ता सभी लोगों को सैनिटाइज करते नजर आये. ढोरी स्टॉफ क्वार्टर स्थित राजेंद्र सिंह के आवास के बाहर 15-20 की संख्या में पंडाल लगाये थे, जहां दूरी बनाकर हर पंडाल में 20-20 लोगों के बैठने की व्यवस्था थी.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें