1. home Hindi News
  2. state
  3. fraud was allowed to run only two and a half hundred smart phones caught three years late pkj

महज ढ़ाई सौ रुपये में स्मार्ट फोन दिलाने का देता था झांसा, तीन साल बाद दबोचा गया

By संवाद न्यूज एजेंसी
Updated Date
फोन के नाम पर ठगी
फोन के नाम पर ठगी
फाइल फोटो

आम लोगों को महज ढ़ाई सौ रुपये में स्मार्ट फोन दिलाने का झांसा देकर ठगी करने वाला आरोपी अब पुलिस गिरफ्त में है. आरोपी ने कई लोगों से ठगी की और फरार हो गया. इसके लिए एक संगठित गिरोह काम कर रहा था. इन लोगों ने रिंगिंग बेल्स कंपनी के नाम पर ठगी की. कंपनी को प्रधानमंत्री के डिजिटल इंडिया का हिस्सा बताया गया. इस कारण दुकानदार और आम लोगों को इस कपनी पर विश्वास बढ़ा और ठगी आसान हो गई.

उत्तराखंड में कई दुकानदार भी इस ठग गिरोह के झांसे में आ गए. उनसे लाखों की ठगी की गई. इस मामले में तीन साल से फरार चल रहे आरोपी को पुलिस ने लुधियाना से गिरफ्तार कर लिया. पुलिस सूत्रों के मुताबिक 2017 में रुड़की के एक व्यवसायी ने तहरीर दी थी. तहरीर में कहा गया कि रिंगिंग बेल्स प्राइवेट लिमिटेड इंदिरापुरम, गाजियाबाद के प्रबंधक निदेशक मोहित गोयल, जरनल मैनेजर अनमोल गोयल निवासी मोह शक्ति, थाना नागल जिला शामली ने अपनी कंपनी का स्मार्टफोन देने का वादा किया था.

आरोपियों ने कंपनी को प्रधानमंत्री डिजिटल इंडिया का हिस्सा बताने के लिए कुछ दस्तावेज भी दिखाए. पीडित व्यवसायी ने मोबाइल के ऑर्डर देते समय एडवांस में सवा तीन लाख रुपये दिए थे . इसके बाद 67 और 16 हजार रुपये और दिए. उन्हें दूसरी कंपनी के सस्ते मोबाइल भेजे गए. गिरोह ने इसी तरह अन्य लोगों को भी झांसा दिया.

सीओ ने बताया कि तहरीर के आधर पर मोहित गोयल, धारा गोयल निवासी मोहशक्ति नागल शामली, अनमोल गोयल, प्रवीण गोयल और समीर बजाज के खिलाफ केस दर्ज हुआ था. मामले में समीर बजाज फरार चल रहा था. पुलिस ने आरोपी को पकड़ने के लिए तीन बार प्रयास किया, लेकिन सफलता नहीं मिली. अब वह गिरफ्तार कर लिया गया है.

Posted By - Pankaj Kumar Pathak

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें