26.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

17 से जिले में होगी 22 से 23 घंटे बिजली आपूर्ति

बिजली समस्या को लेकर नेता प्रतिपक्ष की अध्यक्षता में बोकारो परिसदन में हुई बैठक

संवाददाता, बोकारो.

अगले तीन दिनों तक 15 से 16 घंटे बिजली आपूर्ति की जायेगी, वहीं तीन दिन के बाद क्षेत्र में लगभग 22 से 23 घंटे की बिजली आपूर्ति होने लगेगी. ये बातें बोकारो व चंदनकियारी विधानसभा क्षेत्र में गंभीर बिजली संकट को लेकर गुरुवार को बोकारो सर्किट हाउस में हुई बैठक में बिजली विभाग के अधिकारियों ने कही. नेता प्रतिपक्ष सह चंदनकियारी विधायक अमर कुमार बाउरी की अध्यक्षता में हुई बैठक में बिजली समस्या को लेकर गंभीरतापूर्वक विचार विमर्श किया गया. बैठक में बिजली खंभा, तार, इंसुलेटर, ट्रांसफाॅर्मर सहित अन्य सामानों की कमी की बात कही गयी. खरीदारी नहीं होने की स्थिति में सरकार को रिक्विजिशन भेजने की बात कही गयी.

सरकार के पास सरप्लस बिजली, फिर संकट क्यों :

नेता प्रतिपक्ष अमर कुमार बाउरी ने कहा : राज्य सरकार कहती है कि उनके पास सरप्लस बिजली है. ऐसे में अगर लोगों को बिजली नहीं मिल रही है तो सरकार का बयान पूरी तरह से हास्यास्पद है. श्री बाउरी ने कहा : बिजली कटौती व इससे जुड़ी समस्या पूरी तरह से राज्य सरकार की विफलता है, क्योंकि विभाग में बिजली उपकरणों की भारी कमी है. सरकार इस पर ध्यान नहीं दे रही है. श्री बाउरी ने कहा : विभाग की ओर से जो आश्वासन मिला है, उम्मीद है उस पर अधिकारी खरा उतरेंगे. श्री बाउरी ने कहा : इंसुलेटर समेत बिजली आपूर्ति सामानों की अनुपलब्धता गंभीर विषय है. जिला पदाधिकारी को चाहिए कि ऐसी सामानों की खरीदारी डीएमएफटी फंड या अन्य फंड से करें, ताकि इंसुलेटर पंक्चर होने की स्थिति में बिजली बाधित नहीं हो.

बोकारो समेत पूरे धनबाद लोस क्षेत्र में नया सर्वे कराने की जरूरत :

धनबाद सांसद ढुलू महतो ने कहा : बिजली को लेकर हाल के सालों में कोई सर्वे नहीं हुआ है. 20 साल पहले जो सर्वे हुआ था, उसी के मुताबिक बिजली आपूर्ति की जा रही है. बोकारो समेत पूरे धनबाद लोकसभा क्षेत्र में नया सर्वे होना चाहिए. आने वाले 15 से 20 साल की मांग को देखते हुए रिपोर्ट तैयार करने की जरूरत है. जब तक डिमांड का हिसाब नहीं होगा, तब तक सही रूप में आपूर्ति नहीं हो पायेगी. सांसद श्री महतो ने कहा : विभाग में बुनियादी चीजों की कमी कई सवाल उठा रहा है. विभाग को समय रहते इन कमियों को दूर करने की जरूरत है. मौजूदा राज्य सरकार इस मामले में पूरी तरह से फेल है.

ट्रांसमिशन पोल खड़ा होने के बाद भी बुनियादी सामान की कमी से होगा असर :

बोकारो विधायक सह मुख्य सचेतक विरोध दल (विधानसभा) बिरंची नारायण ने कहा : एक जून को आयी आंधी-पानी में फुदनीडीह ट्रांसमिशन पोल उखड़ गया था. इसके बाद कई जुगत के बाद पोल का काम शुरू हुआ. जिस तरह विभाग में जरूरत का मात्र 05 प्रतिशत सामान उपलब्ध है. ऐसे में ट्रांसमिशन लाइन बन जाने पर भी जरा सी समस्या होने पर बिजली आपूर्ति प्रभावित होगी. श्री नारायण ने कहा : भीषण गरमी में बिजली की समस्या से लोग त्राहिमाम कर रहे हैं, दूसरी ओर विभाग सामान की कमी का रोना रो रहा है. यह सरासर सरकार की असफलता है. इस सरकार से उम्मीद भी नहीं की जा सकती है.

बीएसएल के कमांड क्षेत्र में बिजली संकट :

बैठक में बिजली समस्या को लेकर बीएसएल अधिकारी से भी बात की गयी. जनप्रतिनिधियों ने कहा : बीएसएल स्थापना के बाद पिछले कुछ साल से बिजली की समस्या कमांड क्षेत्र में भी आ रही है. इस साल तो स्थिति बद से बदतर हो गयी है. शिकायत के बाद भी सुनवाई नहीं हो रही है. इस पर बीएसएल अधिकारियों ने कहा : डीवीसी से 20 मेगावाट अतिरिक्त बिजली की मांग की गयी है. डीवीसी से बिजली आपूर्ति होने के साथ सभी समस्या का निदान हो सकेगा. जनप्रतिनिधियों ने कहा : बीएसएल कमांड क्षेत्र में बिजली कटौती से बीएसएल के इमेज को धक्का लगा है.

वहीं टाउन हॉल निर्माण स्थल के पास से बीएसएल के बिजली खंभा को हटाने की बात भी की गयी. इस पर बीएसएल टीए जीएम कुंदन कुमार ने कहा : इस मसले पर कोई जानकारी नहीं है. इस पर बोकारो विधायक बिरंची नारायण ने कहा : कई बार खंभा हटाने को लेकर कहा गया है, बावजूद इसके कोई सुनवाई नहीं हुई. इस पर डीसी विजया जाधव ने फौरन कार्रवाई करने की बात कही. मौके पर डीसी विजया जाधव, डीएफओ रजनीश कुमार, डीडीसी संदीप कुमार, चास एसडीओ ओमप्रकाश गुप्ता, जेबीवीएनएल के पदाधिकारी व अन्य पदाधिकारी समेत भाजपा के जिला महामंत्री संजय त्यागी व अन्य मौजूद थे.

डिस्क्लेमर: यह प्रभात खबर समाचार पत्र की ऑटोमेटेड न्यूज फीड है. इसे प्रभात खबर डॉट कॉम की टीम ने संपादित नहीं किया है

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें