29.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Trending Tags:

Dhanbad : 8 में 7 लोकसभा चुनाव में जीती भाजपा, I.N.D.I.A. के लिए भगवा गढ़ को भेदना बड़ी चुनौती

Dhanbad Lok Sabha 2024: धनबाद लोकसभा सीट झारखंड में भाजपा के लिए सबसे सुरक्षित सीट बन चुकी है. पिछले 8 लोकसभा चुनावों में 7 बार यहां से भाजपा जीत चुकी है.

Dhanbad Lok Sabha 2024| धनबाद, संजीव झा : धनबाद लोकसभा सीट झारखंड में भाजपा के लिए सबसे सुरक्षित सीट बन चुकी है. पिछले 8 लोकसभा चुनावों में 7 बार यहां से भाजपा जीत चुकी है. पिछले तीन चुनावों से यहां के वर्तमान सांसद पशुपति नाथ सिंह विजयी होते रहे हैं. वर्ष 2019 के चुनाव में उन्होंने 4,86,194 मतों से जीत हासिल की थी. पूरे पूर्वी भारत में जीत का यह सबसे बड़ा मार्जिन था. भगवा गढ़ बन चुके इस सीट पर भारतीय जनता पार्टी के विजयी रथ को रोकना विपक्षी गठबंधन I.N.D.I.A. के लिए बड़ी चुनौती होगी.

90 के दशक में यहां कमजोर पड़े वामदल और कांग्रेस

धनबाद लोकसभा सीट के लिए हुए पहले तीन चुनाव में यहां से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रत्याशी विजयी हुए. चौथे चुनाव में यहां से रानी ललिता राजलक्ष्मी एक निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में विजयी हुईं. फिर कांग्रेस जीती. जेपी आंदोलन के बाद वर्ष 1977 में हुए लोकसभा चुनाव में मासस के संस्थापक एके राय पहली बार चुनाव जीते. वह तीन बार यहां से सांसद रहे. हालांकि, बीच में वर्ष 1984 में कांग्रेस की लहर में उन्हें पराजय का सामना करना पड़ा.

Also Read : लोकसभा चुनाव : झारखंड के आदिवासी अन्य वोटर्स से मतदान में हैं आगे, 2019 के आंकड़े दे रहे गवाही

धनबाद से लगातार चार बार लोकसभा के लिए चुनीं गईं प्रो रीता वर्मा

वर्ष 1991 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने यहां से शहीद एसपी रणधीर प्रसाद वर्मा की पत्नी रीता वर्मा को चुनाव मैदान में उतारा. सहानुभूति लहर पर सवार होकर श्रीमती वर्मा ने पहली बार यहां भाजपा को विजयी दिलायीं. प्रोफेसर रीता वर्मा लगातार चार बार यहां से सांसद बनीं, जो अब तक एक रिकॉर्ड है. वर्ष 2004 के चुनाव में कांग्रेस के चंद्रशेखर उर्फ ददई दुबे ने भाजपा के विजयी रथ को रोका.

लोकसभा चुनाव में धनबाद से लगातार तीन बार जीते पीएन सिंह

फिर वर्ष 2009 के चुनाव में भाजपा ने यहां से पूर्व मंत्री पशुपति नाथ सिंह को चुनाव मैदान में उतारा. श्री सिंह ने भाजपा की इस सीट पर वापसी करायी. लगातार तीन चुनाव से जीत रहे हैं. यहां वाम दलें जो एक समय काफी ताकतवर थीं, अब काफी कमजोर हो गयी हैं. कांग्रेस भी गठबंधन के सहारे ही चुनावी समर में उतरती रही है.

Also Read : लोकसभा चुनाव: मोदी लहर में भी झामुमो ने जीती राजमहल सीट, विजय हांसदा ने लहराया परचम

इंडिया गठबंधन से कांग्रेस के खाते में जा सकती है लोकसभा सीट

धनबाद सीट के इंडिया गठबंधन की ओर से कांग्रेस के खाते में जाने की ज्यादा संभावना है. यहां से कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर, पूर्व मंत्री जलेश्वर महतो, प्रदेश उपाध्यक्ष अजय दुबे, ब्रजेंद्र प्रसाद सिंह, महासचिव विजय कुमार सिंह, पूर्व जिप सदस्य अशोक सिंह सहित कई नेताओं के नाम चल रहे हैं. वाम संगठनों की ओर से भी इस सीट पर दावा किया जा रहा है. मासस इस सीट से लड़ना चाह रही है. झामुमो और राजद के नेता चुप हैं. उनकी ओर खुलासा नहीं किया जा रहा है.

धनबाद की 6 में से 5 विधानसभा सीट पर भाजपा का कब्जा

धनबाद लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत छह विधानसभा क्षेत्र धनबाद, झरिया, सिंदरी, निरसा, बोकारो एवं चंदनकियारी हैं. इसमें से झरिया को छोड़ कर सभी पांच विधानसभा सीटों पर भाजपा का कब्जा है. यहां टिकट के लिए सबसे ज्यादा मारामारी भी भाजपा में ही है. यहां से भाजपा के टिकट के लिए वर्तमान सांसद पीएन सिंह के अलावा धनबाद के विधायक राज सिन्हा, पूर्व मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल, निरसा की विधायक अपर्णा सेनगुप्ता, बाघमारा के विधायक ढुलू महतो, प्रदेश मंत्री गणेश मिश्र, सरोज सिंह, प्रवक्ता विनय सिंह, विजय पांडेय सहित कई नाम चल रहे हैं. यहां किसी नये चेहरे पर भी भाजपा दांव लगा सकती है.

Also Read : हजारीबाग लोकसभा क्षेत्र में चुनाव संचालन के लिए भाजपा ने बनायी कमेटी, दिये सफलता के मंत्र

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें