25.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

Delhi Liquor Scam: बीआरएस नेता के. कविता को नहीं मिली अंतरिम जमानत, बेटे की परीक्षा की कही थी बात

Delhi Liquor Scam: भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) की नेता के. कविता अंतरिम जमानत कोर्ट ने नहीं दी है. जानें कविता ने किस चीज का दिया था हवाला

Delhi Liquor Scam: दिल्ली की एक अदालत ने दिल्ली आबकारी नीति से संबंधित धन शोधन मामले में भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) की नेता के. कविता को अंतरिम जमानत देने से सोमवार को इनकार कर दिया. विशेष न्यायाधीश कावेरी बावेजा ने याचिका खारिज करते हुए कहा कि यह उन्हें अंतरिम जमानत देने का उचित समय नहीं है. कविता ने अदालत से अंतरिम जमानत दिए जाने का आग्रह करते हुए कहा था कि उनके 16 वर्षीय बेटे की परीक्षाएं हैं और उसे अपनी मां के ‘‘नैतिक और भावनात्मक समर्थन’’ की जरूरत है.

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने इस दलील का विरोध करते हुए दावा किया कि कविता ने मामले में सबूत नष्ट किए और गवाहों को प्रभावित किया. एजेंसी ने आरोप लगाया है कि कविता उस ‘साउथ ग्रुप’ की प्रमुख सदस्य थीं, जिस पर राष्ट्रीय राजधानी में शराब लाइसेंस के एक बड़े हिस्से के बदले दिल्ली में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) को 100 करोड़ रुपये की रिश्वत देने का आरोप है. कविता (46) को बीआरएस समर्थकों के विरोध प्रदर्शन के बीच 15 मार्च को हैदराबाद स्थित उनके बंजारा हिल्स आवास से गिरफ्तार किया गया था.

Also Read : Delhi Liquor Scam: ED का आरोप, के कविता ने AAP नेताओं को दिए 100 करोड़ रुपये

इसके बाद उन्हें अगले दिन सात दिन की प्रवर्तन निदेशालय की हिरासत में भेज दिया गया. बाद में हिरासत में पूछताछ के लिए यह अवधि तीन दिन और बढ़ा दी गई. कविता को पिछले मंगलवार को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था.

क्या कहा था के. कविता ने

आपको बता दें कि के. कविता कह चुकीं हैं कि उन्होंने कुछ भी गलत नहीं किया है. उन्होंने आरोप लगाया था कि केंद्र सरकार ईडी का इस्तेमाल कर रही है. आम आदमी पार्टी ने आरोप लगाया कि भाजपा राजनीतिक विरोधियों को खत्म करने के लिए ईडी और सीबीआई को अपने गुंडों के रूप में इस्तेमाल कर रही है.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें

ऐप पर पढें